शुक्रवार, 30 सितंबर 2005

कहानी : आत्म-समर्पण

संजय विद्रोही 'सुनो कँवर साब आज एक अजीब बात सुनी है.' पापाजी ने आकर बैठते हुए कहा. 'क्या पापाजी?' परेश ने कुर्सी की तरफ ...

गुरुवार, 29 सितंबर 2005

हास्य-व्यंग्य : स्त्री स्तोत्र

-भारतेंदु हरिश्चंद्र इस पूजा में अश्रु जल ही पाद्य है, दीर्घश्वास ही अर्ध्य है, आश्वासन ही आचमन है, मधुर भाषण ही मधुपर्क है, सुवर्णालंकार ...

बुधवार, 28 सितंबर 2005

रचनाकार को अपना अमूल्य सहयोग दें...

रचनाकार में प्रकाशनार्थ हर विधा की रचनाओं का सदैव स्वागत है. रचना किसी भी फ़ॉन्ट में भेजी जा सकती है, किंतु रोमन लिपि में रचनाएँ न भेजें...

मंगलवार, 27 सितंबर 2005

रामनारायण मिश्र की कहानी : मंगल सूत्र

**-** कहानी : मंगलसूत्र - रामनारायण मिश्र चिलचिलाती गर्मी के सन्नाटे ने एक रहस्यमयी उदासी की मानिन्द पूरे वातावरण को घेर रखा था. विचित्र ...

गुरुवार, 22 सितंबर 2005

कथाकार-उपन्यासकार हृदयेश का हृदय को बींधता संस्मरण

**-** आत्म-कथ्य : हृदयेश ने हड्डियाँ निकलवा दी हैं, चोट नहीं लगती. **-** -हृदयेश हृदयेश ग्यारह बजे के आसपास बाहर आ गए थे, सड़क पर, डाक क...

मंगलवार, 20 सितंबर 2005

आलेख : मस्जिद में हिन्दू, मन्दिर में मुसलमान

वही है धर्म-ईमान -स्वामी वाहिद काज़मी मुमकिन है शीर्षक पढ़ते ही कुछ पाठकों के मन में विचार उठे कि आगे शायद कुछ कविता जैसी चर्चा होगी। नह...

सोमवार, 19 सितंबर 2005

मोहन द्विवेदी की हास्य - व्यंग्य कविताएँ

हास्य - व्यंग्य कविताएँ **-** पीर हरो नेताजी! **.** भूखी आँखें सूखे ओंठ देख रहे हैं तेरी ओर, इनकी पीर हरो नेताजी।। शादी को है घर में बाल...

शनिवार, 17 सितंबर 2005

मोहन द्विवेदी की दो कविताएँ

मोहन द्विवेदी की दो कविताएँ : जब चला था छोड़कर **-** उस रास्ते के मोड़ को जब मैं चला था छोड़कर संबंध अभिशापित हुए अनुबंध सारे तोड़कर। धू...

शनिवार, 10 सितंबर 2005

व्यंग्यः सर को क्यों न किया जाए बेअसर?

- राजकुमार कुम्भज अपने आका को ‘सर’ कहने की प्रथा का आविष्कार अंग्रेज़ों ने किया. हम भारतीयों में अपने आकाओं को ‘सर’ कहने की प्रथा को प्रति...

शुक्रवार, 9 सितंबर 2005

भारतेंदु हरिश्चन्द्र की दो हज़लें (हास्य ग़ज़लें)

हिन्दी साहित्य के पितामह भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की दो हास्य ग़ज़लें **-** (भारतेन्दु हरिश्चन्द्र संस्कृत, उर्दू, गुजराती, पंजाबी, मराठी, बँगल...

गुरुवार, 8 सितंबर 2005

पुष्पा रघु की कहानीः बन्द गली का द्वार

**-** बन्द गली का द्वार -पुष्पा रघु ‘ट्रिन-ट्रिन-ट्रिन’ फोन की घंटी बजी तो सुजाता यह कहते हुए लपकी - ‘लंबी घंटी है. लगता है कहीं दूर का...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------