गुरुवार, 21 सितंबर 2017

'छबीला रंगबाज का शहर' का लोकार्पण

दिल्ली। हमारे चरित्रहीन समय में बड़े चरित्रों का बनना बंद हो गया है इसलिए परिवेश ने अब चरित्रों का स्थान ले लिया है। 'छबीला रंगबाज का शह...

बुधवार, 20 सितंबर 2017

सुपरिचित फिल्मकार गौहर रज़ा की सद्य प्रकाशित नज़्म पुस्तक 'खामोशी' का लोकार्पण

नई दिल्ली ९ सितम्बर २०१७ कवि और सुपरिचित फिल्मकार गौहर रज़ा की सद्य प्रकाशित नज़्म पुस्तक 'खामोशी' का लोकार्पण शनिवार को इंडिया इंटरने...

एकांकी // एक मनहूस दिन // डॉ. हरिश्चंद्र शाक्य

डॉ. हरिश्चंद्र शाक्य का एकांकी संग्रह - घूमती दुनिया तथा अन्य एकांकी एक उम्दा एकांकी संग्रह है, और सभी एकांकी मंचनीय हैं. भाषा सरल और एकांकी...

मंगलवार, 19 सितंबर 2017

हास्य कविताएँ : 3 – कैलेन्डर की आखिरी तारीख : महेश संतुष्ट

आदमी भीड के आवागमन में भीड का अंश हो गया-आदमी लगता है लम्बी भीड़ में भेड हो गया है'-आदमी । भयंकर रेल दुर्धटना के बाद बिखरी हुई लाश...

सोमवार, 18 सितंबर 2017

रैवन की लोककथाएँ - 2 - : 20 जब रैवन मारा गया // सुषमा गुप्ता

रैवन ने बहुत दिनों तक बहुत बार बहुत सारे आदमियों के साथ बहुत चालाकियाँ खेलीं। उसकी चालाकियों से तंग आ कर एक दिन एक गाँव के एक सरदार ने उसको...

रैवन की लोककथाएँ - 2 - : 19 एक बूढ़े पति पत्नी और जूता बनाने वाले // सुषमा गुप्ता

एक बुढ़िया अपने पति के साथ यूपिक के टैकैक गाँव में रहती थी। वे लोग अपनी रोटी कमाने के लिये खालों के जूते बनाने का काम किया करते थे। वे लोग जू...

रैवन की लोककथाएँ - 2 - : 18 जिराल्डा का रैवन // सुषमा गुप्ता

एक बार की बात है कि स्पेन देश के सेविल शहर के कैथैड्रल की मूरिश के समय में बनी घंटे वाली मीनार जिराल्डा पर एक बहुत ही अक्लमन्द रैवन रहता था...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------