आलेख | उपन्यास | कविताएँ | कहानियाँ | कहानी-संग्रह | ग़ज़लें | चुटकुले | बाल-कथाएँ | लघुकथाएँ | व्यंग्य | संस्मरण | समीक्षाएं | हिन्दी ई बुक | रचनाकार को सहयोग दें

रचनाकार.ऑर्ग के लाखों पन्नों में सैकड़ों साहित्यकारों के हजारों रचनाओं में से अपनी मनपसंद विधा की रचनाएं ढूंढकर पढ़ें. इसके लिए नीचे दिए गए सर्च बक्से में खोज शब्द भर कर सर्च बटन पर क्लिक करें:
Custom Search

26 नवंबर 2005

अकबर बीरबल की कहानियाँ

**--**

बीरबल की खिचड़ी

एक दफा शहंशाह अकबर ने घोषणा की कि यदि कोई व्यक्ति सर्दी के मौसम में नर्मदा नदी के ठंडे पानी में घुटनों तक डूबा रह कर सारी रात गुजार देगा उसे भारी भरकम तोहफ़े से पुरस्कृत किया जाएगा.

एक गरीब धोबी ने अपनी गरीबी दूर करने की खातिर हिम्मत की और सारी रात नदी में घुटने पानी में ठिठुरते बिताई और जहाँपनाह से अपना ईनाम लेने पहुँचा.

बादशाह अकबर ने उससे पूछा – तुम कैसे सारी रात बिना सोए, खड़े-खड़े ही नदी में रात बिताए? तुम्हारे पास क्या सबूत है?

धोबी ने उत्तर दिया – जहाँपनाह, मैं सारी रात नदी छोर के महल के कमरे में जल रहे दीपक को देखता रहा और इस तरह जागते हुए सारी रात नदी के शीतल जल में गुजारी.

तो, इसका मतलब यह हुआ कि तुम महल के दीए की गरमी लेकर सारी रात पानी में खड़े रहे और ईनाम चाहते हो. सिपाहियों इसे जेल में बन्द कर दो - बादशाह ने क्रोधित होकर कहा.

बीरबल भी दरबार में था. उसे यह देख बुरा लगा कि बादशाह नाहक ही उस गरीब पर जुल्म कर रहे हैं. बीरबल दूसरे दिन दरबार में हाजिर नहीं हुआ, जबकि उस दिन दरबार की एक आवश्यक बैठक थी. बादशाह ने एक खादिम को बीरबल को बुलाने भेजा. खादिम ने लौटकर जवाब दिया – बीरबल खिचड़ी पका रहे हैं और वह खिचड़ी पकते ही उसे खाकर आएँगे.

जब बीरबल बहुत देर बाद भी नहीं आए तो बादशाह को बीरबल की चाल में कुछ सन्देह नजर आया. वे खुद तफतीश करने पहुँचे. बादशाह ने देखा कि एक बहुत लंबे से डंडे पर एक घड़ा बाँध कर उसे बहुत ऊँचा लटका दिया गया है और नीचे जरा सा आग जल रहा है. पास में बीरबल आराम से खटिए पर लेटे हुए हैं.

बादशाह ने तमककर पूछा – यह क्या तमाशा है? क्या ऐसी भी खिचड़ी पकती है?

बीरबल ने कहा - माफ करें, जहाँपनाह, जरूर पकेगी. वैसी ही पकेगी जैसी कि धोबी को महल के दीये की गरमी मिली थी.

बादशाह को बात समझ में आ गई. उन्होंने बीरबल को गले लगाया और धोबी को रिहा करने और उसे ईनाम देने का हुक्म दिया.


**-**

मासूम सज़ा

एक दिन बादशाह अकबर ने दरबार में आते ही दरबारियों से पूछा – किसी ने आज मेरी मूंछें नोचने की जुर्रत की. उसे क्या सज़ा दी जानी चाहिए.

दरबारियों में से किसी ने कहा – उसे सूली पर लटका देना चाहिए, किसी ने कहा उसे फांसी दे देनी चाहिए, किसी ने कहा उसका गर्दन धड़ से तत्काल उड़ा देना चाहिए.

बादशाह नाराज हुए. अंत में उन्होंने बीरबल से पूछा – तुमने कोई राय नहीं दी.

जहाँपनाह, खता माफ हो, इस गुनहगार को तो सज़ा के बजाए उपहार देना चाहिए – बीरबल ने जवाब दिया.

बादशाह हौले से मुसकराए – बोले क्या मतलब?

जहाँपनाह, जो व्यक्ति आपकी मूँछें नोचने की जुर्रत कर सकता है वह आपके शहजादे के सिवा कोई और हो ही नहीं सकता जो आपकी गोद में खेलता है. गोद में खेलते-खेलते उसने आज आपकी मूँछें नोच ली होंगी. उस मासूम को उसकी इस जुर्रत के बदले मिठाई खाने की मासूम सज़ा दी जानी चाहिए – बीरबल ने खुलासा किया.

बादशाह ने ठहाका लगाया और दरबारी बगलें झांकने लगे.

**--**
 सारा जग बेईमान! एक बार अकबर बादशाह ने बीरबल से शान से कहा - ''बीरबल! हमारी जनता बेहद ईमानदार है और हमें कितना बहुत प्यार करती है''

बीरबल ने तुरन्त उत्तर दिया-’‘बादशाह सलामत! आपके राज्य में कोई भी पूरी तरह ईमानदार नहीं है, न ही वो आपसे ज्यादा प्यार करती है।

‘‘यह तुम क्या कह रहे हो बीरबल?'' ?
मैं अपनी बात को साबित कर सकता हूं बादशाह सलामत !’‘
‘‘ठीक है, तुम हमें साबित करके दिखाओ।’‘ बादशाह अकबर बोले।

बीरबल ने नगर में ढिंढोरा पिटवा दिया कि बादशाह सलामत एक भोज करने जा रहे हैं। उसके लिए सारी प्रजा से अनुरोध है कि कल सुबह दिन निकलने से पहले हर आदमी एक-एक लोटा दूध डाल दे। कडाहे रखवा दिये गये हैं। उनमें हर आदमी दूध डाल जाये। हर आदमी ने यही सोचा कि जहां इतना दूध इकट्ठा होगा, वहां उसके एक लोटे पानी का क्या पता चलेगा? अत: हर आदमी कड़ाहों में पानी डाल गया।

सुबह जब अकबर ने उन कड़ाही को देखा, जिनमें जनता से दूध डालने को कहा गया था, तो दंग रह गये। उन कड़ाहों में तो केवल सफेद पानी था। अकबर को वस्तुस्थिति का पता चल गया.
--
चोर की दाढ़ी में तिनका
बादशाह अकबर बीरबल से अकसर अजीब सवाल तो पूछते ही थे लेकिन एक दिन उन्होंने बीरबल को छकाने की एक तरकीब खोज निकाली। उन्होंने अपनी बेशकीमती अंगूठी छिपाकर एक सरदार को दे दी और उससे बात छुपाकर रखने के लिए कहा। जब बीरबल उनके पास आए तो बादशाह ने कहा-''आज हमारी अंगूठी खो गई है। सुबह तो वह हमारे पास ही थी। शौच जाते वक्त मेंने उतार कर रखदी और जब वापस लौटा तो देखा कि अंगूठी गायब है। बीरबल चुपचाप सुनते रहे।

बादशाह ने आगे कहा-''मुझे यकीन है कि यह काम महल के ही किसी व्यक्ति का हुए। बाहरी आदमी ऐसी हिम्मत नहीं कर सकता। बीरबल! तुम ज्योतिषशास्त्र बखूबी जानते हो अतः चोर का पता लगाओ।''
बीरबल ने उस जगह का पता पूछा, जहां उन्होंने शौच जाने से पहले अंगूठी रखी थी।

बादशाह अकबर ने एक अलमारी की ओर इशारा किया। बीरबल ने उस अलमारी के पास जाकर उससे कान लगाकर कुछ देर बाद हटा लेने का नाटक किया। देखने से यह लगता था, जैसे वह कोई बात सुनने की कोशिश कर रहा है।''
कुछ देर बाद बीरबल ने बादशाह की तरफ देखकर कहा-''अलमारी साफ बताती है कि जिसके पास अंगूठी है, उसकी दाढी में तिनका है।'' बीरबल की बात को जब पास ही बैठे सरदार ने सुना, जिसको बादशाह ने अंगूठी दी थी, तो यह घबराकर अपना मुंह और दाढ़ी टटोलने लगा। बीरबल पहले से ही चोकन्ते थे। सरदार की हरकत उनसे छिपी नहीं रह सकी। फौरन ही बीरबल ने उस सरदार को पकडकर बादशाह के सामने पेश किया और कहा ''जहांपनाह, आपकी अंपूठी के चोर यही है,'' यह बात बादशाह पहले से ही जानते थे। वह बीरबल की इस चतुराई से बेहद खुश हुए।
--.
आदमी एक रूप तीन एक बार बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा- ‘‘क्या तुम हमें तीन तरह की खूबियां एक ही आदमी में दिखा सकते हो?''
‘‘जी हुजूर, पहली तोते की, दूसरी शेर की, तीसरी गधे की। परन्तु आज नहीं, कल। '' बीरबल ने कहा।
‘‘ठीक है, तुम्हें कल का समय दिया जाता है। '' बादशाह ने इजाजत देते हुए कहा।

अगले दिन बीरबल एक व्यक्ति को पालकी में डालकर लाया और उसे पालकी से बाहर निकाला। फिर उस आदमी को शराब का एक पैग दिया। शराब पीकर वह आदमी डरकर बादशाह से विनती करने लगा- ‘‘हुजूर! मुझे माफ कर दो। मैं एक बहुत गरीब आदमी हूं। ''
बीरबल ने बादशाह को बताया- ‘‘यह तोते की बोली है। ''

कुछ देर बाद उस आदमी को एक पैग और दिया तो वह नशे में बादशाह से बोला- '' अरे जाओ, तुम दिल्ली के बादशाह हो तो क्या, हम भी अपने घर के बादशाह हैं। हमें ज्यादा नखरे मत दिखाओ। ''
बीरबल ने बताया- ‘‘यह शेर की बोली है। '' कुछ देर बाद उस आदमी को एक पैग और दिया तो वह नशे में एक तरफ गिर गया और नशे में ऊटपटांग बड़बड़ाने लगा।

बीरबल ने उसे एक लात लगाते हुए बादशाह से कहा- ‘‘हुजूर! यह गधे की बोली है। ''
बादशाह बहुत खुश हुए। उन्होंने बीरबल को बहुत-सा इनाम दिया।
--
लहरें गिनना

एक दिन अकबर बादशाह के दरबार में एक व्यक्ति नौकरी मांगने के लिए अर्जी लेकर आया। उससे कुछ देर बातचीत करने के बाद बादशाह ने उसे चुंगी अधिकारी बना दिया।

बीरबल, जो पास ही बैठा था, यह सब देख रहा था। उस आदमी के जाने के बाद वह बोला- ‘‘यह आदमी जरूरत से ज्यादा चालाक जान पड़ता है। बेईमानी किये बिना नहीं रहेगा। ''

थोड़े ही समय के बाद अकबर बादशाह के पास उस आदमी की शिकायतें आने लगीं कि वह प्रजा को काफी परेशान करता है तथा रिश्वत लेता है। अकबर बादशाह ने उस आदमी का तबादला एक ऐसी जगह करने की सोची, जहां उसे किसी भी प्रकार की बेईमानी का मौका न मिले। उन्होंने उसे घुड़साल का मुंशी मुकर्रर कर दिया। उसका काम था घोड़ों की लीद उठवाना।

मुंशीजी ने वहां भी रिश्वत लेना आरम्भ कर दिया। मुंशीजी साईसों से कहने लगे कि तुम घोड़ों को दाना कम खिलाते हो, इसलिए मुझे लीद तौलने के लिए भेजा गया है। यदि तुम्हारी लीद तौल में कम बैठी तो अकबर बादशाह से शिकायत कर दूंगा। इस प्रकार मुंशीजी प्रत्येक घोड़े के हिसाब से एक रुपया लेने लगे।
अकबर बादशाह को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने मुंशीजी को यमुना की लहरें गिनने का काम दे दिया। वहां कोई रिश्वत व बेईमानी का मौका ही नहीं था।

लेकिन मुंशीजी ने वहां भी अपनी अक्त के घोड़े दौड़ा दिये। उन्होंने नावों को रोकना आरम्भ कर दिया कि नाव रोको, हम लहरें गिन रहे हैं। अत: नावों को दो-तीन दिन रुकना पड़ता था। नाव वाले बेचारे तंग आ गए। उन्होंने मुंशीजी को दस रुपये देना आरम्भ कर दिया।

अकबर बादशाह को जब इस बात का पता लगा तो उन्होंने लिखकर आज्ञा दी- ‘‘नावों को रोको मत, जाने दो?''
उस मुंशी ने उस लिखित में थोड़ा सुधार कर टंगवा दिया – नावों को रोको, मत जाने दो - और वसूली करने लगे.
अंततः बादशाह को उस मुंशी को सार्वजनिक सेवा से बाहर करना ही पड़ा.
--.
कौन किसका नौकरजब कभी दरबार में अकबर और बीरबल अकेले होते थे तो किसी न किसी बात पर बहस छिड़ जाती थी। एक दिन बादशाह अकबर बैंगन की सब्जी की खूब तारीफ कर रहे थे।
बीरबल भी बादशाह की हां में हां मिला रहे थे। इतना ही नहीं, वह अपनी तरफ से भी दो-चार वाक्य बैंगन की तारीफ में कह देते थे।

अचानक बादशाह अकबर के दिल में आया कि देखें बीरबल अपनी बात को कहां तक निभाते हैं- यह सोचकर बादशाह बीरबल के सामने बैंगन की बुराई करने लगे। बीरबल भी उनकी हां में हां मिलाने लगे कि बैंगन खाने से शारीरिक बीमारियाँ हो जाती हैं इत्यादि।

बीरबल की बात सुनकर बादशाह अकबर हैरान हो गए और बोले- ‘‘बीरबल! तुम्हारी इस बात का यकीन नहीं किया जा सकता। कभी तुम बैंगन की तारीफ करते हो और कभी बुराई करते हो। जब हमने इसकी तारीफ की तो तुमने भी इसकी तारीफ की और जब हमने इसकी बुराई की तो तुमने. भी इसकी बुराई की, आखिर ऐसा क्यों?''
बीरबल ने नरम लहजे में कहा- ‘‘बादशाह सलामत! मैं तो आपका नौकर हूं बैंगन का नौकर नहीं। ''

--
किसकी नेमत बादशाह अकबर प्राय: भेष बदलकर सैर के लिए निकला करते थे। एक दिन वह बीरबल के साथ भेष बदलकर शहर से बाहर एक गांव में पहुंचे। वहां बादशाह ने. देखा कि एक कुत्ता रोटी के टुकड़े को, जो कई दिनों की हो जाने की वजह से सूख कर काली पड़ गई थी, चबा-चबाकर खा रहा था। अचानक बादशाह को दिल्लगी करने की सूझी। वह बोले- ‘‘बीरबल! देखा, वह कुत्ता काली को खा रहा है। ''
'काली' बीरबल की मां का नाम था। वह समझ गये कि आलमपनाह दिल्लगी कर रहे हैं। किन्तु इस भावना को दबाकर वे तुरन्त बोले- '' आलमपनाह, उनके लिए वही जिन्दगी और नेमत हैं। ''
नेमत बादशाह की मां का नाम था। बीरबल के जवाब को सुनकर बादशाह को चुप हो जाना पड़ा।
--
--
कौन गधा तम्बाकू खाता है बीरबल तम्बाकू खाया करते थे, मगर अकबर बादशाह नहीं खाते थे। एक दिन अकबर बादशाह को लज्जित करने के लिए सैर का बहाना करके तम्बाकू के खेत में ले गए। वहां जाकर उन्होंने एक गधा खेत में चरने के लिए छुड़वा दिया। जब गधे ने तम्बाकू नहीं खाई तो अकबर बादशाह बोले- ‘‘बीरबल! देखो, तम्बाकू कैसी बुरी चीज है। इसे गधा तक नहीं खाता। ''

‘‘हां जहांपनाह! यह सच है, गधे तम्बाकू नहीं खाते, इनसान ही खाते हैं। '' बीरबल ने जवाब दिया।
बीरबल का यह कटाक्ष सुनकर बादशाह अकबर शर्म से पानी-पानी हो गए।
--
किसका अफसर
एक बार वजीर अबुल' फजल ने अकबर बादशाह के सामने बीरबल से कहा- ‘‘बीरबल, तुम्हें अकबर बादशाह ने सुअर और कुत्तों का अफसर नियुक्त किया है। ''

इस पर बीरबल ने कहा- ‘‘बहुत खूब, तब तो आपको भी मेरी आज्ञा में रहना पड़ेगा। ''
यह सुनते ही अकबर बादशाह हंस पड़े और वजीर अबुल फजल ने लज्जित होकर अपना सिर सुका लिया।
--
किसकी दाढ़ी की आगबादशाह अकबर की यह आदत थी कि वह अपने दरबारियों से तरह-तरह के प्रश्न किया करते थे। एक दिन बादशाह ने दरबारियों से प्रश्न किया- '' अगर सबकी दाढी में आग लग जाए, जिसमें मैं भी शामिल हूं तो पहले आप किसकी दाढी की आग बुझायेंगे?''
 
‘‘हुजूर की दाढी की। '' सभी सभासद एक साथ बोल पड़े।
मगर बीरबल ने कहा - ‘‘हुजूर, सबसे पहले मैं अपनी दाढी की आग बुझाऊंगा, फिर किसी और की दाढी की ओर देखूंगा। ''

बीरबल के उत्तर से बादशाह बहुत खुश हुए और बोले- ‘‘मुझे खुश करने के उद्देश्य से आप सब लोग झूठ बोल रहे थे। सच बात तो यह है कि हर आदमी पहले अपने बारे में सोचता है। ''

--

68 टिप्‍पणियां:

  1. आदित्य11:21 am

    और भी लिखें, अच्छी लगी। धन्यवाद ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेनामी4:33 pm

      वास्तव में बहुत अच्छी कहानी है

      हटाएं
  2. mujhe akbar aur birbal ki khaniyaan achchi lagti hai aur bhi khaniya likhe
    thanks for this story

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. mujhe akbar aur birbal ki khaniyaan achchi lagti hai aur bhi khaniya likhe
    thanks for this story

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अकबर बीरबल की कहानियाँ तो दुनियाँ को पसन्द हैं।

      हटाएं
  4. raviratlami ji,
    dhnyavaad. ye keval akbar - birbal ke kisse ya nok jhon naheen hain balkee inake andar gyan chhipa hai. birbal ki hazir jabaabi voh bhi satik sawal ke upar jabaab.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. मासूम सजा आज पहली बार पढ़ी, अच्छी लघुकथा.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. बेनामी4:57 pm

    i loved this story.... this was marvelous story

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. sonal3:48 pm

    koun gadha tanbaku nahi kahta pahali bar pada acha laga

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. sonal3:49 pm

    tamaku koun gaha nahi kahata pahli bar pada acha laga thaks

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. rishabh jain1:56 am

    25 saalo se akbar birbal ki kahaniyan padh rahe hai phir bhi wahi kahania baar baar padhne ka man karta. thanks for these stories

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. अपनी कहानियां और भी भ्रेजे।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. अपनी कहानियां और भी भ्रेजे।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. akbar aur birbal ki kahaniyaan aapko ek prerna pradan karti hain

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. akbar aur birbar ki kahaaniyan prerna pradan karti hain

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. बेनामी9:36 pm

    mazedar kahaniya hai..............

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. बेनामी2:48 pm

    mujhe bhi akber aur birbal ki kahani bahut-2 pyari lagati hai please aur likhe.

    Rupesh

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. बेनामी2:49 pm

    mujhe bhi akber aur birbal ki kahani bahut-2 pyari lagati hai please aur likhe.

    Rupesh

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. Ye keval akbar aur birbal k kisse nhi, balki hume inse bhut kuch shikhne ko m
    ila hai. Thanx...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. बेनामी5:17 pm

    anmol khazana.naayab tohfa.shukriya..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. kalpana4:45 pm

    its really very very gooooooooooooood..........

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. बेनामी5:25 pm

    this to good i am so happy to read it,really i have to say thanks for it.Thanks

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. पढकर बहुत अच्छा लगा:-)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. बेनामी3:07 pm

    beerbal is a wise man . bacchon ke liye shikshaprad kahani acchhia hai

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. बेनामी3:33 pm

    bhut acha laga en story ko pad kar

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. bhupender love4:38 pm

    super hit story i love story akber birble

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. All stories r not gd it's awesm very nice very very nice thanx

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. Ek baar Akbar ne Birbal se kuchh esa kehne ko kaha ki jise Gham me sun k khushi ho or khushime sun k Gham ho.
    Birbal ne kaha..Ye Waqt Guzar Jayega.

    GRV

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. ye sab khaniya ak se bad ker ak h inka koi jwab nhi h iske writer thanks ke bhagidar h

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. jitu modi11:34 pm

    My name JITU modi ahamdabad muje ye kahni sunkar maza aya

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. बेनामी2:40 pm

    My name moharpal singh

    i loev in store

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. mujhe akbar birbal ki khaniya bhut achhi lagti hai or aap or khaniya likhe

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  31. jyada kahanio ke liye iss link par jaye yaha aapko birbal ki or aneh gyan wardhak kahaniya mil jayyengi

    www.rdshayri.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु बेनामी टिप्पणियाँ बंद की गई हैं (आपको पंजीकृत उपयोगकर्ता होना आवश्यक है) तथा साथ ही टिप्पणियों का मॉडरेशन भी न चाहते हुए लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

कॉपीराइट

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

देखने में आया है कि हिंदी की कुछ तथाकथित साहित्यिक वेबसाइटें रचनाकार.ऑर्ग में प्रकाशित मैटर को बिना किसी अनुमति के जस का तस पुनर्प्रकाशित कर रही हैं. यह गलत है व घोर निंदनीय कृत्य है. वेबसाइट संचालकों से अनुरोध है कि कृपया ऐसा न करें. यदि जरूरी हो तो उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक अवश्य दें.

रचनाकार आपको पसंद है? फ़ेसबुक में इसे पसंद कर हमारा मान बढ़ाएँ.

प्रकाशनार्थ रचनाएं आमंत्रित हैं

रचनाकार में प्रकाशनार्थ हर विधा की रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचना rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. रचनाकार के लिए रचना भेजते समय कृपया इस कड़ी में दी गई बातों का ध्यान रखें.

ताज़ा रचनाएँ