शनिवार, 3 सितंबर 2005

हितोपदेश से कुछ कहानियाँ

--.--
लालच बुरी बला
--.--
बहुत पुरानी बात है. कल्याण नगर में भैरव नाम का एक शिकारी रहता था. वह प्रतिदिन धनुष बाण लेकर वन में शिकार के लिए जाता था और जंगली जानवरों का शिकार करता था. यही उसकी आजीविका का साधन था.

एक दिन भैरव शिकारी ने वन में सदा की तरह एक मृग का शिकार किया. मृग बड़ा ही हृष्ट-पुष्ट था. शिकारी उसे अपने कंधे पर लाद कर अपने घर की ओर चल पड़ा. उसने अभी आधा रास्ता ही पार किया था कि एक बन-सूअर ने उस पर आक्रमण किया. जैसे तैसे शिकारी ने उसका सामना किया और अपने तीर से उस सूअर को मार गिराया. परंतु इस लड़ाई में वह भी भीषण रूप से घायल हो गया और अंततः उसके भी प्राण पखेरू वहीं उड़ गए.

संयोग से उसी समय एक गीदड़ निकला. मार्ग में तीन ताज़ी लाशें देखकर उसका मन प्रसन्नता से भर गया. वह मन ही मन प्रसन्न होता हुआ सोचने लगा- इतना सारा भोजन एक साथ. अब तो तीन-चार मास तक भोजन की चिंता से छुटकारा मिल गया.

उसका लालच कम नहीं हुआ. वह सोचने लगा इस विशाल मात्रा में प्राप्त भोजन को आराम से महीनों तक धीरे -धीरे हिसाब से ही खाएगा. यही सोच कर उसने धनुष की खिंची हुई चमड़े की प्रत्यंचा को खाना प्रारंभ किया. जैसे ही प्रत्यंचा का कुछ हिस्सा उसने खाया, और वह नाजुक होकर तनाव से छूटा, धनुष का नोक उसके जिगर में घुस गया.

वह भी तड़प-तड़प कर वहीं मर गया.

जो लोग अधिक जमा करने के लालच में अपनी बुद्धि खो देते हैं, वे उसका उपभोग तो कर ही नहीं पाते हैं, गीदड़ की भांति उन्हें भी अपने प्राणों से हाथ धोना पड़ता है.

-..-
जाके काम उसे सुहावै
--..--
बनारस में एक धोबी रहता था. उसके पास एक गधा और एक कुत्ता था. गधा धोबी के कपड़े घाट से लाने ले जाने का काम करता था. कुत्ता रात के वक्त पहरा दिया करता था और भौंक भौंक कर चोरों को डरा कर भगाया करता था.

परंतु धोबी सोचता था कि कुत्ता नाहक ही भौंका करता है. इसी लिए वह कुत्ते को बासी रोटी के टुकड़े ही डालता था. जाड़े की एक अंधेरी रात को धोबी के घर में एक चोर घुस आया. गधा और कुत्ता दोनों ही जाग रहे थे. आम दिनों की तरह कुत्ते ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. गधा कुत्ते से बोला - क्यों भाई कुत्ते, मालिक के घर में चोर घुसा है और तुम चुपचाप पड़े हो. भौंक कर मालिक को जगाते और चोर को भगाते क्यों नहीं हो.

कुत्ता बोला- चुप न रहूँ तो क्या करूं. जिंदगी भर रात-रात जाग कर पहरा देता हूँ तब भी मालिक मुझे क्या देता है - ठीक से खाने को भी नहीं. आज जब चोर सारा सामान चोरी कर लेगा तब उसे पता चलेगा कि मेरी अहमियत क्या थी.

गधे को कुत्ते की बात नागवार गुजरी. उसने कहा कि वह तो मालिक की ऐसी हानि नहीं होने देगा. उसने कुत्ते से कहा भले ही तुम भौंक कर न जगाओ, मैं रेंक-रेंक कर मालिक को जगाता हूँ और चोरों को भगाता हूं. ऐसा कह कर गधा अपनी पूरी ताकत से रेंकने लगा.

गधे की जानलेवा रेंक सुन कर चोर तो नौ-दो-ग्यारह हो गए, परंतु मालिक की नींद गधे के इस कोलाहल से टूट गई. उसे यह जरा भी इलहाम नहीं था कि गधा चोरों को बचाने के लिए रेंक रहा था. मालिक को लगा कि गधा शैतानियत से नाहक बिलबिलाकर उसके आराम में खलल डाल रहा है. इसी लिए उसने एक मोटे से डंडे से गधे की तबीयत से धुनाई कर दी.

उस अधमरे गधे की गति यह दर्शाती है कि जिसका जो काम है, वह काम उसी को करना चाहिए. इसके विरुद्ध आचरण करने से दुःख का भागी बनना पड़ता है.

-.-
सच्ची संगति साधु की
-.-
बहुत दिनों पहले की बात है. उज्जयिनी के पास पीपल के एक विशाल वृक्ष पर एक कौवा और एक हंस पड़ोसी की तरह रहा करते थे. थे तो वे पड़ोसी परंतु दोनों की प्रकृति में बहुत अंतर था. कौवा कुटिल था, हंस साधु था.

एक दिन दोपहर को, जब सूर्य अपनी तीव्र गर्म किरणों की अग्निवर्षा कर रहा था, एक शिकारी थका मांदा, धूप से व्याकुल आया और उस पीपल के वृक्ष के नीचे लेट गया. पीपल के पत्तों के बीच में से घूप छन कर शिकारी के मुँह में पड़ रही थी, इससे वह और हलाकान हो रहा था. हंस के मन में दया आई और उसने पीपल के पत्तों के बीच में से अपने डैने फैला दिए ताकि शिकारी के मुख को कुछ छाया मिल सके.

कौवा हंस के इस सज्जनतापूर्वक कार्य को देख जल भुन गया. वह नीचे गया और शिकारी के मुँह पर बीट कर तेज़ी से उ़ड़ गया.

मुख पर बीट पड़ने से शिकारी की नींद उड़ गई. उसने ऊपर देखा कि हंस डाल पर बैठा है. शिकारी को भान हुआ कि हो न हो इसी ने बीट किया है. बस उसने धनुष बाण उठाया, निशाना लगाया और हंस को मार गिराया.

जो लोग दुष्टों की संगत में रहते हैं वे हमेशा, उस हंस की तरह दुख भोगते हैं.
--.—
हितोपदेश की साठ से अधिक शिक्षाप्रद कहानियाँ समस्त विश्व में अपने तरह की, अलग किस्म की कहानियाँ हैं जिनकी कहीं मिसाल नहीं मिलती, और जो मनुष्यों को सदियों से उनके जीवन मूल्यों को सिखाने के काम आ रही हैं.

2 blogger-facebook:

  1. हरि खनाल, नेपाल3:50 pm

    एह कहानी वहुत अच्छा है, ऐसे कहानी पड्कर नैतिक आदर्शका गुण बढसक्ता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------