शनिवार, 10 सितंबर 2005

व्यंग्यः सर को क्यों न किया जाए बेअसर?

- राजकुमार कुम्भज

अपने आका को ‘सर’ कहने की प्रथा का आविष्कार अंग्रेज़ों ने किया. हम भारतीयों में अपने आकाओं को ‘सर’ कहने की प्रथा को प्रतिष्ठित करने का श्रेय भी अंग्रेजों को ही जाता है. अंग्रेज़ों ने हम भारतीयों पर बड़ा उपकार किया, जो वे यहाँ आए, दो सौ बरस तक हमें दास बनाए रखा और अपने आकाओं-चाकरों को ‘सर’ कहने-कहलाने की सीख दे गए. अगर अंग्रेज भारत नहीं आते, हमें दास नहीं बनाते, हम पर कोड़े नहीं बरसाते, तो हम अपने सिर में ‘सर’ कैसे घुसा पाते? अब तो हर तरफ़ ‘सर’ ही ‘सर’ दिखाई देते हैं. ऐसे में कभी किसी को लगता नहीं क्या कि अब ‘सर’ का सर कलम करने का समय आ चुका है.

हमारे प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह ऑक्सफ़ोर्ड जाकर अंग्रेजों की प्रशंसा कर आए. हमें भी करना चाहिए. हमारे प्रधान मंत्री हमारे ‘सर’ हैं. उधर हमारे ‘सर’ के भी कई-कई ‘सर’ हैं. जैसे – लालू ‘सर’, पासवान ‘सर’, सुरजीत ‘सर’, येचुरी-करात ‘सर’ वग़ैरा वग़ैरा. ‘सर’ कहते रहने के अनेकानेक लाभ हैं. पाँव में रहने का दासत्व स्वीकारने वाला जूता कभी क्रांतिकारी बन कर किसी ‘सर’ के सिर की कपाल क्रिया कर सकता है. अतः जो महानुभाव अपनी कपाल क्रिया करवाने से बचे रहना चाहते हैं वे अपने आकाओं को अदब से ‘सर’ कहना न छोड़ें. इस मूल मंत्र का ध्यान हमेशा रखें-

सौ बला की एक बला
‘सर’ कहा तो सब भला
और इसी में भाई बाबा-
बोतलदास का भी भला

मनुष्यता का अस्तित्व कहीं हो या न हो, किंतु ‘सर’ का अस्तित्व हर कहीं सहज ही उपलब्ध है. मुंशी मुनीम को ‘सर’ कहता है, मुनीम मालिक को ‘सर’ कहता है, मालिक ग्राहक को ‘सर’ कहता है, ग्राहक बैंक-मैनेजर को ‘सर’ कहता है, बैंक-मैनेजर, म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन के दारोग़ा को ‘सर’ कहता है, दारोग़ा अपने बॉस को सर कहता है और बॉस, इलेक्शन में जीते मुंशी को ‘सर’ कहता है. सर कहने का यह चक्र बड़ा लंबा और सर्वव्यापी है. ‘सर’ आदि है, अनादि है. ‘सर’ अनंत है. ‘सर’ अमर है. संसार भले ही असत्य लगे, मिथ्या लगे, परंतु ‘सर’ अकाट्य सत्य है- वैसे ही- जैसे राम नाम सत्य है.

‘सर’ कहना आधुनिकता है या पिछड़ापन? गांव का पिछड़ा ‘सर’ को नहीं जानता. लिहाजा, ‘सर’ कहना अवश्य ही आधुनिकता है. जो पिछड़े हैं वे अपने आका को ‘सर’ नहीं कहते हैं- पर जो आधुनिक हैं वे ‘सर’ कह-कह कर अपने आकाओं का सिर खा जाते हैं. ‘सर’ कहने कहलाने वालों का कर्तव्य है कि वे इससे मुक्ति पाने का प्रयास कभी नहीं करें. ऑस्ट्रेलिया के लोग तो पिछड़े हैं जिन्होंने ‘सर’ कहने-कहलाने से मुक्ति पा ली है. वहाँ ‘सर’ की बजाए ‘मेट’ बोला जाता है, जिसका अर्थ होता है ‘साथी’. किसी समय वहां के कुछ आधुनिक सांसदों-मंत्रियों तथा अन्य नौकरशाहों को अपने सुरक्षा कर्मियों – ड्राइवरों द्वारा ‘मेट’ पुकारा जाना चुभने लगा तो आदेश जारी कर दिया गया कि ‘मेट’ नहीं ‘सर’ पुकारा जाए. पर इस आदेश के विरूद्ध समूचा ऑस्ट्रेलिया सिर के बल खड़ा हो गया. हंगामा खड़ा हो गया कि क्यों किसी को ‘सर’ कहे? यह तो औपनिवेशिक मानसिकता है, जिसमें ‘सर’ सुनने वाला मालिक है और ‘सर’ कहने वाला ‘दास’. तब झख़ मारकर ऑस्ट्रेलियन सरकार को अपना आदेश वापस लेना पड़ा. वो तो पिछड़े लोग थे, ऑस्ट्रेलिया के, इसी लिए इस आदेश को वापस ले लिए. देखो, अपना भारत, कितना आधुनिक है, अभी भी ‘सर’ को सर पर पहने हुए शान से चल रहा है.
**-**

रचनाकार - राजकुमार कुम्भज जाने माने कवि-व्यंग्यकार हैं. आपकी कविताएँ तथा व्यंग्य रचनाएँ तमाम प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं.

1 blogger-facebook:

  1. अगर सर शब्द न होता हिन्दुस्तान के चाटुकारों का क्या होता?

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------