गुरुवार, 28 सितंबर 2006

बाल कथा - लोहे के पंजों वाला बच्चा...

. बाल कथा लोहे के पंजों वाला बच्चा - ब्रजेश कानूनगो चुन्नू दौड़ता हुआ अपने घर में घुसा. उसके एक पैर के पंजे से खून बह रहा था. उसको पता ही न...

शनिवार, 23 सितंबर 2006

चुटकुले 601 से 650

. चुटकुला # 0601 पति (पत्नी से)- प्रिय, कान में कुछ ऐसी मीठी बात कह दो, जिससे कि मेरे पांव जमीन पर ही न पड़े। पत्नी (कान के पास जाकर झुंझला...

शुक्रवार, 22 सितंबर 2006

कब लगा सर पे आसमान भी था?

. तरही शेर... लफ़्ज के जून-अगस्त 06 अंक में ग़ज़ल लिखने के लिए तरह - "तब लगा सर पे आसमान भी था" समस्या-पूर्ति के रुप में दिया ...

गुरुवार, 21 सितंबर 2006

अनूप भार्गव की कुछ कविताएँ

अनूप भार्गव की कुछ कविताएँ कविता 1 एक ज्यामितीय कविता मैं और तुम एक ही दिशा में न जाने कब से चलती हुई दो समान्तर रेखाएं हैं । आओ क्यों न इ...

सोमवार, 18 सितंबर 2006

रमेशचन्द्र श्रीवास्तव की कुछ ताज़ी ग़ज़लें

रमेशचन्द्र श्रीवास्तव की कुछ ताज़ी ग़ज़लें ग़ज़ल 1 शब्दों की गूंज फिर मुझे दीवाना कर गई सन्नाटा चीरती हुई दिल में उतर गई दीवार पर लगी हुई ...

शनिवार, 16 सितंबर 2006

स्वयं प्रकाश की हृदयस्पर्शी कहानी : बलि

बलि - स्वयं प्रकाश घनी हरियाली थी, जहां उसके बचपन का गांव था. साल, शीशम, आम, कटहल और महुए के पेड़. ये बड़े-बड़े पेड़. पेड़ के नीचे खड़े होकर ए...

शुक्रवार, 15 सितंबर 2006

एजाज़ अख़्तर की चूड़ियाँ खनकाती ग़ज़ल...

ग़ज़ल एजाज़ अख़्तर कुछ सदा सुबह तक तो आएगी चूड़ियों की खनक तो आएगी सूखी ऑंखों के सूने जंगल में ऑंसुओं की महक तो आएगी लाख रस्ते बदल के घर जाओ ...

बुधवार, 13 सितंबर 2006

आलेख - हमारे किशोर किस ओर...

हमारे किशोर किस ओर - मृणाल पाण्डे शेख सादी के ‘गुलिस्तां' में एक लड़के की कहानी आती है जिसे बादशाह-सलामत का स्वास्थ्य ठीक करने के लिए ...

मंगलवार, 12 सितंबर 2006

चुटकुले 553 - 600

. इंटरनेट से विविध फ़ॉन्टों की साइटों से उतारे गए तथा यूनिकोडित किए गए कुछ चुटकुले चुटकुला # 0553 पत्नी (पति से)- जब मैं मर जाऊंगी, तो तुम क...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------