370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

कहानी : कल्लो

- ऋषि शर्मा कल्लो शीर्षक पढ़कर पाठक शायद एक बार को चौंकें। मगर यह निश्चित है कि कहानी का केन्द्रीय पात्र कल्लो ही है। तीनो...

item-thumbnail

आपकी यह हौसला अफजाई बहुत काम आएगी

ग़ज़ल - योगेश समदर्शी आपकी यह हौसला अफजाई बहुत काम आएगी सच कहता हूं यदि आपने यूं ही दिया साथ तो वर्षों से रुकी कलम में फिर से जान आएगी मैं...

item-thumbnail

ऑफ़िस नियम

- कान्ति प्रकाश त्यागी एक आफ़िस में कर्मचारी प्रायः नदारद रहते थे , नदारद रहने के कोई ना कॊई बहाने देते थे । जिसको देखो या तो रे...

item-thumbnail

पुस्तक समीक्षा - तुर्रम (बाल उपन्यास) तथा दिवास्वप्न (शिक्षण कला)

- सुधा अवस्थी तुर्रम (बाल उपन्यास) : लेखक - कमलेश भट्‌ट ‘ कमल ' प्रकाशक : आत्मा राम एण्ड संस नई दिल्ली प्रथम संस्करण:2006 , ...

item-thumbnail

व्यंग्य : किसका घर

- नरेन्द्र कोहली रामलुभाया ने एक स्वप्न देखा कि वह भारत का प्रधानमंत्री या कोई साधारण मंत्री बन गया है. बात स्वप्न की है, इसील...

item-thumbnail

कहानी : मृगमरीचिका

-आशुतोष ज़बरदस्त बारिश और घर की बालकनी पर बैठा मैं. बारिश की बूंदों को गिनते-गिनते नहा पड़ी पार्क के पास एक कुतिया. वह अपने दांतों में नन्हे...

item-thumbnail

हास्य कविता : सोने की चिड़िया

-डा० कान्ति प्रकाश त्यागी एक भाई हंसते हुए आये , सुना है अपना देश , एक बार फ़िर सोने की चिड़िया बन गया है. हमने हैरत से पूछ ह...

item-thumbnail

कहानी - फ्राइडे

- अजीत अंजुम आज बॉस का मूड फिर उखड़ा-उखड़ा दिख रहा था. चेहरे पर बारह बज रहे थे. कोई पहली बार देख ले तो यही लगेगा कि अभी-अभी निगमबोध घाट से ...

item-thumbnail

रामेश्वर काम्बोज की चंद ताज़ा कविताएँ

1-कविता क्या है? भोर में पाखी का कलरव गान फिर नील गगन में पंख खोलकर तैरना लेना ऊँची उड़ान । किसलय की नोक पर फिसलती ओस की बूँद पहाड़ की तलह...

item-thumbnail

कहानी : गुरूदेव

-अविनाश गुरुदेव ने पहले ही दिन कहा था, 'बेटा बतकही के चक्कर में जिस दिन पड़े_ख़बर का मर्म भूल जाओगे.' उन्हें लगता था कि लड़का नया-न...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव