शनिवार, 30 दिसंबर 2006

हास्य-व्यंग्य : किस्से अदालतों के...

किस्से अदालतों के... - रवीन्द्र नाथ त्यागी सुप्रीम कोर्ट ने उड़ीसा हाईकोर्ट के फ़ैसले को रद्द करते हुए उन चार लोगों...

रविवार, 24 दिसंबर 2006

हास्य कथा - जैसे को तैसा

जैसे को तैसा - मोहिनी राव एक जमींदार के लिए उसके कुछ किसान एक भुना हुआ मुर्गा और एक बोतल फल का रस ले आए. जमींदार ने अपने नौकर को बुलाकर...

बुधवार, 20 दिसंबर 2006

हास्य - व्यंग्य : पति का मुरब्बा

. हास्य - व्यंग्य पति का मुरब्बा -गीता शॉ पुष्प यदि आपके पास पति है, तो कोई बात नहीं. न हो तो अच्छे, उत्तम कोटि के, तेज-तर्रा...

शुक्रवार, 15 दिसंबर 2006

कुछ पाकिस्तानी ग़ज़लें

मुनव्वर हुसैन बलोच की दो ग़ज़लें इस धरती पर कितना दुःख है इस धरती पर कितना दुःख है प्यारे, देख ऊँचे महलों के वासी दुख...

बुधवार, 6 दिसंबर 2006

बाल पहेली कोश से कुछ बाल पहेलियाँ...

चंद बाल पहेलियाँ 1 चार पाँव पर चल न पाए चलते को भी वह बैठाए 2 मारे से वह जी उठे बिन मार...

शुक्रवार, 1 दिसंबर 2006

पूरन सरमा का व्यंग्य - सूट कथा

व्यंग्य : सूट कथा - पूरन सरमा सूट सर्दी का पहनावा है. हर आदमी की इच्छा होती है कि वह सूट पहने. कुछ लोगों को शादी के मौके...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------