November 2006

हिंदी मीडिया की दिशा बदल सकता है यूनिकोड

. हिंदी मीडिया की दिशा बदल सकता है यूनिकोड - बालेन्दु शर्मा दाधीच हाल ही में राजधानी में 'मीडिया में यूनिकोड की प्रासंगिकता...

भूमंडलीकरण में आईटी का योगदान है यूनिकोड

. भूमंडलीकरण में आईटी का योगदान है यूनिकोड - बालेन्दु शर्मा दाधीच सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास और सुधार की निरंतर प्...

कहानी : ... एडीटर बुल्लेशाह का

. किस्सा बी सियासत भठियारिन और एडीटर बुल्लेशाह का -अमृतलाल नागर जाड़े की रात. नया जंगल. एक डाल पर तोता, एक डाल पर मैना. ह...

चुटकुले - 851 से 900

चुटकुला # 0851 शर्मा जी अपने पड़ोसी के घर पहुंचे और बोले- देखिए आपके लड़के ने मेरे कमरे का शीशा ईट मारकर तोड़ दिया। पड़ोसी (शर्मा जी ...

व्यंग्य - कंप्यूटरजी को एक ख़त...

. प्रिय श्री कंप्यूटरजी - गोपाल चतुर्वेदी प्रिय श्री कंप्यूटरजी, परलोकीप्रसाद का सादर वंदे स्वीकार हो. आगे समाचार यह है कि ...

बगिया....

बगिया - कुसुम लता त्यागी बगिया में कोयल कूके है , कुहु कुहु ओहो कुहु कुहु ये मंत्र कानों में फूंके है , तु ही तु है ओहो तु ही...

लोन लीजिए लोन...

बैंक लोन डा कान्ति प्रकाश त्यागी खाने के बाद सोया ही था, अचानक बजने लगा टेलिफ़ोन , घबरा कर उठा, फ़ोन उठा कर पूछा, हैलो ! आप हैं कौन ? नमस...

1001 चुटकुलों की पीडीएफ़ ई-बुक

. 1001 चुटकुले - पीडीएफ़ ई-बुक डाउनलोड सुहैब ने रचनाकार के कुछ पुराने चुटकुलों की कड़ियों के बारे में पूछा था. दरअसल, अनुगूंज के एक आयोजन...

चुटकुले 801 से 850

चुटकुला # 0801 (एक यात्री ट्रेन से यात्रा कर रहा था, तभी टिकट चेकर आता है...) टिकट चेकर (यात्री से)- टिकट दिखाओ? यात्री (टिकट चेकर से)...

व्यंग्य : फूल खिले हैं बेशरम...

. व्यंग्य : फूल खिले हैं बेशरम-बेशरम - रघुनंदन चिले बेशरम का पौधा कितना सुहावना होता है. हमेशा हरा. हरित-क्रान्ति का ...

माँ की अर्चना...

. अर्चना - कुसुम लता त्यागी वाणी का वरदान दो माँ , विश्व का कल्याण हो माँ कर दूं मैं सब कुछ समर्पित , आपके चरणों मैं हे माँ ...

कान्ति प्रकाश त्यागी की मजाहिया कविता - बीबी

. बीबी -डॉ. कान्ति प्रकाश त्यागी एक आदमी ने रात में पड़ोसी का दरवाजा खटखटाया , पड़ोसी गहरी नींद से उठा, दरवाजा खोलते ही बड़बड़ाया क्यों भ...