शनिवार, 27 जनवरी 2007

कहानी : साहसी राजन

-राजकुमारी श्रीवास्तव कभी-कभी ऐसी घटनाएँ घट जाती हैं जिनकी न तो संभावना होती है और न जिनके घटने की कोई आशा ही कर सकता है. एक दिन केरल ...

सोमवार, 22 जनवरी 2007

कहानी - चुप चन्तारा रोना नहीं

-नीरजा माधव चन्तारा के दोनों हाथ तेज़ी से बेलन के साथ-साथ गोल-गोल घूम रहे थे. चौके पर पड़ी आटे की लोई पूड़ी का आकार ले रही थी. ''त...

गुरुवार, 18 जनवरी 2007

कहानी : कुत्ते

-असगर वजाहत शहर में जब कुत्तों ने गड़बड़ शुरू की और वहाँ भौंकने लगे जहाँ उन्हें दुम हिलानी चाहिए थी तो पाया कि कुत्तों से मुक्ति पाने क...

मंगलवार, 9 जनवरी 2007

संजय विद्रोही की कहानी : हैप्पी न्यू ईयर

कहानी: ‘ हैप्पी न्यू ईयर ' संजय विद्रोही उन दिनों ऑफिस में मदान साहब की तूती बोलती थी। मदान साहब ईस्ट इंडिया कम्पनी के ...

सोमवार, 8 जनवरी 2007

तृतीय प्रकृति के द्वँद

तृतीय प्रकृति के द्वँद -आलेख : डॉ. सुनील दीपक हाल ही में 800 मीटर की दौड़ में पदक जीत कर "स्त्री नहीं ...

शनिवार, 6 जनवरी 2007

शौकत थानवी का व्यंग्य: नेता

व्यंग्य नेता - शौकत थानवी डॉक्टर अंसारी के व्याख्यान का सबसे अधिक प्रभाव भाई मकसूद पर हुआ कि हम लोग हाय-हाय करते रह गए और वह तीर की...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------