मंगलवार, 16 जनवरी 2018

संस्मरण: दिल्ली यात्रा // दिल की डोर और पुस्तक मेले की पतंग // डॉ.अर्पण जैन 'अविचल'

संस्मरण: दिल्ली यात्रा दिल की डोर और पुस्तक मेले की पतंग डॉ.अर्पण जैन ' अविचल ' मथुरा से फरीदाबाद और फिर हजरत निजामुद्दीन होते हुए न...

लघुकथा // जीवन-संघर्ष // योगेश किनकर

जिंदगी चलने का नाम है, ढेर-सा प्यार तो कभी गम हजार। लेकिन इस सब के बीच जिसने सामंजस्य बिठा लिया समझो उसने जिंदगी का अहम अध्याय सीख लिया। और ...

व्यंग्य // रंगों की रंगदारी – रंग गेरुआ // डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

रंग हैं तो रंगरेज़ भी हैं और रंगरेजों का काम रंगना है। रंगने के इस कार्य को आप रंगदारी भी कह सकते हैं। लेकिन रंगदारी सिर्फ रंगने का कार्य ही ...

सोमवार, 15 जनवरी 2018

लक्ष्मीकांत मुकुल की पंद्रह कवितायें

इतिहास  का गढ़ पहले पहल बगीचे में जाते हुए पहली ही बार हमें दिखा था मूंजों से ढंका रेड़ों से जाने कब का लदा खेतबारी के पास यूँ ही खड़ा पड़...

संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 7 - अभिशप्त हैं हम // डॉ लता अग्रवाल

प्रविष्टि क्र 7 (थर्ड जेंडर पर संस्मरणात्मक कहानी ) अभिशप्त हैं हम डॉ लता अग्रवाल यात्रियों से ठसाठस भरी बस में मेरी निगाह अपने लिए थोड़ी सी ...

संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 6 - यात्रा संस्‍मरण - तीर्थों का दान - डॉ लता अग्रवाल

प्रविष्टि क्र. 6 १. तीर्थों का दान डॉ़. लता अग्रवाल जीवन भी एक यात्रा है जिसमें हम विविध पड़ावों से गुजरते हैं, आँसू और मुस्‍कुराहटों से भर...

संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 5 - जीवन और मृत्यु के उत्सव का शहर- बनारस.. // वन्दना अवस्थी दुबे

प्रविष्टि क्र. 5 जीवन और मृत्यु के उत्सव का शहर- बनारस.. वन्दना अवस्थी दुबे पिछले दिनों बनारस जाना हुआ. कई दिनों से बनारस के अनुभव लिखना चाह...