नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ खोज कर पढ़ें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

आलेख : काग के भाग

साझा करें:

- जयप्रकाश मानस सृष्टि का सबसे बड़ा चमत्कार है- हर कृति का अनन्य एवं अनुपम स्वभाव । सबकी अपनी-अपनी अर्थवत्ता, अपना-अपना माहात्म्य । निरुद्...


- जयप्रकाश मानस

सृष्टि का सबसे बड़ा चमत्कार है- हर कृति का अनन्य एवं अनुपम स्वभाव । सबकी अपनी-अपनी अर्थवत्ता, अपना-अपना माहात्म्य । निरुद्देश्य कदाचित् कुछ भी नहीं । एक सर्वमान्य तथ्य यह भी-सर्वगुण संपन्न संज्ञा संसार में कहाँ कोई-

जड़ चेतन गुन-दोषमय बिस्व कीन्ह करतार ।
संत हंस गुन गहहि पय परिहरि वारि विकार ॥

वस्तुत: अभिमत, धारण, मंतव्य विचार या मूल्यांकन आदि भी निरपेक्ष नहीं होते । अर्थात् पूर्वाग्रह रहित स्थापना एक संभ्रम मात्र होता है । ऐसे में परस्पर सायास उपेक्षा-वृत्ति निजता की अस्वीकृति है और तथाकथित अवगुणों के तर्क पर किसी कृति विशेष का समग्रत:नकार सृष्टि का नकार भी है । समय की शृंखला को ही लीजिए-निशा जहाँ तिमिर का प्रतीक है, वहाँ वह साधकों के लिए निर्द्वंद्व एवं निस्संग वातावरण भी है । इतनी लम्बी भूमिका से सहमति के पश्चात् काग-प्रसंग में रस लेने का अवसर आप शायद ही खोना चाहेंगे । आपने तो कभी न कभी सुना होगा- 'काग के भाग बड़े सजनी, हरि हाथ सों ले गयो माखन रोटी ।' चलिए कागराज जी की जन्मपत्री ढूँढते हैं ।

दादा जी को पक्षियों में कबूतर पर अति विश्वास है । दाना चुगाकर वे आत्मतृप्त हो लेते हैं । दादीमाँ सुग्गे का आश्रय लेती है, उसके साथ वह अपनी मुक्ति के गीत जो दुहराती है-'कमलाबर, पक्षी जनम रु पारी कर ।' पिताजी को पंडूक से गहरा लगाव है, वह भरी दुपहरी, सुनसान खेत में अपनी उपस्थिति से उन्हें आश्वस्त करता है और माँ का आलंबन कागा जी । एक वही तो हैं, जिनका नाम धरते ही माँ का सारा संशय छूमंतर हो जाता है और चंचल-चपल शिशु जादुई अंदाज से हठ बिसार कर ग्रास ग्रहण कर लेता है –

करिया कउंआ आजा रे,
बुधवा कउंआ आजा रे ।
जंगाय हे मुन्ना राजा रे,
ए पंँ वरा ला खाजा रे ॥

(काले कौए आ जाओ, विद्वान् कौए आ जाओ । मुन्ना राजा नाराज है, इस ग्रास को खा जाओ ।)

मै अब तक बूझ नहीं पाया हूँ कि ऐसी जटिल मनोदशा की घड़ी में माँओं का साथ निभाने कौवे ही क्यों चले आते हैं ? अन्य पंछी क्यों नहीं ? यह यों ही है या नैमित्तिक । जो भी हो, वे पंछियों में हैं सौभाग्यशाली, जिनके नाम 'मनुष्य के लिये प्रथम परिचित विहंग' का पदक सुरक्षित है । मेरे अपने देश पे संदर्भ में तो ऐसा कहा ही जा सकता है, पश्चिम के देशों के बारे में मुझे पता नहीं । पश्चिम में माँंओं को इतनी फुर्सत कहाँ । वहाँ तो शिशु मंथली पेमेन्ट वाली आया-मदर से पलते हैं । पेमेन्ट से जननी खरीदी जा सकती है, ममता नहीं । पेमेंट से आंगन बनाया जा सकता है, पर ऑंगन में कौवे कैसे आयेंगे ?

कागा को समर्पित सामाजिक पदक पर आपत्तियाँ उठ सकती हैं कि-बच्चों की किलकारी का पहला प्रस्तावक गौरेय्या होती है, कागा नहीं । भाई साहब ! अच्छा होगा, अम्मा जी से ही पूछ लें । तनिक गंभीर गृहस्थ होकर ऑंगन में बिलम कर तो देख लें। सबसे पहले इस कविता को गूँजते हुए न पाएँ, तो मुझे जरूर कहें । मुझे तो माँ से सुनी यह कविता अब भी याद है –

कीची-काची कौआ खाये
दूध-भात मोर बाबू खाये ।

जमाने को कौआ नहीं, कोकिल से अनुराग है कि कोकिल के निमंत्रण पर बसंत पधारता है कि कोकिल प्रेम की अमराई में मादकता घोलता है कि कोकिल उदास यौवन के लिए कामासव बाँटता है कि कोकिल के बिना सारी दुनिया संत हो जाये । कागा की बिसात ही क्या है कोकिल के सामने ? चलो मान भी लेते हैं -कोकिल प्रेमिल काव्य है । कोकिल राग-रंग का संगीत है, पर संत को भी बसंत बनाने वाले स्वयं कोकिल का प्रेम कितना विश्वसनीय है ? उसका सारा प्रेम भोग की परिणति तक पहुँचते-पहुँचते उतर जाता है । प्रेम दायित्वहीन नहीं होता । दायित्वहीन प्रेम काम की उत्तेजना मात्र है । अपनी ही संतानों को अनाथ बना देने का कलंक कोकिल पर है, कागा पर नहीं । कागा तो अनाथों का नाथ है । औरों की औलादों को भी पालते- पोसते उसका जातीय प्रेम कम नहीं होता । संकट की घड़ी में आवाज दे कर पक्षी जाति को इकट्ठा करने वाला एक वही है । जीवधारी समाज में जैसा सतर्क कोई ढूँढे न मिले । सतर्कता की भाषा कड़वी होती है । कोकिल मिठलबरा है और कागा खरा । चंद दिनों के लिए मिसरी घोलना फिर गायब हो जाना मिठलबरा का ही लक्षण है । समाज को खरा चाहिए या मिठलबरा ?

खरापन संत का गुण है । संत समाज का नमक है । संत सिर्फ अपने लिए नहीं जीता । वह सबका संरक्षक होता है । सिध्दार्थ जब तक अपनों में धँसे रहे केवल सिध्दार्थ बने रहे । एक छोटी-सी रियासत कपिलवस्तु के राजपुँ वर बनकर । अपने-पराये की देहरी लाँघते ही वे भगवान गौतम बुध्द बन गये, समूचे विश्व के कंठहार । हो न हो कागा ने विचरण करते-करते 'जोगी मारा' या नेतनागर के बौध्द कानन में कभी 'बुध्दम् शरणम् गच्छामि'का मुक्ति राग सुन लिया हो और फिर बुध्दिश्रेष्ठ काग ने बुध्द को मन ही मन गुरु मान लिया हो । कागा शब्द के लिये संस्कृत भाषा में 'श्रावक' प्रयुक्त होता है । 'श्रावक'अर्थात् श्रवण करने वाला ।'श्रावक ' का एक अर्थ बौध्द सन्यासी भी होता है।

यह पृथ्वी कभी रसातल के केंचुल राजा गिचना के गिरफ्त में थी । उसे गिचना के उदर से मुक्त कराने में ईश्वर के दूत कौवे ने जिस तरह बुध्दि-चातुर्य प्रदर्शित किया था, उसकी अनुगूँज वाचिक परंपरा में हम आज भी सुन सकते हैं । उदासीन तो शिष्ट साहित्य है, जिसने कौवे की घोर उपेक्षा की । क्या यह लोक-दृष्टि में शिष्ट साहित्य की अशिष्टता नहीं ?
देवभाषा संस्कृत का संपूर्ण वाङ्मय पिक, शुक, सारिका, कपोत आदि विहंगों के लिये अनुग्रह रचता है । कागा का पक्ष रखने में वह एकबारगी अनुत्साही हो जाता है। क्या काग राज इतने उपेक्षित हैं ? कविता क्यों उन तक नहीं पहुँच सकी ? कवियों की वैष्णवता इसे ही कहते हैं ?
कविता एक आग्रह भी है, वैष्णवी आग्रह, जिसे खरा वैष्णव बनकर ही साधा जा सकता है । वैष्णव चोला धारण कर कोई कवि-सा दीख सकता है । स्पष्ट है, कवि कोई अभिनय की मुद्रा नहीं, यदि ऐसा होता, तो वेशभूषा की श्रेष्टता से श्रेष्ठ कविता सृजित होती । कविता कवि का विज्ञान है और यह विज्ञान वैष्णव बुध्दि से ही संभव है । दरअसल हृदय में एक निरंकुश सर्प छुपा बैठा रहता है । अवसर पाते ही वह फूंफकारने लगता है । यह अवचेतन मन में रचे-पचे संस्कार का प्रतिफल ही है जो अभिजन का प्रलाप भी छंद घोषित हो जाता है और अंत्यज का छन्द भी प्रलाप । जहाँ निम्न के प्रति कुशंका, अविश्वास एवं घृणा अभिजातों का दंभ मात्र है, वहीं तज्जनित प्रासंगिक आक्रोश, सामाजिक विद्रोह एवं पंथ-परिवर्तन की उत्तेजना अंत्यजों की कूंठा के अलावा कुछ भी नहीं । रामकथा के अमर गायक कागभुशुंडि की श्रेष्ठता पर उपजा पार्वती का संदेह केवल पार्वती का संदेह नहीं, उनके संस्कार का संदेह भी है । दरअसल यह समाज का संदेह है –

बिरति ग्यान विग्यान दृढ़ राम चरन अति नेह ।
वायस तन रघुपति भगति मोहि परम संदेह ॥

कागभुशुंडि के अनुताप से तुलसी का वैष्णव मन संतप्त हो उठा । एक सच्चा वैष्णव ही सांसारिक संदेहों के निराकरण में भावनात्मक तटस्थता की भूमिका को परख सकता है । उन्होंने सामाजिक संरचना की अंतर्लय को बाधित किये बिना सर्वप्रथम पक्षी प्रवर गरुड़ को कौए के द्वार तक पहुँचाया, वह भी पार्वती-पति शंकर के समाधानी संकेतों में-

राम भगति पथ परम प्रवीना । ग्यानी गुन गृह बहु कालीना ।
राम कथा सो कहइ निरंतर । सादर सुनहि विविध विहंगवर ।
जाइ सुनहु तहं गुन भूरी । होइ हि मोह जनित दु:ख दूरी ।

इस पर कागभुशुंडि की विनयशीलता तो देखिए, सदाशयता तो देखिए-वे उच्चपदधारी गरुड़ की न्यूनता स्वीकृति पर भी अपनी ज्येष्ठता को सर उठाने नहीं देते बल्कि गरुड़ की उपस्थिति को श्रीराम द्वारा सँजोया गया सत्संग का अवसर मान कर कृतकृत्य हो जाते हैं ।

जातीय या वर्गीय श्रेष्ठता तुच्छ होती है, सो तुलसीदास कागभुशुन्डि की प्रतिभा पर लोकनायक राम की मुहर लगाकर उसकी सामाजिक प्र्रतिष्ठा को परिपुष्ट कर देते हैं –

भगति ग्यान बिग्यान बिरागा । जोग चरित्र रहस्य विभागा ।
जानब तैं सबही कर भेदा । मम प्रसाद नहिं साधन खेदा ।

कौए को सदा दलित, दीन-हीन, अस्पृश्य मानकर उसकी प्रज्ञा को प्रतिक्षिप्त किया जाता रहा है । कौए का प्रत्यय निर्हेतुक विवादास्पद होता रहा है । समूची कौआ- जाति को छल-छद्म से वर्चस्ववादियों और वर्ण-भेदवादियों ने अपयश का पात्र सिध्द करने में कोई मौका नहीं छोड़ा । त्रेता में इन्द्र-पुत्र जयंत कौए का रूप धारण कर के जगन्माता सीता के पैरों पर चंचु प्रहार किए जाने को क्या मानें ? वनवासी राम में ईश्वरत्व-परीक्षण हेतु मात्र जयंत की मूढ़ता ! उसकी मूढ़ता में कौए के चरित्र-हनन की गूढ़ता की संभावना किंचित् भी नहीं ?
महाभारत के शांति-पर्व में कवि का हृदय कितना अशांत हो उठा था-

भक्षार्थ क्रीडनार्थ वा नरा वांच्छन्ति पक्षिणम्
तृतीयो नास्ति संयोगो बध वंधाध्दते क्षम:

कौए आदि पक्षियों के रुदन में मनुष्य भला कब सम्मिलित हुआ है ?
इधर कौओं की उपस्थिति निरन्तर क्षीण हो रही है, मनुष्य में संवेदना की तरह, राजनीति में ईमानदारी की तरह, समाज में आत्मीयता की तरह । न वह कवि के जनपद में दीखता है, न ही कविता के जनपद में । यदि कहीं वह है तो बचपन के स्मृति-गाछ की किसी शाख में टुकुर-टुकुर निहारता हुआ । अपनी विभिन्न भाव-भंगिमाओं के साथ कभी वह ऑंगन में तुलसी-चौरे में उतर आता है, मेरे लिये खास तौर पर बनी पनपुरुवा रोटी की ताक में, तो कभी वह मुँडेर पर बैठकर मामा जी के आने की खबर बाँचता है। सुबह-सुबह घर की मुंडेर पर कौए का बोलना शुभ-सूचक माना जाता है । लोक- विश्वास है यदि कौआ बोले, तो उस दिन परदेश गये कि सी अपने का घर आगमन होता है ।'काँव-काँव' की धुन विरही के लिए सरस आश्वासन का गीत है । प्रियतम का बाट जोहती प्रिया कौए से निवेदन करती है –

पैजनी गढ़ाई चोंच सोन में मढ़ाइ दैहौं
कर पर लाई पर रुचि सुधिरहौं ।
कहे कवि तोष छिन अटक न लैहौं कवौ
कंचन कटोरे अटा खीर भरि धरिहौं ।
ए रे काग तेरे सगुन संजोग आजु
मेरे पति आवैं तो वचन ते न टरिहौ ।
करती करार तौन पहिले करौंगी सब
अपने पिया को फिरि पाछे अंक भरिहों ।

कौआ भविष्यवक्ता है । उसके पूर्वाभास-ज्ञान के सामने वैज्ञानिक भी गँवार बन जाते हैं । इस अगम-ज्ञानी पंछी के संकेतों से माँ कभी-कभी चिंतित हो उठती । तंग हालत में पहुनाई से भला कौन आनंदित हो उठेगा, पर मैने माँ को एक भी बार कौवों को दुत्कारते हुए नहीं देखा ।
पितृपक्ष में जब माँ पत्तल में काकबलि के खीर, पुरी, बरा, भात-दाल, आम्मिला आदि षडरस व्यंजन परोस कर इधर आह्वान करती उधर कौए सदल-बल टूट पड़ते । वे भरपेट जीमते, फिर चोंच से उच्छिष्ट हटाने के लिए जमीन पर चोंच ठोंकते । मानो मुख- प्रक्षालन कर रहे हों । बाड़ी के अमरूद पेड़ पर बैठ कर दो-चार बार काँव-काँव करते । जैसे वे कृतज्ञता-ज्ञापन कर रहे हों । माँ के साथ हम तीनों भाई -बहनों को विश्वास होने लगता, जैसे वे हमारा कुशल-क्षेम पितरों तक पहुँचाने अब विदा माँग रहे हों । देखते ही देखते वे उड़ जाते । हम आकाश में उनके नहीं दिखाई देने तक देखते रहते ।

अभी-अभी तो पाठशाला पहुँचा था कि लो एक कौआ फिर आ गया,अपने बुध्दि-चातुर्य की कहानी सुनाने । गरमी का मौसम था । सभी नदियाँ, ताल-तलैये सूख गये थे । मैं बहुत तृषित था । पानी की तलाश में इधर-उधर उड़ता रहा । थक-हार कर एक पेड़ पर जा बैठा । मुझे एक कलसा दिखाई दिया । कलसा में पानी बहुत नीचे था । मेरी चोंच पानी तक नहीं पहुँच पा रही थी । मानस ! अब तुम ही बताओ, मैंने क्या किया होगा ?

तुम बिलकुल ठीक कह रहे हो- मैं आसपास बिखरे पड़े कंकड़-पत्थर चोंच से ला-लाकर कलसे में डालने लगा । बस क्या था ! पानी धीरे-धीरे घड़े के मुँह तक आ गया । मैं पानी पीकर परितृप्त हो गया ।

अब मैं बालक नहीं रहा । बालक का पिता हो गया, यानी पालक हो गया, लेकिन चतुर कौए की कहानी आज भी मेरे अंतस् के पृष्ठों में आलोकित है । कल ही की बात है । प्रगति बिटिया की किताब देख रहा था । ज्ञात हुआ-कौए का पाठ अब बच्चों को नहीं पढ़ाया जाता । अब किसी भी कक्षा की पाठयपुस्तक में कौए या ऐसी कोई प्रेरणात्मक कहानी पढ़ा कर सरकार बच्चों को चतुर नहीं बनाना चाहती । हाँ ! कौए की जगह आलू ने अवश्य ले ली है, जिसका स्वाद आप भी लीजिए-

काटा आलू
निकला भालू
या फिर उलझिये यहाँ -
ककड़ी पर आई मकड़ी
ककड़ी ने कहा -भाग,
मकड़ी ने मारी-लात,

बहुत अफसोस होता है हमारे शिक्षाविदों पर । शिक्षा को प्रयोगशाला में तब्दील कर दिया गया है । परिवर्तन के नाम सब कुछ बदल डालने में कौन-सी बुध्दिमत्ता है ? वायवी प्रसंगों वाली ऐसी तुकबंदियों से क्या भाषायी संस्कार या वैचारिक बुनियाद का गढ़ाव संभव है ? कल्पनाशक्ति को भोथरी करने वाली ऐसी पाठय-सामग्री का मतलब विद्यार्थी को उहापोह के गर्त में धकेलना है । ऐसी बिंबविहीन कविताओं से हमारे बच्चों के मन में कविता को हवामहल की चीज मानने का दृष्टिकोण विकसित नहीं होगा ? यह कविता के भविष्य को कूंठित करने का उपक्रम है और भविष्य की कविता को खंडित करने का अनुक्रम भी । कविता पर संकट सिर्फ कविता का संकट नहीं है, इसमें मानव जाति का संकट भी सम्मिलित है । मनुष्य तो होगा, पर नितांत एकांगी, अन्यमनस्क, मनहूस, स्वप्नविहीन और स्मृतिरहित ।
मुझे कोई आश्वस्त करेगा कि ब्रह्म-मुहूर्त का भान कराने को हमारे घरों की मुंडेर पर कौए आयेंगे ही और तब सारा पड़ोस जागेगा ही ?

**-**
रचनाकार – जयप्रकाश मानस छत्तीसगढ़ के मूर्धन्य साहित्यकार हैं. जयप्रकाश मानस की अन्य रचनाएँ जालस्थल - http://www.jayprakashmanas.info/ पर आप पढ़ सकते हैं.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$height=75

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$rm=1$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|उपन्यास_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|लोककथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$height=85

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3982,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2956,कहानी,2219,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,521,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1203,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1993,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,698,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,774,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: आलेख : काग के भाग
आलेख : काग के भाग
http://photos1.blogger.com/blogger/4284/450/320/kaga.jpg
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2005/12/blog-post_30.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2005/12/blog-post_30.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ