370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

1001 चुटकुलों की पीडीएफ़ ई-बुक

.
1001 चुटकुले - पीडीएफ़ ई-बुक डाउनलोड
सुहैब ने रचनाकार के कुछ पुराने चुटकुलों की कड़ियों के बारे में पूछा था. दरअसल, अनुगूंज के एक आयोजन के तहत 1001 चुटकुलों के संग्रह की कवायद की गई थी, जिसे रचनाकार में समय समय पर प्रकाशित किया गया था. इसे आप नीचे सीधे ही पढ़ सकते हैं -

.
इन 1001 चुटकुलों की ई-बुक पीडीएफ़ ई-बुक को आप यहां से डाउनलोड कर सकते हैं:
http://issuu.com/ravishankarshrivastava/docs/1001-hindi-jokes-e-book?mode=window&viewMode=singlePage&backgroundColor=%23222222

रचनाकार के चुटकुले
.

.
चुटकुला 116340505721586789

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत बहुत शुक्रिया रवी जी - अब मैं चुटकुले कभी भूल ही नही सकता :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी5:42 pm

    ड़ाउन लोड तो कर लिया लेकिन यह बुक एक्रोबैट से खुली नही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभात जी,
    कृपया एक्रोबेट रीडर का नया संस्करण इस्तेमाल कीजिए. संस्करण 7 बेहतर होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. साधुवाद, इस प्रयास हेतु, रवि भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमस्कार भाईसाहब,
    इस सप्ताहांत पर यात्रा कर रहे हैं, सभी चुटकुलों के प्रिंट आउट के संग।
    धन्यवाद एवं हास्यमेव जयते,

    आपका,
    अभिनव

    उत्तर देंहटाएं
  6. धन्यवाद अभिनव,
    रचनाकार का प्रयास सफल हुआ :)

    वैसे, कहानियों में दिलचस्पी है तो असगर वज़ाहत का एक कहानी संग्रह भी संपूर्ण रचनाकार पर है. हर कहानी दमदार, अलग और पढ़ने में आनंददायी.

    रवि

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी6:20 am

    बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत शुक्रिया इन चुटकुलोँ का सँग्रह तो मुझे बहुत ही पसन्द आया।

    उत्तर देंहटाएं
  9. http://hyperupload.com/download/022a496562/1001-Hindi-Jokes-e-book.PDF.html कृपया इस लिन्क की जांच कर लें। मैं ३ बार देख चुका हू, परिणाम शून्य रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. चन्दर जी,
    त्रुटि की ओर ध्यान दिलाने का शुक्रिया. हाइपर अपलोड साइट बन्द हो चुकी है. इसीलिए गड़बड़ी हो रही है.
    जल्द ही लिंक ठीक करता हूँ और आपको भी खबर करता हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. चन्दर जी लिंक ठीक कर दी है, कृपया देखें

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव