नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ खोज कर पढ़ें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

अनिल पांडेय का आलेख : देशी फिल्मों का कारोबार

साझा करें:

(पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विशेष संदर्भ में, करीब ढ़ाई महीने के दौरान अनिल पांडेय ने सराय – सीएसडीएस दिल्ली के स्वतंत्र फ़ेलोशिप के तहत जो शोध...

(पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विशेष संदर्भ में, करीब ढ़ाई महीने के दौरान अनिल पांडेय ने सराय – सीएसडीएस दिल्ली के स्वतंत्र फ़ेलोशिप के तहत जो शोध किया है उसका संक्षिप्त व रोचक विवरण, साभार प्रस्तुत है.)


आपने मशहूर फिल्म शोले जरूर देखी होगी। क्या आपने वह 'शोले' देखी है जिसमें बसंती तांगे की बजाय बुग्गी (भैंसा गाड़ी) पर और गब्बर सिंह घोड़े के बजाय गधों पर आता है? वह 'धूम' फिल्म देखी हैजिसमें हाइटेक चोर सुपर रेसर मोटर साइकिल की बजाय साइकिल पर आते हैं? या फिर बंटी और बबली को भैंस चुराते देखा है? नहीं देखी है तो जरूर देखिए। आप हँसते-हँसते लोट पोट हो जाएंगे। इस फिल्म का नाम है 'देशी शोले', देशी धूम' और 'यूपी के बंटी और बबली'। इन फिल्मों की सीडी आपको देश की राजधानी दिल्ली सहित हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कहीं भी मिल जाएगी। इतना ही नहीं बालीवुड की तमाम सुपरहिट फिल्मों के देशी संस्करण भी आपको यहां मिल जाएंगे। जी हाँ, हम बात कर रहे हैं देशी फिल्मों की।


संचार तकनीक के क्षेत्र में आई क्रांति ने लोगों को जन संचार माध्यमों के करीब लाने का काम किया है। अखबार, टेलीविजन और रेडियो तो घर-घर पहुंच ही चुका है, अब फिल्में भी लोगों के घरों तक पहुंच रही हैं। डीवीडी और वीसीडी ने घरों को 'होम थिएटरों' में तब्दील कर दिया है। संचारतकनीक के विकास ने देश भर में कई स्थानों पर 'नए बालीवुड' को जन्म दिया है। जहां अपनी भाषा और परिवेश को ध्यान में रखकर फिल्में बनाई जा रही हैं। देशी फिल्मों का यह सफर महाराष्ट्र के मालेगांव से शुरू होकर बाया दिल्ली मेरठ पहुंच गया है। इन देशी फिल्मों की खासियत यह होती हैकि मामूली बजट में तैयार ये फिल्में सिनेमाहाल में नहीं सीडी पर रीलीज होती हैं। यानी इन्हें सिर्फ सीडी प्लेयर के माध्यम से छोटे पर्दे पर देखा जा सकता है। ये फिल्में शहरों में कम गांवों में ज्यादा देखी जाती हैं।
देशी फिल्मों के लिहाज से बात करें तो ठेठ खड़ी हिंदी में संभवत: सबसे ज्यादा फिल्में बन रही हैं। इनमें से ज्यादातर फिल्में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बनाई जाती हैं। कुछ फिल्मों का निर्माण हरियाणा में भी होता है। इनमें से ज्यादातर फिल्में हास्य प्रधान होती हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ठेठभाषा इसके लिए सबसे उपयुक्त होती है क्योंकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश की भाषा गुदगुदी और चुटीली है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में देशी फिल्मों का कारोबार देश के दूसरे हिस्सों से शायद कहीं ज्यादा है।


मेरठ के केबल चैनलों के लिए कार्यक्रम निर्माण करने वाले अनीस भारती कहते हैं, ''मेरठ में हर महीने तकरीबन दर्जन भर नई फिल्में बन जाती हैं। करीब पचास हजार लागत वाली ये फिल्में डेढ़ से दो लाख का कारोबार कर लेती हैं।''


तीन-चार वर्षों में मेरठ में एक 'नए बालीवुड' का अवतार हुआ है। यह है 'देशी बालीवुड'। हम यहां इसी देशी बालीवुड की चर्चा कर रहे हैं। दिल्ली से सटे होने और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों के समृद्ध होने के कारण मेरठ में देशी फिल्म उद्योग के फलने-फूलने में मदद मिली है। देश की राजधानी दिल्ली में फिल्म निर्माण से संबंधित उपकरण व तकनीक आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। दूसरा कारण मेरठ का रंगमंच से गहरा जुड़ाव है। मेरठ के वरिष्ठ रंगकर्मी, फिल्म निर्माता, निर्देशक और सभासद जगजीत सिंह के मुताबिक मेरठ रंगकर्मियों का गढ़ रहा है। यहां के थिएटर से निकले तमाम कलाकारबालीवुड में काम कर रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों से यहां नाटय गतिविधियां बंद सी हो गई हैं।लिहाजा थिएटर से जुड़े लोगों ने देशी फिल्मों का निर्माण शुरू कर दिया। मशहूर निर्देशक केदार शर्मा के शागिर्द रह चुके जगजीत ने 'दोस्ती के हाथ' नामक हिंदी फिल्म का निर्माण किया है जो जल्दी ही रीलीज होने वाली है।


देशी फिल्मों को चार श्रेणी में बांटा जा सकता है। पहली श्रेणी में वे फिल्में आती हैं जो बालीवुडफिल्मों का देशी रूपांतरण होती हैं। ऐसी फिल्मों की भरमार है। मशहूर फिल्म शोले पर आधारित अब तक यहां तीन फिल्में बन चुकी हैं। देशी तेरे नाम, देशी युवा, देशी धूम, देशी गदर और देशी हीरो नंबर वन व यूपी के बंटी और बबली आदि फिल्मों ने अच्छा कारोबार किया है। दूसरी श्रेणी में हास्य प्रधान फिल्में आती हैं। जिनकी भाषा चुटीली व संवादों में हंसी के फौव्वारे होते हैं। हालांकि कई बार इन फिल्मों के संवाद द्विअर्थी व भाषा फूहड़ होती है। टी सीरीज की ताऊ रंगीला इस श्रेणी की सुपर-डुपर हिट फिल्म है। इसके अलावा इस श्रेणी की छिछोरों की बारात, ताऊ बहरा, ब्याह और गौंणा घोल्लू का, दुधिया हरामी, करे मनमानी रम्पत हरामी, बेवकूफ खानदान और सालीदिल्ली वाली जैसी फिल्में भी खूब देखी जाती हैं।
तीसरी श्रेणी में वे फिल्में आती हैं जो यहां के सांस्कृतिक ताने-बाने पर तैयार की जाती हैं। जिन्हें हम मौलिक देशी फिल्म कह सकते हैं। इनमें भी बम्बइया फिल्मों की तरह कई बार मसाला मिला दिया जाता है। ये फिल्में शालीन होती हैं। इसीलिए गांव के लोग इसे पसंद करते हैं। इन फिल्मों में सामाजिक उद्देश्य भी छिपा होता है।


'धाकड़ छोरा' इस श्रेणी की चर्चित और सुपरहिट फिल्म है। इसके अलावा निकम्मा, कर्मवीर और बुध्दूराम भी इसी श्रेणी की सुपरहिट फिल्में हैं। चौथी श्रेणी में धार्मिक फिल्में आती हैं। इनकी भी खूब मांग है। कृष्ण सुदामा, चारों धाम, माता-पिता के चरणों में, द्रौपदी चीर हरण, सतीसुनोचना और पिंगला भरथरी जैसी फिल्में पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा में खूब देखी जाती हैं।देशी फिल्मों का सबसे मजबूत पक्ष चुटीली भाषा और किरदारों के संवाद अदायगी का खालिस देशी अंदाज है। बालीवुड की फिल्मों का देशी रूपांतरण तो बहुत ही रोचक होता है। कहानी और संवादोंका स्थानीयकरण कर दिया जाता है। यहां देशी शोले का उदाहरण दिया जा सकता है। फिल्म का एक प्रसिध्द सीन है। वह है जब 'कालिया' जय और बीरू के हाथों पिटकर वापस आता है तो ''अब तेरा क्या होगा कालिया'' की जगह देशी शोले का संवाद देखिए। गब्बर कहता है, ''के समझ रख्या था गब्बर तने पनीर के पकोड़े खिलावगा.... तने तो गब्बर का नाम मूत में लड़ा दिया।'' इसी फिल्म में एक जगह बीरू बसंती को गब्बर के समाने नाचने को मना करता है तो गब्बर का एक डायलाग बहुत प्रसिध्द हुआ था, ''बहूत याराना लगता है।'' तो देशी शोले के गब्बर की सुनिए। वह बसंती सेकहता है, ''घणी सेटिंग लग री है।''


ऐसी फिल्मों में एक और प्रयोग किया जाता है। बालीवुड फिल्मों के पात्रों और किरदारों में 'लोकल टच' डालकर फिल्म की कहानी का स्थानीयकरण कर दिया जाता है। मसलन गोविंदा की हीरो नंबर-वन पर आधारित फिल्म देशी नंबर वन की कहानी एक गांव के बनिए (लाला) और उसके नौकरकी कहानी है। लाला नौकरी देते हुए नौकर के सामने शर्त रखता है कि अगर वह नौकरी छोड़करजाएगा तो लाला उसके नाक कान काट लेगा। नौकर भी शर्त रखता है कि अगर लाला ने उसे नौकरी से निकाला तो वह भी मालिक के नाक कान काट लेगा और उसकी बेटी से ब्याह करेगा। नौकर के रूप में होता है 'देशी हीरो नंबर वन'। वह अपने कारनामों से लाला को परेशान कर दर्शकों को खूब हंसाता है। देशी हीरो की वेश भूषा असली फिल्म के हीरो गोविंदा की नकल है। हाफ पेंट और चमकीली शर्ट के साथ देशी हीरो ने गले में टाई व कंधो पर गमछा लटका रखा है। सिर पर गांधी टोपी पहने देशी हीरो देखते ही बनता है।


इसके अलावा फिल्मों को हास्य का पुट देने के लिए दृश्यों को रोचक बनाया जाता है। जैसे शोले में गब्बर चट्टान पर खड़ा होता है तो देशी शोले में वह गोबर के उपलों के ढेर पर खड़ा होता है। दूसरी बनी 'देशी शोले' में डाकू घोड़े की बजाय गधों पर आते हैं और बंदूक की बजाय उनके हाथों में लाठियां होती हैं। फिल्मों में गाने भी होते हैं उन्हें भी देशी भाषा में अनुवादित कर दिया जाता है।
कई बार कुछ फिल्में हास्य पैदा करने के चक्कर में फूहड़ता और अश्लीलता की हदों को पार कर जाती हैं। यहां फिल्मों का जिक्र लाजिमी है। ये हैं कलियुग की रामायण और कलियुग का महाभारत। इन दोनों फिल्मों पर धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने के कारण प्रतिबंध लगा दिया गया है। कलियुग की रामायण में सीता को बीड़ी पीते हुए और राम को मुजरा सुनते हुए दिखाया गया था तो कलियुग का महाभारत में कृष्ण रथ की बजाय मोटर साईकिल पर आते हैं और अर्जुन और दूसरे योद्धा तीर धनुष की बजाय हाकी लेकर युध्द करने जाते हैं। देशी फिल्मों में बढ़ती फूहड़ता से चिन्तित जगजीत सिंह कहते हैं, ''यह सब ज्यादा दिन नहीं चलने वाला। लोग ऐसी फिल्मों को देखना पसंद नहीं करते।''लेकिन सच्चाई यह है कि ऐसी फिल्में देखी भी खूब जाती हैं और कारोबार की दृष्टि से सफल भी मानी जाती हैं। टी सीरीज ने छिछोरों की बारात' नामक एक फिल्म बनाई और खूब बिकी। इस फिल्म केनिर्देशक एस. गोपाल टाटा ने फिल्म का नाम सुनकर पहले तो इसे बनाने से इनकार कर दिया। लेकिन बाद में व्यावसायिक मजबूरियों के चलते जब फिल्म बनाई तो यह चल निकली। बकौल श्री टाटा, ''इस फिल्म को देखकर जब लोग मेरी तारीफ करते हैं तो मुझे अपने आप पर हंसी आती है।''देशी फिल्मों का कारोबार निकटता के सिद्धांत पर आधारित है। अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त युवा निर्देशक यतीश यादव इसे भारतीय लोगों के अपनी संस्कृति से गहरे लगाव के रूप में देखते हैं। उनके मुताबिक, ''भारतीयों को अपनी जमीन और भाषा से बड़ा प्यार होता है। यही वजह है कि मेरठ का दूधिया या किसान अमोल पालेकर की 'पहेली' की बजाय 'धाकड़ छोरा' देखना ज्यादा पसंद करेगा। इसमें उन्हें अपनापन सा लगता है।


देशी फिल्मों के निर्माण और प्रचलन का एक महत्वपूर्ण कारण गांवों से मनोरंजन के पारंपरिक साधानों मसलन लोक नृत्य, लोक गीत व नाटकों का लुप्त होना है। गांव के लोक कलाकार रोजी रोटी कीतलाश में शहरों की तरफ पलायन कर रहे हैं। ऐसे में शाम को चौपालों पर 'गवइयों' की जगह अब देशी फिल्मों ने ले ली है। सचार क्रांति ने इसे और भी आसान बना दिया है।

बालीवुड की पहुंच शहरों तक है। देशी बालीवुड ने मुंबई और गांव की दूरी को कम कर दिया है। इसनेफिल्मों को गांवों तक और सही कहें तो आम लोगों तक पहुंचा रहा है। देशी बालीवुड ने साबित करदिया है कि फिल्म जनसंचार का एक सशक्त माध्यम है। अभी तक इसका उपयोग केवल मनोरंजन के लिएकिया जा रहा है। जबकि सामाजिक चेतना पैदा करने और लोगों को जागरुक करने में इस माध्यम को एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
कैसे बनती हैं फिल्में


तकनीक और गुणवत्ता के आधार पर देशी फिल्मों को दो श्रेणी में बांटा जा सकता है। पहली श्रेणी में वे फिल्में आती हैं जो गुणवत्ता व तकनीकी दृष्टि से बेहतर होती हैं। इन फिल्मों की समयावधि 2 से 3 घंटे होती है। प्रोफेशनल कलाकारों के साथ यह फिल्म बनाई जाती है। इसे बनाने में 2 से 3 लाख रूपए खर्च होते हैं। 20 से ज्यादा देशी फिल्मों के निर्देशक के रूप में काम कर चुके एस.गोपाल टाटा के मुताबिक, ''अच्छी फिल्म बनाने में करीब एक महीने का वक्त और करीब तीन लाख रूपये खर्च होते हैं। 10 दिन शूटिंग में लगते हैं और करीब 15 दिन पोस्ट प्रोडक्शन में।''


दूसरी श्रेणी की फिल्में गुणवत्ता और तकनीक के हिसाब से कमतर होती हैं। ये फिल्में 50-60 हजार रूपये में तैयार कर ली जाती हैं। कई लोग तो 30 से 40 हजार रूपए के बजट में भी फिल्में बना लेते हैं। कई बार तो फिल्मों का निर्माता, निर्देशक, पटकथा लेखक, गीतकार व अभिनेता एक ही व्यक्तिहोता है। ये फिल्में 'वन मैन शो' की तरह होती हैं। शादी वाले कैमरे से पूरी फिल्म शूट कर ली जाती है। कई बार कुछ लोग मिलकर पैसा इकट्ठा कर भी फिल्में बना लेते हैं। मेरठ के पास स्थित सरधाना में एक सिनेमाहाल के मालिक जीसान कुरैशी बताते हैं कि उनके यहां के चार लड़कों ने आपस में पैसा इकट्ठा कर फिल्म बनाई है। हीरो भी उनमें से एक है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आजकल यह आम बात है।


कैसे होता है देशी फिल्मों का कारोबार

देशी फिल्में सीडी के जरिए लोगों तक पहुंचती हैं। एक फिल्म के सीडी की कीमत 25 से 50 रूपए के बीच होती है। यह फिल्म की गुणवत्ता और समयावधि पर निर्भर करती है। देशी फिल्में ज्यादातरग्रामीण इलाकों में देखी जाती हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली देहात और हरियाणा, जहां येफिल्में देखी जाती हैं, के किसानों की गिनती समृध्द लोगों में होती है। यहां के गांवों में बिजली पहुंच चुकी है। लोगों के घरों में टीवी और सीडी प्लेयर तो आम बात है। वीडियो पार्लर भी यहां खूब फल फूल रहे हैं। देशी फिल्मों के मशहूर निर्देशक एस. गोपाल टाटा के मुताबिक, ''चाइनीज सीडी वडीवीडी प्लेयर ने देशी फिल्म उद्योग को फलने-फूलने में बड़ी सहायता की है। काफी सस्ता होने की वजह से यह आम लोगों के घरों तक पहुंच चुका है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा में तो देशी फिल्मों की सीडी तो मिलती ही है। दिल्ली केपालिका बाजार और लाजपत राय मार्केट में भी इनकी सीडी खूब बिकती है। पालिका बाजार में सीडी बेचने वाले दुकानदार प्रमोद के मुताबिक वह हर रोज पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बनने वाली देशीफिल्मों की 60-70 सीडी बेच लेता है। प्रमोद कहते हैं, ''ये फिल्में केवल पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा के लोग ही नहीं खरीद कर ले जाते, क्योंकि इनमें ज्यादातर फिल्में हंसने हंसाने की होती हैं, इसलिए दूसरे लोग भी इन फिल्मों को खूब देखते हैं।


देशी फिल्म उद्योग भी उसी संकट से गुजर रहा है जिससे बालीवुड। देशी फिल्मों की भी 'पायरेटेड सीडी' काफी सस्ते में बाजार में उपलब्ध हो जाती है।देशी फिल्मों के निर्माण व विपणन से जुड़ी सोनोटे कंपनी के मालिक व निर्माता-निर्देशक हंसराज के मुताबिक इससे फिल्म निर्माताओं को काफी नुकसान उठाना पड़ता है। नकली सीडी असली सीडी के मुकाबले आधी कीमत पर बाजार में उपलब्ध हो जाती है।


कहां से आते हैं कलाकार

देशी फिल्मों में काम करने वाले ज्यादातर कलाकार स्थानीय होते हैं। इनमें से ज्यादातर कलाकारों को कोई मेहनताना नहीं दिया जाता है। ये कलाकार बस पर्दे पर किसी तरह दिख जाएं, इसी उद्देश्य से काम करते हैं। देशी फिल्मों के अभिनेता भूपेंद्र तितारिया की मानें तो कई लोग उलटे पैसे देकर इन फिल्मों में काम करते हैं। श्री तितारिया के मुताबिक ग्लैमर और फिल्मी दुनिया की चकाचौंध लोगों को आकर्षित करती है और हर कोई अपने को पर्दे पर देखना चाहता है। यही वजह है किपश्चिमी उत्तर प्रदेश में जिसके पास थोड़ा पैसा हुआ वह बतौर हीरो अपनी फिल्में बनाने लगता है। ऐसी फिल्में सफल भी नहीं होती। लेकिन इनका उद्देश्य मुनाफा कमाना कम अपने आपको परदे पर दिखाना ज्यादा होता है।


देशी फिल्मों में काम करने वाले प्रोफेशनल कलाकारों की संख्या सीमित है। ज्यादातर कलाकार स्थानीय होते हैं। निर्देशक रोल के मुताबिक उन्हें ट्रेंड करता है। देशी फिल्मों के मशहूर निर्देशक एस. गोपाल टाटा के मुताबिक, ''शूटिंग शुरू करने से पहले उन्हें कलाकारों को अभिनय के गुर भी सिखाने पड़ते हैं। यह देशी फिल्मों के निर्देशकों के लिए एक चुनौती होती है। फिल्म की सफलता इस पर निर्भर करती है कि कलाकारों ने पात्रों को कितना जीवंत किया है।''


ऐसा भी नहीं है कि सारे कलाकार मुफ्त में ही काम करते हैं। कई कलाकारों ने शुरुआत तो मुफ्त या फिर मामूली मेहनताने से की थी लेकिन नाम और शोहरत मिलने से अब उन्हें 50 हजार रूपये से लेकर एक लाख रूपए तक मेहनताना मिलता है। सुमन नेगी प्रत्येक फिल्म के लिए एक लाख रूपए की मांग करती है तो भूपेंद्र तितोरिया का कहना है 'बुध्दूराम' फिल्म में बतौर नायक काम करने का मेहनताना 51 हजार रूपए मिला था। वैसे आमतौर पर कलाकारों को प्रत्येक फिल्म 5 से 10 हजार रूपए मेहनताना मिलता है। देशी फिल्मों में नायक के मुकाबले नायिकाओं को ज्यादा मेहनताना मिलता है। यह ट्रेंड बालीवुड के विपरीत है। वहां नायकों को नायिकाओं के मुकाबले कहीं ज्यादा मेहनताना मिलता है।


पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बनने वाली देशी फिल्मों में काम करने वाले जाने माने कलाकारों में उत्तर कुमार, संतराम बंजारा, कमल आजाद, मुन्ना बाज, भूपेंद्र तितोरिया, सुमन नेगी, पुष्पा गुसाईं, राजू प्रिन्स और पूनम त्यागी के नाम प्रमुख हैं। देशी फिल्मों में काम करने कलाकारों की भी बालीवुड के कलाकारों की तरह स्थानीय स्तर पर पहचान और ग्लैमर कायम रहता है। बकौल सुमन नेगी, ''अक्सर लोग उन्हें पहचान जाते हैं और आटोग्राफ मांगते हैं।''


देशी फिल्मों के कलाकारों का सपना भी बालीवुड पहुंचना होता है। सुमन नेगी और भूपेंद्र तितोरियाबाया मेरठ बालीवुड पहुंच चुके हैं। ये फिल्में देशी कलाकारों के बालीवुड पहुंचने की सीढ़ी भी है।

**-**

रचनाकार – अनिल पांडेय सराय सीएसडीएस (सेंटर फ़ॉर स्टडी ऑफ़ डेवलपिंग सोसाइटीज़) के स्वतंत्र शोध फ़ैलो रहे हैं.


**-**
सीडी तथा सीडी-प्लेयरों और डिज़िटल कैमकार्डरों के जमीन चाटते भावों ने निसंदेह नई रचनात्मकता को जन्म दिया है. छत्तीसगढ़ जैसे छोटे प्रदेशों में भी क्षेत्रीय भाषा की फ़िल्मों का कारोबार बुलंदियों पर है. कुछ समय पहले छत्तीसगढ़ी फ़िल्म लपरहा टूरा (बकबक करने वाला लड़का) मैंने देखी थी, जिसमें किसी गांव में शूटिंग की गई थी और महज चार-पाँच लोगों ने मिलकर पूरे एक घंटे की मज़ेदार फ़िल्म बना डाली थी – जिसमें न कोई स्क्रिप्ट था, न ढंग के संवाद और न ही स्टोरी लाइन. परंतु गम्मत (छत्तीसगढ़ी नाचा – या गीत संगीत युक्त नाटक) शैली में बनाई गई यह फ़िल्म दर्शकों को मनोरंजन प्रदान करने में किसी भी आम बॉलीवुड की फ़िल्म से टक्कर लेती प्रतीत हो रही थी. - रविरतलामी

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 3
  1. बहुत अच्छा लेख, पढ़ने के बाद इन फ़िल्मों को देखने की इच्छा तीव्र हो गयी है, परन्तु हमारे यहाँ हैदराबाद में एसी फ़िल्में नही मिलती

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लेख.

    इससे यह भी साबित होता है कि आज भी लोगों को हास्य खिंचता है.

    जो जितना हसाँयेगा, उतना कमायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया...मैं इन फ़िल्मों पर डाक्यूमैंट्री बना रहा हूं अगर कोई और सूचना हो तो इस पते पर जानकारी दें ....मुझे मदद मिलेगी
    vikalptyagi21@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1$height=75

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$rm=1$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|संस्मरण_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|उपन्यास_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

|लोककथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random$height=85

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0$height=85

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3984,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2956,कहानी,2219,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,521,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1203,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1993,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,698,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,775,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: अनिल पांडेय का आलेख : देशी फिल्मों का कारोबार
अनिल पांडेय का आलेख : देशी फिल्मों का कारोबार
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2006/04/blog-post_26.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2006/04/blog-post_26.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ