रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

December 2006
 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari


किस्से अदालतों के...


- रवीन्द्र नाथ त्यागी


सुप्रीम कोर्ट ने उड़ीसा हाईकोर्ट के फ़ैसले को रद्द करते हुए उन चार लोगों को दोषी ठहराया जिन्होंने एक पत्रकार युवती के साथ कभी सामूहिक बलात्कार किया था और जिसके फलस्वरूप उस निरीह युवती की मृत्यु हो गई थी. हाईकोर्ट ने उस युवती के पति को कायर बताया था पर सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के इस तर्क को भी गलत करार दिया क्योंकि अकेला पति इतने लोगों के सामने कुछ भी नहीं कर सकता था. उस युवती के मात्र दो कसूर थे. पहला कसूर तो यह था कि वह रूपवती थी और दूसरा कसूर यह था कि उसने एक राजनीतिक पार्टी के खिलाफ एक अख़बार में अपनी रिपोर्ट छापी थी. दुःख की बात यह है कि इस फैसले तक पहुँचने में विभिन्न अदालतों को मात्र बाईस वर्ष लगे. ज्यादा जानकारी के लिए आप 25.4.2002 का ‘हिन्दुस्तान टाइम्स' पढ़ें.

न्यायपालिका प्राय: भ्रष्टाचार से मुक्त होती है पर कहीं-कहीं इस प्रथा के अपवाद भी पाए जाते हैं. सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस ने जब यह कहा कि इस देश में बीस प्रतिशत जज भ्रष्ट हैं तो एक जागरूक नागरिक ने राजस्थान हाईकोर्ट में उपरोक्त चीफ़-जस्टिस के खिलाफ न्याय-पालिका की मानहानि का दावा दायर कर दिया. हाईकोर्ट ने दावा खारिज कर दिया. इस संदर्भ में आप यदि 13.3.2002 का ‘हिन्दुस्तान टाइम्स' पढ़ें तो एकदम ठीक रहेगा.

अदालतों में बड़ी-बड़ी मजाक भी चलती हैं. मेरे काफ़ी मित्र और रिश्तेदार जज हैं और वे इतने लतीफ़े सुनाते हैं कि हँसते-हँसते पेट दुखने लगता है. एक बार मैं इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज (मिस्टर जस्टिस जे डी शर्मा) के यहाँ खाने पर गया. खाना खाने के बाद जब हम लोग कॉफ़ी पीने ड्राइंग रूप में बैठे तो मैंने जज साहिब से कहा कि वे अपनी जिंदगी का कोई बेहतरीन मुकदमा हम लोगों को सुनाएँ. उन्होंने बताया कि जब वे डिस्ट्रिक्ट जज थे तब उनके सामने एक ऐसा मामला आया था कि वे पशोपेश में पड़ गए थे.

हुआ यह था कि किसी सेठ का काफ़ी बड़ा क्लेम रेल-विभाग के ख़िलाफ़ पडा था और सब कुछ करने के बावजूद, रेलवे उनका पैसा नहीं दे रही थी. मुंसिफ़ साहिब ने, तैश में आकर, कालका-मेल के इंजन को ही ‘अटैच' कर दिया. गाड़ी आई और अदालत के हरकारे ने ‘अटैचमेंट आर्डर' को इंजन के बॉयलर पर चिपका दिया और ऑर्डर की एक कॉपी स्टेशन-मास्टर को दे दी. अब हालत यह हो गई की गाड़ी उसी स्टेशन पर घंटों तक खड़ी रही. घंटों बाद स्टेशन-मास्टर ‘ईस्ट इंडियन रेलवे' के हैड क्वार्टर (जो कलकत्ता में था) से बात कर सके. हैडक्वार्टर के बैरिस्टर ने बताया कि अदालत से कहिए वह अटैच्ड इंजन को अपने मालखाने में ले जाएँ ताकि गाड़ी में दूसरा इंजन लगाया जाए और वह आगे चले. अब मुंसिफ़ साहिब घबराए और सलाह मांगने डिस्ट्रिक्ट जज के यहाँ पहुँचे. जज साहिब को गुस्सा भी आया और हँसी भी आई. इंजन पर चिपका ‘अटैचमेंट आर्डर' वहाँ से हटाया गया और ‘बुकिंग विंडो' पर लगाया गया. घंटों की प्रतीक्षा के बाद कालका-मेल आगे बढ़ी.

सरकारी काम के सिलसिले में मैं सेशन जज की अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक, सभी अदालतों का चक्कर काट चुका हूँ और सभी की कार्यप्रणाली से काफ़ी परिचित हूँ. कुछ वारदातों का जिक्र मैंने अपने सरकारी संस्मरणों में किया भी है. मगर व्यक्तिगत रूप से मेरा अनुभव एक ही है जो काफ़ी दुखद है. बरसों पहिले मैं शिलांग गया था वहाँ सरकारी डाक बंगले में ठहरा था. मेरी पत्नी मेरे साथ थी और जब हम दोनों शाकाहारी भोजन की तलाश में मारवाड़ी होटल गए हुए थे, तभी एक चोर ने डाक बंगले में चोरी कर ली. चोर भी सनकी था और इसी कारण वह सब कुछ छोड़कर, मात्र सौ रुपए, एक सस्ता कैमरा और एक बिलक्रीम की शीशी ही ले गया. रिपोर्ट लिखाई गई और चोर पकड़ा गया. चोरी किया गया सामान भी मिल गया. यहाँ जब मामला अदालत क पहुँचा तो देखा गया कि कैमरा जो था वह अदालत के मालखाने से ही गायब हो चुका था. इस देश का यारों क्या कहना... यह देश है धरती का गहना...

अंग्रेजी में कानून को लेकर श्रेष्ठतम हास्य लिखने वाले लेखक का नाम है हेनरी सिसील जिनकी कृतियों को वुडहाउस तक पढ़ा करते थे. मैं सलाह दूंगा कि आप भी जस्टिस खोसला की लिखी ‘मर्डर ऑफ़ महात्मा एंड अदर केसेज़' व डॉ. कैलाशनाथ काटजू द्वारा लिखित ‘केसेज़ टु रिमेम्बर' जरूर जरूर पढ़ें. फिलहाल मैं ‘शहबाज़' की एक नज़्म लिखता हूँ और सारे मुकद्दमे को यहीं खत्म करता हूँ.

नज़्म

देखा जो मुझको कोर्ट में, कहने लगे क्लर्क

यारों शिकार आया है, इसको खसोट लो,


जमशेद जी बोले कि मोटा है यह किसान

रिश्वत में इससे बढ़िया सी बैलों की जोट लो,


फ़रमाया जैकसन ने कि झंझट में मत पड़ो

सीधी सी बात यह है कि सौ-सौ के नोट लो,


बोले ये शेरसिंह कि बुजदिल हैं आप लोग

मेरी तो राय यह है कि कफ़न भी खसोट लो,


जुम्मन ने कांप कर कहा, यारों करो न शोर

जो कुछ भी तुमको लेना है, पर्दे की ओट लो,


नत्थू कड़क के बोले कि डर की है बात क्या

अपना ही तो अब राज है, डंके की चोट लो.

**-**

साभार : व्यंग्य यात्रा : सार्थक व्यंग्य की रचनात्मक त्रैमासिकी - अंक: अक्तूबर मार्च 2006.

चित्र: कागज पर स्याही से बनी रेखा की कलाकृति.

टैग ,,,

जैसे को तैसा

- मोहिनी राव

एक जमींदार के लिए उसके कुछ किसान एक भुना हुआ मुर्गा और एक बोतल फल का रस ले आए. जमींदार ने अपने नौकर को बुलाकर चीजें उनके घर ले जाने को कहा. नौकर एक चालाक, शरीर लड़का था. यह जानते हुए जमींदार ने उससे कहा, "देखो, उस कपड़े में जिंदा चिड़िया है और बोतल में जहर है. खबरदार, जो रास्ते में उस कपड़े को हटाया, क्योंकि अगर उसने ऐसा किया तो चिड़िया उड़ जाएगी. और बोतल सूंघ भी ली तो तुम मर जाओगे. समझे?"

नौकर भी अपने मालिक को खूब पहचानता था. उसने एक आरामदेह कोना ढूंढा और बैठकर भुना मुर्गा खा गया. उसने बोतल में जो रस था वह भी सारा पी डाला. एक बूंद भी नहीं छोड़ा.

उधर जमींदार भोजन के समय घर पहुँचा और पत्नी से भोजन परोसने को कहा. उसकी पत्नी ने कहा, "जरा देर ठहरो. खाना अभी तैयार नहीं है." जमींदार ने कहा, "मैंने जो मुर्गा और रस की बोतल नौकर के हाथ वही दे दो. वही काफी है."

उसके गुस्से की सीमा न रही जब उसकी पत्नी ने बताया कि नौकर तो सुबह का गया अभी तक लौटा ही नहीं.

बिना कुछ बोले गुस्से से भरा जमींदार अपने काम की जगह वापस गया तो देखा नौकर तान कर सो रहा है. उसने उसे लात मारकर जगाया और किसान द्वारा लाई गई भेंट के बारे में पूछा.

लड़के ने कहा, "मालिक, मैं घर जा रहा था तो इतने जोर की हवा चली कि मुर्गे के ऊपर ढका कपड़ा उड़ गया और जैसा आपने कहा था, वह भी उड़ गया. मुझको बहुत डर लगा कि आप सज़ा देंगें और मैंने बचने के लिए बोतल में जो जहर था वह पी लिया. और अब यहाँ लेटा-लेटा मौत के आने का इंतजार कर रहा था."

**-**

साभार: आओ हँसें एक साथ, अनुवाद - मोहिनी राव, नेशनल बुक ट्रस्ट, ए-5, ग्रीन पार्क, नई दिल्ली, इंडिया- 110016. आईएसबीएन नं. ISBN 81-237-2012-2

मूल्य - रुपए 20.00 मात्र (संस्करण 1988)

(18 देशों की, 53 हास्य कथाओं, 54 पहेलियों और 23 कहावतों के संकलन वाली यह एक अत्यंत पठनीय, संग्रहणीय व वाजिब कीमत की पुस्तक है. - सं.)

टैग ,,,

.

हास्य - व्यंग्य

पति का मुरब्बा

-गीता शॉ पुष्प

यदि आपके पास पति है, तो कोई बात नहीं. न हो तो अच्छे, उत्तम कोटि के, तेज-तर्रार पति का चुनाव करें. क्योंकि जितना बढ़िया पति होगा, मुरब्बा भी उतना ही बढ़िया बनेगा. दागी पति कभी भी प्रयोग में न लाएँ. आवश्यकता से अधिक पके का चुनाव करने से भी मुरब्बा जल्दी खराब हो सकता है. नए ताजे पति का मुरब्बा डाल देने ठीक होता है. नहीं तो मौसम बदलते ही, अन्य सुन्दरियों के सम्पर्क में आने से उसके खराब होने की सम्भावना है.

अभी से मुरब्बा डालकर रखेंगी, तो जीवन भर उंगलियाँ चाटकर, चटखारे लेकर उसका आनन्द उठा सकेंगी. आपके घर की शोभा बढ़ेगी. भविष्य में आर्थिक दृष्टि से लाभ होगा. मुरब्बा डला पति मर्तबान के दायरे में ही रहता है. ट्रान्सपोर्टेशन में भी आसानी होती है. किसी भी मौसम में उसका उपयोग कर सकती हैं. पड़ोसियों और सहेलियों को जला सकती हैं.

आवश्यक सामग्री : प्रेम की चीनी, पति के बराबर तोल के मुस्कान की दालचीनी, हँसी की इलायची, जीवन के रंग, आवश्यकतानुसार नैनों की छुरी, एक मर्तबान.

विधि : पति को धो-पोंछकर साफ करें. मन के ऊपर लगी धूल अच्छी तरह रगड़कर दिल के कपड़े से पोंछ दें. पति चमकने लगेंगे. फिर प्रेम की तीन-तार चाशनी बनाएँ. इसमें पति को पूरा-का-पूरा डुबो दें. कम से कम हफ़्ते भर तक डुबोकर रखें. गरम सांसों की हल्की आंच पर पकने दें. सास-ननदों को पास न आने दें. पड़ोसिनों (विशेष कर जवान) के इनफ़ेक्शन से बचाकर रखें. इनके संपर्क में आने से खराब होने का भय रहता है. पति पूरी तरह प्रेम की चाशनी में सराबोर हो गए हैं, इसकी गारंटी कर लें. मुस्कान की दालचीनी, हँसी की इलायची, जीवन के रंग मिलाकर अच्छी तरह हिला लें.

लीजिए, आपके पति का मुरब्बा तैयार है. जब जी में आए इसके मधुर स्वाद का आनन्द लीजिए.

सावधानियाँ : बीच-बीच में नाराजगी की धूप गर्मी दिखाना जरूरी है, नहीं तो फफूंदी लग सकती है. पड़ोसिनों और सहेलियों की नज़रों से दूर रखें. यदा-कदा चल कर देखती रहें. अधिक चीनी हो गयी हो तो झिड़कियों के पानी का छिड़काव करें. कभी-कभी ज्यादा मिठास से भी मुरब्बा खराब हो जाता है. चीटिंयाँ लग सकती हैं.

विशेष सावधानियां :-

खाई-खेली औरतों से बचाकर रखें.

मर्तबान तभी खोलें जब मुरब्बा खाना हो

इसी तेवर की कुछ और हास्य व्यंग्य रचनाएँ पढ़ें - स्त्री स्तोत्र

तथा त्रासदियाँ प्रेम की

**-**

साभार - पति का मुरब्बा, गीता शॉ पुष्प, सन्मार्ग प्रकाशन, जवाहर नगर दिल्ली - 110007

**-**

चित्र : काग़ज पर स्याही से बनाई गई रेखा की कलाकृति

.

.



मुनव्वर हुसैन बलोच की दो ग़ज़लें

इस धरती पर कितना दुःख है

इस धरती पर कितना दुःख है प्यारे, देख

ऊँचे महलों के वासी दुखियारे , देख

भूक और बेचैनी का हर-सू राज यहाँ

ये मजदूरों की बस्ती है प्यारे, देख

सुर्खी, पाउडर और परफ़्यूमों के इनसान

बिलख रहे हैं बच्चे भूक के मारे, देख

आस न तोड़ मिलन की, मन को आशा दे

चाँद की राहें देखें कब से तारे, देख

बादल, सब्जा, फूल और पानी, सब यकजा

कुदरत की फनकारी के शहपारे देख

लफ़्जों में तस्वीर उतर सकती है कब

होंट कली से बढ़कर नैन नियारे देख

यार बलोच ये वक्त भी कितना जालिम है

हमसे बिछड़े कैसे यार हमारे देख

**-**

फीका-फीका सा है शहर का रंग

मैं मजबूर, तेरी चाहत और शहर का रंग

कब तक देखूं इक जलती दोपहर का रंग

लोगों बोझल आँखों के सब ख्वाब हवा

नींदें अपनी और न अपना दहर का रंग

कौन समय की आँखों में डूबा-उभरा

किसने देखा उस उठती हुई लहर का रंग

जख़्मों की गहराई नापने से हासिल?

क्या मतलब खंजर से, कैसा जहर का रंग

मर मिटना ही जब ठहरा अंजाम तो फिर

क्या घबराना जुल्म से, कैसा कहर का रंग

यार मुनव्वर इक मैं ही अफ़सुर्दा नहीं

फीका-फीका सा है सारे शहर का रंग

**-**

रिजाज़ साग़र की दो ग़ज़लें

मैं बिखर रहा हूँ

मैं जर्रा-जर्रा बिखर रहा हूँ

मैं लम्हा-लम्हा गुज़र रहा हूँ

अजीब मौसम है मुझपे हावी

न जी रहा हूँ न मर रहा हूँ

चराग़ रक्खे हथेलियों पर

दयारे-शब से गुजर रहा हूँ

जवाब देगा तो कैसा देगा

सवाल कर के मैं डर रहा हूँ

अजीब हैं बेचराग रातें

हवेली अपनी से डर रहा हूँ

मैं पैरहन हूं गयी रुतों का

शजर के तन से उतर रहा हूँ

नहीं मुकद्दर में मौत सागर

जनम-जनम से अमर रहा हूँ

**-**

कहीं इक पल ठहरना चाहता हूँ

कोई इलजाम धरना चाहता हूँ

तेरे हाथों संवरना चाहता हूँ

शगूफ़े, फूल, फल, पत्ते, हवाएँ

मैं मौसम हूँ, बिखरना चाहता हूँ

लबों पर रख के खामोशी का पत्थर

मैं तुझसे बात करना चाहता हूँ

नहा कर शबनमे-रंजो-अलम में

बरंगे-गुल निखरना चाहता हूँ

अजब हैं तश्नगी की ख्वाहिशें भी

कि दरियाओं में मरना चाहता हूँ

मुक़द्दर गर्दिशें हैं फिर भी सागर

कहीं इक पल ठहरना चाहता हूँ

**-**


.

.


चंद बाल पहेलियाँ

1 चार पाँव पर चल न पाए

चलते को भी वह बैठाए


2 मारे से वह जी उठे

बिन मारे मर जाए


3 चल पड़ती तो चल जाती

बिना सहारे ठहर न पाती


4 छोटे से मियाँ जी

दाढ़ी सौ गज की


5 एक घर में राजा सोएँ

दूसरे में पाँव पसारें


6 दिन में मुर्दा

रात में जिंदा


7 मुंह पर पानी छिड़का क्यों

सुनार खाली बैठा क्यों


8 मेरा भाई बड़ा शैतान

बैठे नाक पर पकड़े कान


9 साथ-साथ मैं जाती हूँ

हाथ नहीं मैं आती हूँ


10 हरा आटा लाल पराँठा

सखियों ने मिलकर बांटा


11 दिन में लटकी

रात में अटकी


12 सिर पर पत्थर

पेट में अंगुलि


13 सदा करूं चौकीदारी

मेरे दम पे दुनियादारी


14 एक लड़का जनम का हीना

जिन देखा तिन थू-थू कीना


15 गोल मोल और छोटा मोटा

हर दम वह जमीन पर लोटा

खुसरो कहे यह नहीं झूठा

जो न बूझे अक्ल का खोटा


16 आगे-आगे बहना आई

पीछे-पीछे भइया

दाँत निकाले बाबा आए

बुरका ओढ़े मइया


17 अचरज बँगला एक बनाया

ऊपर नींव तरे घर छाया

बांस न बल्ला बंधन घने

कह खुसरो घर कैसे बने

**-**

उत्तर - मेहँदी, परछाईं, कुर्सी, ताला, ढोलक, भुट्टा, सांकल, साइकिल, अंगूठी, बया का घोंसला, सुई-धागा, दीपक की रौशनी, लोटा पीकदान, दीपक, सोना न था, चश्मा (उत्तर अनुक्रम में नहीं हैं)

(साभार : बाल पहेली कोश, संकलन - चित्रा गर्ग, बाल सभा प्रकाशन, महरौली, नई दिल्ली 110030)

चित्र - रेखा की डिजिटल कलाकृति.

.

.


व्यंग्य : सूट कथा




- पूरन सरमा

सूट सर्दी का पहनावा है. हर आदमी की इच्छा होती है कि वह सूट पहने. कुछ लोगों को शादी के मौके पर सूट नसीब हो जाता है और वे पूरे जीवन उसे सीने से लगाए फिरते हैं. कुछ लोग सूट बनवा भी लेते हैं, लेकिन पहन नहीं पाते. वे सूट को लेकर पेशोपेश में रहते हैं. इस तरह सूट पूरी सर्दी परेशान करता है. मेरी परेशानी फिलहाल यह है कि मेरे पास सूट नहीं है. हिसाब से तो मेरे पास सूट नहीं होना चाहिए, क्योंकि इसके पहनने का कोई कारण मेरे पास नहीं है, लेकिन बावजूद इसके मेरे पास इसकी एक महत्वाकांक्षी योजना है कि मेरे पास काश! एक सूट हो तो मेरे बराबर वाली सीट पर सूट पहन कर बैठे आदमी को मैं किसी क्षेत्र में परास्त कर देता. यह बराबर वाली सीट मेरे दफ़्तर में ही नहीं, बस में, रेल में, सिनेमा में, सांस्कृतिक संध्या में या फिर किसी आशीर्वाद समारोह में, कहीं भी हो सकती है.

लोगों का मानना है कि सूट पहनने के लिए अच्छी आय या पद का होना अपेक्षित नहीं है. क्योंकि अच्छे पद वाले सूट नहीं पहन पाते और उधर उनके अधीनस्थ लिपिकीयकर्मी रोज सूट बदलते हैं. इस तरह सूट यहाँ फिर धर्मसंकट बन जाता है मेरे लिए. मैंने सूट ज्यादातर उन लोगों के पास देखे हैं जिनकी या तो शादी हो गई है अथवा वे जो भ्रष्टाचार करते हैं. अब वे लोग जिनके पास इन दोनों कारणों को छोड़ कर भी सूट है, उन्हें नाराज इसलिए नहीं होना चाहिए, क्योंकि वे अभी तक अपने गरेबान में नहीं झांक सके हैं. वैभवशाली लोगों के लिए तो खैर सूट पहनावा हो सकता है. लेकिन वे लोग अवश्य इस बारे में सोचें जो बिना वैभव के सूट को शरीर पर टांगकर घूम रहे हैं.

कुछ लोगों का यह भी मानना है कि चाहे उनके कृतित्व कैसे भी हों, लेकिन सूट व्यक्तित्व को निखारता है. व्यक्तित्व का निखार शादी के अवसर तक तो मुनासिब है लेकिन शादी के बाद या तो आदमी व्यक्तित्व निखारने की पोजीशन में नहीं रहता अथवा शादी के बाद भी व्यक्तित्व निखार रहा है तो अवश्य दाल में काला है. आजकल दाल में काला का प्रतिशत और औसत आंकड़ा बढ़ रहा है यह चिंताजनक है. शायद बढ़ते तलाकों में सूट भी कोई भूमिका निर्वाह कर रहा हो, यह प्रश्न सूट पहनने वाले खुद तोलें, हो सकता है उनका सच्चाई से मुकाबला हो जाए. इसलिए व्यक्तित्व निखारने की होड़ अथवा आफत उठाने से पहले तीन बार सोच लें, क्योंकि निखरा हुआ व्यक्तित्व सदा घातक सिद्ध हुआ है. मेरा सूट नहीं पहनने का एक मुख्य कारण यह भी रहा है. मैंने कई बार देखा है कि जब भी मेरा व्यक्तित्व निखरा और मित्र और सहकर्मी ‘न्यू पिंच' कहकर मोटी दावत की मांग उठाते हैं. कुछ मित्र यह भी कह डालते हैं - ‘अरे भाई शर्मा क्या चक्कर है, नंबर दो की कमाई में अंगुलियाँ तर हैं.' कुछ मित्र यह भी कहते हैं - ‘अरे भाई यह सजना संवरना कैसे, क्या भाभी जी पीहर गयी हैं या फिर कोई सुदर्शना पड़ोसिन को रिझाने में लगे हो.' मेरे कहने का आशय यह है कि सूट कई संकटों की जड़ है. बताइये मैं कैसे धारण करूं. जो लोग ये बातें करते हैं वे सोचते हैं जैसे कोई चक्कर बिना सूट के चल ही नहीं सकता. अब उन्हें यह कौन बताए कि हम बिना सूट के भी सभी प्रकार के चक्कर चला देते हैं.

मेरे एक अधिकारी मित्र हैं. हल्की सी गुलाबी सर्दी शुरू होते ही सूट पहन लेते हैं, केवल इसलिए कि उनके व्यक्तित्व को देखकर उनके अधीनस्थकर्मी कम से कम सर्दी सर्दी तो डरे रहेंगे. सूट से डराने की परम्परा हमारे यहाँ आदिकाल से चली आ रही है. सामान्य सा आदमी या गरीब आदमी सूट पहनने वाले को जो अदब पेश करता है, वह मात्र उनका डर ही है. कम पढ़ा लिखा या निरक्षर व्यक्ति भी एक बार सूट पहनकर चेहरे पर तेल लगाले (नहाले तो और भी बढ़िया) तो भाईजान क्या पूछते हो. अंधों का राजा वही बन जाता है. सफर में और पूरे जीवन में कभी इस बात को आजमा कर देख लें. लेकिन इसके लिए बनवाना पड़ेगा एक अदद सूट, जो आपके वश की बात है नहीं. इस डराने की दृष्टि से सूट बनवाना चाहता हूँ क्योंकि इस डराने से अनेक काम अपने आप निकल जाते हैं. किसी दफ़्तर में किसी काम से जाओ. बाबू सूट वाले से पहले बात करता है, सामान्य आदमी को तो पीछे धकिया देता है. इस पोशाक में वह व्यक्ति गंभीर तथा पढ़ा लिखा बौद्धिक दिखाई देता है, चाहे वह है नहीं. कई बार मुझे लगता है कि मैं बात-बात पर हंसने वाला आदमी यदि सूट पहन लूंगा तो यह सूट की तौहीन होगी, क्योंकि मैं ज्यादा लंबे समय तक गंभीरता को चेहरे पर मेंटेन नहीं कर पाऊंगा. इसलिए सोचता हूं कि सूट नहीं भी है तो चलेगा. लेकिन फिर कोई आदमी खामख्वाह नहीं डरे यह खेदजनक लगता है. मेरी भी अपनी इच्छा है कि कोई मुझसे डरे तो भाई इस सफेद स्वेटर के पहनने से तो कोई डरने वाला है नहीं, सूट में जो गंभीरता है वह भला स्वेटर में कहाँ, इसलिए सूट की यादें लिए तड़पता रहता हूँ.

.

.

वैसे सूट की भारतीय पोशाक नहीं है. यह पश्चिम की नकल है. लेकिन नकल में हमारा कोई मुकाबला नहीं है और बिना अक्ल के नकल का कारवां बढ़ाते चलते हैं. सूट में भी यही हो रहा है. ऐसे-ऐसे विदूषक देखे हैं, जो सूट में जँचे या न जँचे, वे इसे धारण कर चार्ली चैपलिन की मूंछों में इतराते हैं. मैंने सुना है सूट खोलकर सोना चाहिए - लेकिन भारतवर्ष में लोग सूट पहनकर सो जाते हैं. इसका कारण यह भी हो सकता है कि उन्होंने जैसे तैसे करके सूट तो बनवा लिया और जब रज़ाई की बारी आई तो वे खाली हो चुके थे. इस तरह सूट उनको रात में रज़ाई का विकल्प बनकर रह गया. कुछ लोग सूट के साथ बूट के महत्व को न समझ कर हवाई चप्पलों में ही घूम रहे हैं उनसे पूछा कि भाई ढंग सा देसी जूता ही ले आओ तो वे तड़ से बोले - ‘कृपया आप सूट को देखें.' भारत में जो लोग सूट पहन रहे हैं, वे इसके धुलाई महात्म्य को भी नहीं समझ पाए हैं. चिकनाई से सूट एक अलग ही रंग की आभा से दमकने लगा है लेकिन वे बेफिक्री से मैल को ढो रहे हैं. क्योंकि उनके पास सूट है. अनेक लोगों को सूट के पेंट को डोरे से बांधे देखा है वे बेल्ट नहीं ला सके हैं. सूट को लेकर अनेक विसंगतियाँ हैं लेकिन उनके अपने अपने निजी कारण हैं और इस भारतीय आबोहवा में सूट परिहास का कारण बन गया है.

वैसे सूट की महत्ता को देखकर इसके कुछ मापदंड तय होने चाहिए. जैसे कि जिसकी मासिक कमाई अमुक राशि से कम नहीं हो, वह सूट नहीं पहन सकता. सूट कहाँ पहना जाए. शादी विवाह में सूट कौन पहने? दफ़्तरों में किस रेंक का आदमी सूट पहने या नहीं. सूट पहनने वालों पर हैलमेट न लगाने वालों की तरह पूछताछ हो तथा यदि वे मापदंडों से इधर उधर पाए जाएँ तो बाकायदा चालान हो. इससे सोसायटी में अफरातफरी नहीं होगी तथा सोसाइटी में लोगों का क्रेज और स्तर बना रहेगा. वरना अब तो सब्जी के ठेले वाला, चाय पान की धड़ी लगाने वाला या गजक बेचने वाला भी सूट पहन रहा है. वह सूट पहनना ही चाहे तो अपने घर में पहने, बाहर दूसरों का स्टेटस क्यों खराब करता है. पहले वह अपना स्टेटस बनाए फिर सूट पहने तब किसी को कोई तकलीफ़ नहीं होगी. अब यह दीगर बात है कि प्रायः बहुत से बड़े लोग, बड़े अफ़सर जिनके पास तथाकथित बड़ा स्टेटस होता है, बस स्टेटस में बड़े होते हैं - मानवता या दूसरे अर्थों में नहीं.

महिलाएँ सूट नहीं पहनती हैं लेकिन वे जो भी पहनती हैं उन पर भी मापदंड प्रभावी हो ताकि सूट वाले अपने स्तर की महिला को पहचान सकें. वैसे ही महिलाओं के वस्त्र कीमती होते हैं लेकिन इसमें भी सीमा रेखा तय हो जाए तो भेदभाव घटेगा तथा समाज में सद्भाव बनेगा. हाँ, जो महिलाएँ सलवार सूट पहनती हैं उन्हें भी पाबंद किया जाना चाहिए - क्योंकि सूट पुरूषों का पहनावा है इसलिए सूटधारी सज्जनों के हित में उन्हें अपनी पोशाक भी उन्हें ही समर्पित कर देनी चाहिए, तब देखना भारतीय संस्कृति के किस तरह से चार चाँद लग जाएंगे. महिलाओं को इसके लिए आगे आना चाहिए तथा पुरुषों के हित में सूट का त्याग करना चाहिए. वैसे महिलाओं को सूट के मामले में स्वतंत्र रखना भी ठीक है ताकि वे जो लोग सूट पहन रहे हैं उनके बारे में सही राय दे सकें.

सूटधारी सज्जनों सर्दी बहुत बढ़ रही है और आपने यदि सूट अभी तक बक्सों में से नहीं निकाला हो तो इस अंग्रेजी पहनावे को अविलम्ब निकालें और धारण कर लें, हो सकता है यह आपके व्यक्तित्व को निखारने में अथवा लोगों को व्यर्थ डराने में कोई न कोई महती भूमिका निभावे. सूट जैसा भी है सूट है. चाहे वह बीस बरस तीस बरस पहले का होने से छोटा हो गया है लेकिन है तो सूट. सूट कई मानसिक व्याधियों का हरता है तथा बराबरी का दर्जा दिलाता है. इसलिए इस मनभावन बेला में पहन लें अपना सूट. सूट में आप अभिनेताओं जैसे लगते हैं. विश्वास नहीं हो तो सूट पहनकर दस बीस मिनट फुल साइज के आइने के सामने खड़े होकर अपने आपको निहारें तथा हमशक्ल हीरो से तुलना करें. थोड़ी देर में आप पाएँगे कि आप वह हो गए हैं. हीरो बनने की ऋतु आ गई है. सूट नहीं हो तो बनवा लें. चाहे आईसीआईसीआई बैंक से ऋण ही क्यों न लेना पड़े. सूट ऐसा बनवाओ कि बराबर वाले की आँख खुली की खुली रह जावे. सूट की इतनी ही कथा नहीं है, वह तो भगवान की कथा की तरह अनंत है. अतः बाकी कथा फिर कभी.

**-**

(साभार: मधुमती, दिसम्बर 1996)

चित्र - रेखा की डिजिटल कलाकृति

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget