विज्ञापन

0
व्यापक अर्थों भरा है रक्षाबंधन पर्व
व्यापक अर्थों भरा है रक्षाबंधन पर्व

  डॉ0 दीपक आचार्य   आज रक्षाबंधन है। यह पर्व केवल भाई-बहनों से संबंधित ही नहीं है बल्कि रक्षाबंधन...

आगे पढ़ें

0
हिन्दी नाटक : क्रमिक विकास
हिन्दी नाटक : क्रमिक विकास

स्वप्न नायर कोयमबत्तूर कर्पगम विश्वविद्यालय में डॉ.के.पी. पद्मावती अम्मा के मार्ग दर्शन में पी.एच...

आगे पढ़ें

0
समीक्षा - चलो गांव की ओर:एक अभियान
समीक्षा - चलो गांव की ओर:एक अभियान

कुमार कृष्णन आजादी के बाद जिस अनुपात में महानगरों से लेकर छोटे—छोटे कस्बों का विकास हुआ उस अनुपात ...

आगे पढ़ें

0
जनसँख्या के धार्मिक आंकड़े को कृपया बारूद न बनाइयेगा...
जनसँख्या के धार्मिक आंकड़े को कृपया बारूद न बनाइयेगा...

-लोकमित्र पहले से ही लगाए जा रहे तमाम कयासों के बीच अंततःकेंद्र सरकार ने 25 अगस्त 2015 को सन 2011...

आगे पढ़ें

0
एक लेखक के रूप में डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम
एक लेखक के रूप में डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

इंजी विवेक रंजन श्रीवास्तव विनम्र         शाश्वत सत्य है शब्द मरते नहीं . इसीलिये शब्द को हमारी सं...

आगे पढ़ें

0
साजिश से कम नहीं बातों से बहलाना
साजिश से कम नहीं बातों से बहलाना

  डॉ0 दीपक आचार्य   इंसान को उसकी पूरी क्षमता से काम करने की स्वतंत्रता मिल जाए, अभावों और समस्या...

आगे पढ़ें
 
 
Top