सोमवार, 31 दिसंबर 2007

दिव्या माथुर की चंद चुनिंदा कविताएँ

    कविताएं - दिव्या माथुर सुनामी सच   तुम्हारे एक झूठ पर टिकी थी मेरी गृहस्थी मेरे सपने मेरी ख़ुशियाँ तुम्हारा एक सुनामी सच बहा ...

वीरेंद्र जैन की नए वर्ष की शुभकामनाएँ...

नये वर्ष की शुभकामनाएं -वीरेन्द्र जैन नये वर्ष में कम मच्छर हों कम खटमल हों.... नये वर्ष में घिरे न तूफ़ानों की आंधी नये वर्ष में सूली ...

अरूण मित्तल का गीत : नव वर्ष

गीत नव वर्ष -अरूण मित्तल शुभ हो नव वर्ष शुभ हो नव वर्ष चंचल चित्त नाचे झूमकर आये मतवाली घटा घूमकर हो नवीन सृष्टि का उत्कर्ष शुभ हो नव...

डॉ. भावना कुँअर की कहानी : गहना

कहानी गहना -डॉ. भावना कुँअर आज़ भी जब मुझे रूपा की बीती जिंदगी याद आती है तो मेरा रोम-रोम सिहर उठता है कलेज़ा पीड़ा के कारण टूटने लगता ह...

शनिवार, 29 दिसंबर 2007

शिक्षायतन के प्रारंग में बाल दिवस

संस्कृति व सभ्यता का महा विश्वविद्यालय शिक्षायतन प्रस्तुति : देवी नागरानी शिक्षायतन के प्रारंग में बाल दिवस तारीख २, दिसम्बर २००७ शिक्...

शुक्रवार, 28 दिसंबर 2007

देवी नागरानी की पुस्तक समीक्षा : ग़ज़ल कहता हूँ

पुस्तक विचार ग़ज़ल कहता हूँ (समीक्षा) शाइरः प्राण शर्मा प्रकाशक : अनिभव प्रकाशन, ई-२८, लाजपतनगर, साहिबाबाद. उ.प्र. मूल्यः १५०, पन्नेः...

गुरुवार, 27 दिसंबर 2007

आर के भंवर के दो व्यंग्य

व्यंग्य संचालक -आर.के.भंवर एंकर, संचालक, कम्प्येरर, उद्घोषक, एनाउंसर ये सारे शब्द एक उस बहु प्रयोजनीय व्यक्ति के निमित्त गढ़े गये हैं ...

मंगलवार, 25 दिसंबर 2007

अश्विनी केशरवानी का आलेख : छत्तीसगढ़ी काव्य के भारतेन्दु - पंडित सुन्दरलाल शर्मा

28 दिसंबर को पुण्यतिथि के अवसर पर विशेष छत्तीसगढ़ी काव्य के भारतेन्दु पंडित सुन्दरलाल शर्मा -प्रो. अश्विनी केशरवानी महानदी के तटवर्ती ग्र...

अश्विनी केशरवानी का मुकुटधर पाण्डेय पर आलेख

प्रतिभाशाली मुकुट काव्य के मुकुट मनोहर - प्रो. अश्विनी केशरवानी महानदी के तट पर रायगढ़-सारंगढ़ मार्ग के चंद्रपुर से 7 कि.मी. की दूरी पर ...

भारती परिमल का आलेख : स्वागत् नववर्ष के स्वर्णिम सूरज...

आलेख   स्वागत नववर्ष के स्वर्णिम सूरज... -भारती परिमल नवप्रभात के स्वर्णिम सूरज तुम्हारा स्वागत है। साथ ही तुम्हारी रश्मियों से छनकर आते न...

आनंद कृष्ण की उपन्यास समीक्षा : "सफेद पर्दे पर : एक अभिजात्य शून्यता"

सफेद पर्दे पर : एक अभिजात्य शून्यता ( डॉ. रमेश चन्द्र शाह के उपन्यास पर केन्द्रित) - आनंदकृष्ण -----------------------------------------...

प्रो. अश्विनी केशरवानी का आलेख : शादी के लिए कुंडली नहीं, रक्त समूह मिलाइए

आलेख शादी के लिए कुंडली की नहीं रक्त की जांच कराइये -प्रो. अश्विनी केशरवानी मेरे एक मित्र हैं-अनंत, जैसा नाम वैसा गुण, धीरज और सभ्यता ज...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------