---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

चांपा का कोसा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लेकिन बदहाल है कोसा बुनकर

साझा करें:

- प्रो. अश्विनी केशरवानी चा ंपा , छत्तीसगढ़ प्रदेश के जांजगीर-चांपा जिलान्तर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 200 में स्थित दक्षिण पूर्वी म...

kosa Bunkar

- प्रो. अश्विनी केशरवानी

चांपा, छत्तीसगढ़ प्रदेश के जांजगीर-चांपा जिलान्तर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 200 में स्थित दक्षिण पूर्वी मध्य रेल्वे का ऊर्जा नगरी के जोड़ने वाला एक महत्वपूर्ण जंक्शन है जो 22.2 अंश उत्तरी अक्षांश और 82.43 अंश पूर्वी देशांश पर स्थित है। समुद्र सतह से 500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हसदो नदी के तट पर बसा यह नगर अपने प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण है। कोरबा रोड में मड़वारानी की पहाड़ियां, मदनपुर की झांकियां, बिछुलवा नाला, केरा झरिया, हनुमान धारा और पीथमपुर के छोटे-बड़े मंदिर चांपा को दर्शनीय बनाते हैं। यहां का रामबांधा देव-देवियों के मंदिरों से सुशोभित और विशाल वृक्षों से परिवेष्ठित और राजमहल का मनोरम दृश्य है। यहां मित्रता के प्रतीक समलेश्वरी देवी और जगन्नाथ मठ उड़िया संस्कृति की साक्षी हैं। डोंगाघाट स्थित श्रीराम पंचायत, वीर बजरंगबली, राधाकृष्ण का भव्य मंदिर, तपसी बाबा का आश्रम, मदनपुर की महामाया और मनिकादेवी, हनुमान धारा में हनुमान मंदिर, पीथमपुर का कलेश्वरनाथ का मंदिर और कोरबा रोड में मड़वारानी का मंदिर छत्तीसगढ़ी संस्कृति कर जीता जागता उदाहरण है। कवि श्री विद्याभूषण मिश्र की एक बानगी पेश है :-

जहां रामबांधा पूरब में लहराता है

पश्चिम में केराझरिया झर झर गाता है।

जहां मूर्तियों को हसदो है अर्ध्य चढ़ाती

भक्ति स्वयं तपसी आश्रम में है इठलाती

सदा कलेश्वरनाथ मुग्ध जिस पर रहते हें

तपसी जी के आशीर्वचन जहां पलते हैं

वरद्हस्त समलाई देवी का जो पाते

ऐसी नगर की महिमा क्या भूषण गाये।

प्राचीन काल में चांपा एक जमींदारी थी। जमींदार स्व. नेमसिंह के वंशज अपनी जमींदारी का सदर मुख्यालय मदनपुरगढ़ से चांपा ले आये थे। रामबांधा, लच्छीबांधा और दोनों ओर से हसदो नदी से घिरा सुरक्षित महल का निर्माण के साथ चांपा जमींदारी का अपना एक उज्जवल इतिहास है।

चांपा में कोसा व्यवसाय :-

चांपा, छत्तीसगढ़ प्रदेश का एक महत्वपूर्ण नगर है। आज इसे कोसा, कांसा, कंचन की नगरी कहा जाता है। मध्य भारत पेपर मिल की स्थापना और कागज के उत्पादन से एक नाम और जुड़ गया है। प्रकाश स्पंज आयरन लिमिटेड के अलावा चांपा के आसपास अनेक औद्योगिक प्रतिष्ठान के आने से यह औद्योगिक नगर बन गया है। यहां के गलियों में जहां कोसे की लूम की खटर पिटर सुनने को मिलता है वहीं सोने-चांदी के जेवरों के व्यापारी अवश्य मिल जायेंगे। यहां की तंग और संकरी गलियों में भव्य और आलीशान भवन से यहां की भव्यता का अंदाजा लगाया जा सकता है। चांपा जमींदार के द्वारा आर्थिक सम्पन्नता के लिए व्यवसायी परिवारों को यहां आमंत्रित कर बसाया गया था। इनमें श्री गंगाराम श्रीराम देवांगन, श्री पतिराम लखनलाल देवांगन, श्री गणेशराम शालिगराम देवांगन, श्री नंदकुमार देवांगन, श्री रामगुलाम नोहरलाल देवांगन, श्री बहोरनलाल महेशराम देवांगन, श्री चतुर्भुज मनोहरलाल देवांगन, श्री मोतीराम माखनलाल देवांगन, श्री सदाशिव तिलकराम देवांगन, श्री दाऊराम देवांगन, श्री बिहारीलाल रंजीतराम देवांगन, श्री नारायण प्रसाद बेनीराम देवांगन और श्री परागराम पीलाराम देवांगन का परिवार प्रमुख है। इसके अलावा अनेक देवांगन परिवार भी यहां आकर बसे। इनमें प्राय: सभी कोसा बुनकरी का कार्य करते थे। बुनकर परिवारों का सही आंकड़ा देवांगन समाज के लोग भी नहीं बता सके। लेकिन एक अनुमान है कि नगरपालिका क्षेत्र में लगभग 1300 से 1500 परिवार निवास करते हैं और लगभग 5000 मतदाता हैं। हर मुहल्ले का मुखिया 'मेहर' कहलाता है। कुछ लोगों का बुनकरी के साथ कोसा का व्यवसाय अच्छा चलने लगा और वे महाजन कहलाने लगे और जैसे कहावत है कि 'पैसा पैसा कमाता है.. पैसे की आवक हुई और वे 'साव' कहलाने लगे। ऐसे लोग पैतृक बुनकरी के बजाय दुकान चलाने लगे। वे कोसे बुनकरी का कच्चा समान बुनकर परिवारों को देकर ग्राहकों की आवश्यकतानुसार कपड़ा बनवाकर बाजार में बेचने लगे। धीरे धीरे कपड़ों के डिजाइन में परिवर्तन होने लगा... सिंथेटिक कपड़ों के समान रंगीन, कसीदाकारी युक्त, उड़िया बार्डर और ब्लीच्ड कपड़ों का आकर्षण लोगों को कोसा कपड़ों की ओर खींचने लगा। आज सभी मौसम में कोसा सूटिंग, शटिंग, धोती-कुर्ता, सलवार सूट और साड़ियों का विशाल कलेक्शन बाजार में उपलब्ध है। इन्हें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बेचकर आर्थिक सम्पन्नता हासिल की जा रही है। आज देश के सभी बड़े शहरों कलकत्ता, मुम्बई, नेपाल, चेन्नई, बेंगलोर, हैदराबाद, सिकंदराबाद, अहमदाबाद, नागपुर, जबलपुर, इंदौर, भोपाल, विशाखापट्टनम, दिल्ली, जयपुर, आदि में चांपा के कोसे का व्यवसाय फैला हुआ है।

कोसा व्यवसाय और श्री बिसाहूदास महंत :-

अविभाजित मध्यप्रदेश में तहसील स्तर में केवल चांपा में ही इंडस्ट्रियल ईस्टेट बनाया गया था। तब यहां छोटे मोटे उद्योग के अलावा कोसा, कांसा और सोने-चांदी के जेवर बनाने का कार्य कुटीर उद्योग के रूप में प्रचलित था। लोग अपने घरों में कोसे की साड़ियां, धोती और कुर्ते का कपड़ा बनाकर बाजार में बेचते थे। उस समय कोसा कपड़े के खरीददार नहीं होते थे। कुछ सेठ-महाजन ही पूजा-पाठ के समय इसका उपयोग करते थे। कदाचित इसी कारण इसका ज्यादा प्रचलन नहीं था। चांपा से 14 कि. मी. की दूरी पर स्थित सारागांव के श्री बिसाहूदास महंत चांपा विधानसभा के पहले विधायक फिर मध्यप्रदेश शासन में केबिनेट मंत्री बने। चांपा की गलियों और घरों में कोसा कपड़ों को बनते उन्होंने देखा था। कुछ देवांगन (बुनकर) परिवार से उनका बहुत ही अच्छा सम्बंध था। वे अक्सर उन्हें कोसा व्यवसाय को अन्य शहरों में भी फैलाने की सलाह दिया करते थे। लेकिन बुनकर परिवार आर्थिक रूप से सक्षम नहीं थे और कोसा कपड़ा की बनावट उतना आकर्षक भी नहीं था जिसे वे अन्य शहरों में ले जाते ? हां कुछ लोग कोसा कपड़ा/धोती और साड़ी को पवित्र तथा पूजा-पाठ में प्रयुक्त होने वाला कपड़ा मानने के कारण चांपा से खरीदकर अवश्य ले जाते थे। लेकिन श्री बिसाहूदास महंत जी के सद्प्रयास से ही चांपा के कोसा व्यवसायी यहां के कोसा कपड़ों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ले जाने में सफल हो गये। इसके लिए मध्यप्रदेश शासन में टेक्टाइल कारपोरेशन की स्थापना भी करायी थी जिसके माध्यम से कोसा कपड़ों को बाजार मिला और यह पूरे देश में लोकप्रिय हो गया। यहां के व्यवसायी नवीनतम तकनीक को अपनाकर कोसा के कपड़ों को आकर्षक डिजाइनों में बाजार में प्रस्तुत किया जिसे लोगों ने बहुत पसंद किया। आज कोसा अनेक आकर्षक डिजाइनों में सिंथेटिक कपड़ों के समान चांपा के बाजार में मिलने लगा है। आज कोसा कपड़ा न केवल पूजा-पाठ के समय पहनने वाला कपड़ा रह गया है वरन अनेक अवसरों, आयोजनों में पहनने का कपड़ा हो गया है।

चांपा के बुनकर परिवार :-

आज चांपा में अपना देवांगन समाज है। जांजगीर-चांपा जिले के चांपा, सिवनी, उमरेली, सक्ती, बाराद्वार, ठठारी, बेलादुला, मालखरौदा, जांजगीर, बलौदा, आदि में देवांगन परिवार रहते हैं। केवल चांपा में ही लगभग एक हजार देवांगन (बुनकर) परिवार निवास करते हैं। इनमें से अधिकांश परिवार कोसा कपड़े का बुनकरी का कार्य करते हैं। यहां के हर गली-मुहल्ले में हाथ करघे की खट खट सुनने को मिल जायेगी। बुनकर लोग पान ठेला, सब्जी, दूध, गल्ला-किराना, सोने-चांदी और कपड़े आदि का व्यवसाय करने लगे हैं। ऐसे लोगों का कहना है कि इस व्यवसाय में उन्हें उतनी आमदनी नहीं होती जिससे उनके परिवार का गुजारा चल सके। कुछ लोग नौकरी भी करने लगे हैं और अच्छे पदों पर पदस्थ हैं। श्री संतोष कुमार देवांगन अनुविभागीय अधिकारी, राजस्व के पद पर पत्थलगांव में पदस्थ हैं। श्री छतराम देवांगन बलौदा विधानसभा के विधायक और छ. ग. शासन में संसदीय सचिव और श्री मोतीलाल देवांगन चांपा विधानसभा के विधायक हैं। श्री कमल देवांगन छत्तीसगढ़ राज्य हाथकरघा विकास एवं विपणन सहकारी संघ मर्यादित, रायपुर के अध्यक्ष हैं। कुछ लोग अपने पैतृक व्यवसाय के अलावा अन्य व्यवसाय को अपनाने लगे हैं। इसके बावजूद चांपा के कोसा कपड़ों की मांग अमरीका, यूरोप, जर्मनी, इटली, फ्रांस, चीन, नेपाल, कनाडा, इंग्लैंड और स्विटजरलैंड आदि में बहुतायत में हैं। कुछ व्यापारी यहां से सीधे कोसा के कपड़े सीधे विदेश भेजते हैं और कुछ दूसरे व्यापारी के माध्यम से भेजते हैं।

बदहाल बुनकर :-

इतने अच्छे कोसा के कपड़ों को बनाने वाले बुनकरों की हालत बहुत अच्छी नही है। रात दिन कड़ी मेहनत करने वाले बुनकर अपने परिवार के पेट की आग को शांत करने में अक्षम हैं। ऐसे एक बुनकर ने बताया कि रेशम संचालनालय के सिवनी कार्यालय से आम बुनकरों को कोसे का धागा नहीं मिल पाता क्योंकि वहां भी महाजनों का कब्जा है। मजबूरी में उन्हें महाजनों से धागा खरीदकर कपड़ा बुनना पड़ा है। पिछले साल सिवनी में पंद्रह लाख कोसा फल आया था लेकिन आम बुनकर को एक भी फल नहीं मिल पाया, उसे महाजन और उनके संपर्क में रहने वाले बुनकर खरीद लिए। दलालों के माध्यम से कोसा फल खरीदने पर उन्हें शासन की दर से तीन गुने अधिक दर में कोसा फल खरीदना पड़ता है। आज अधिकांश कोसे के व्यवसायी कोसा फल अथवा धागा वजन करके देता है और ग्राहकों की मांग के अनुरूप बुनकर कपड़े की बुनाई करके केवल मजदूरी पाता है। एक अन्य बुनकर ने बताया कि उन्हें पैंतीस मीटर कपड़े की मजदूरी सिर्फ सात सौ रूपये, एक शाल की बुनाई मात्र सत्तर रूपये, एक साड़ी की बुनाई सिर्फ ढाई सौ रूपये मिलता है। यही कपड़े राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चार से दस गुने अधिक दामों में बेचे जाते हैं।

कोसे की इल्लियां :-

शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय चांपा में टसर टेक्नालॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. अश्विनी केशरवानी ने बताया कि सामान्यतया कोसा की इल्लियां साल, सागौन, शहतूत और अर्जुन की पत्तियों को खाकर ककून बनाती हैं। ककून से धागा निकालकर कपड़े की बिनाई की जाती है। ये निम्न प्रकार के होते हैं :-

1- मलबरी कोसा :- यह छोटे आकार का मुलायम कोसा होता है। इसका रंग सफेद, पिला, केसरिया और हल्का पीला होता है।

2- तसर कोसा :- इसके रेशे का रंग भूरा, पीला, काला व सफेद होता है।

3- मूंगा कोसा :- यह मलबरी कोसे के समान होता है। इसके रेशे का रंग सुनहरा होता है। इसका सर्वाधिक उत्पादन आसाम में होता है। रंग के आधार पर इसे गोल्डन सिल्क भी कहा जाता है।

4- ऐरी कोसा :- इसका रंग पीला व सफेद होता है। इसका उत्पादन देश के पूर्वी प्रदेश आसाम, त्रिपुरा, मेघालय के अलावा उत्तरप्रदेश, में होता है।

5- पोली कोसा :- यह सामान्य आकार से बड़े व छोटे आकार में पाये जाते हैं। जब कोसा की तितली के द्वारा कोसा फल (ककून) बनाने के बाद वह उसे छेदकर बाहर निकल आती है जिससे ककून पोली हो जाती है। इसीलिए इसे पोली कोसा कहा जाता है।

6- रैली कोसा :- इसका रंग काला और आकार बड़ा होता है। इसके धागे को ही रैली धागा कहा जाता है। साल, महुवा आदि पेड़ों पर इसका उत्पादन किया जाता है।

7- मोमरा कोसा :- जिसमें कोसे का धागे कम मात्रा में और बड़ी मुश्किल से निकलता है उसे मोमरा कोसा कहते हैं।

कोसा और रोजगार :-

रोजगार की दृष्टि से कृषि के बाद हाथ करघा उद्योग को महत्वपूर्ण माना गया है। इससे रोजगार प्राप्त व्यक्तियों की संख्या पूरे देश में लगभग दो करोड़ है। इसी प्रकार कुल राष्ट्रीय आय में हाथ करघा उद्योग का लगभग सात प्रतिशत होता है। पूरे देश में लगभग एक करोड़ हाथ करघा और पावर लूम हैं। इससे लगभग दो करोड़ व्यक्तियों को रोजगार प्राप्त है। पूरे छत्तीसगढ़ में रायगढ़, जशपुर, सरगुजा, कोरिया, जगदलपुर, बिलासपुर, कोरबा और जांजगीर-चांपा और पाली में ककून का उत्पादन होता है। कोसे के फल (ककून) से लगभग 1000 से 1200 मीटर धागा निकलता है। आजकल कोसे के धागे की जगह कोरिया से एक विशेष प्रकार के धागा जो कोसे के धागे के समान होता है, उपयोग किया जाता है।

सरकारी योजनाएं :-

राज्य और केंद्रीय शासन की ऐसी बहुत सी योजनाएं हैं जिनकी जानकारी सहकारी और स्वयंसेवी संस्थाओं के माध्यम लोगों को देने का प्रावधान है लेकिन बुनकरों का कहना है कि ऐसा नहीं होता। जो उनके संपर्क में रहता है उन्हें ही इसकी जानकारी मिल पाती है। इसीलिए वे इस योजनाओं का लाभ नहीं ले पाते। ऐसी संस्थाओं में भी बड़े महाजनों और दलालों का कब्जा होता है। श्री कमल देवांगन, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ राज्य हाथकरघा विकास एवं विपणन सहकारी संघ मर्यादित, रायपुर ने एक साक्षात्कार में बताया कि जांजगीर-चांपा जिला में 25 और पूरे प्रदेश में पहले केवल 80-85 बुनकर सहकारी समितियां विपणन संघ से जुड़ी थी लेकिन अभी 127 समितियां कार्यरत हैं। चांपा में पांच समिति क्रमश: तपसी बाबा कोसा बुनकर सहकारी समिति, जय अम्बे कोसा बुनकर सहकारी समिति, गंगा यमुना कोसा बुनकर सहकार समिति, कबीर कोसा बुनकर सहकारी समिति और जागृति कोसा बुनकर सहकारी समिति कार्यरत हें। इन समितियों के माध्यम से बुनकरों को शासन से मिलने वाली सुविधाएं बुनकरों को प्रदान की जाती हैं। उन्होंने बताया कि पूरे देश में चांपा से 5वीं, 8वीं, 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में 60 से 90 प्रतिशत अंक पाने वाले विद्यार्थियों को माननीय डॉ. रमनसिंह के कर कमलों से पुरस्कार प्रदान किया जावेगा। प्रदेश का विपणन संघ न केवल कोसा बुनकर बल्कि सभी प्रकार के हाथकरघा बुनकरों के उत्थान के लिए प्रयास कर रही है। उनका प्रयास है कि प्रदेश का कोई भी बुनकर खाली न रहे।

कोसे की तकनीकी एवं शिक्षा देने वाली संस्थाएं :-

चांपा में हेंडलूम टेक्नालॉजी का एक राष्ट्रीय संस्थान खोला गया है। इसी प्रकार यहां के शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बी. एस-सी. टसर टेक्नालॉजी और एड आन कोर्स के रूप में सेरीकल्चर विषय में सर्टिफिकेट कोर्स खोला गया है। इन संस्थानों एवं विषयों को खुलवाने में चांपा विधानसभा के विधायक श्री मोतीलाल देवांगन एवं मध्यप्रदेश शासन के पूर्व मंत्री श्री बलिहार सिंह का योगदान रहा है। निश्चित रूप से इन संस्थानों और विषयों के खुलने से न केवल चांपा बल्कि छत्तीसगढ़ प्रदेश के विद्यार्थियों को लाभ होगा। उन्हें डिग्री के साथ नई तकनालॉजी का ज्ञान होगा जिससे कोसा कपड़ों की बुनकरी में नयापन आयेगा।

कोसा व्यवसाय और पुरस्कार :-

देश के सिध्दहस्त बुनकरों को राष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित किये जाते हैं। खुशी की बात है कि छत्तीसगढ़ के लगभग एक दर्जन बुनकरों को राष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है। श्री सुखराम देवांगन को कोसा दुपट्टा बनाने की कला में उल्लेखनीय योगदान के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। इसके पूर्व श्री पूरनलाल देवांगन को 1993 में एवं उनके पुत्र श्री नीलांबर प्रसाद देवांगन को 2002 में राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। कोसा कपड़े पर उत्कृष्ट डिजाइन के लिए श्री ओमप्रकाश देवांगन को मुख्य मंत्री डॉ. रमन सिंह ने एक लाख रूपये नगद, शील्ड और प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया है।

बुनकरों के लिए क्या करें :-

बुनकरों के उत्थान के लिए निम्नलिखित कार्य किया जाना समीचीन होगा :-

1- छत्तीसगढ़ के हाथ करघा उद्योग के विकास एवं विस्तार हेतु देश के प्रमुख शहरों में विक्रय केंद्र (एम्पोरियम) खोला जाना चाहिए।

2- छत्तीसगढ़ में सूती एवं कोसा कपड़ों के निर्यात की अपार संभावनाएं हैं। इसे ध्यान में रखते हुए एक विकसित रंगाई, छपाई एवं प्रोसेसिंग इंस्टीटयूट खोला जाना चाहिए।

3- छत्तीसगढ़ के अधिकांश बुनकर आज भी अपने परंपरागत तरीके से बुनाई करते हैं जबकि आज के वैज्ञानिक युग में फिनिशिंग वर्क की मांग अधिक है। अत: यहां के बुनकरों के लिए उन्नत किस्म के उपकरणों की आवश्यकता है। समय समय पर बुनकरों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा जाना चाहिए।

4- स्वदेशी और निर्यात बाजार में चांपा के कोसा और हाथ करघा वस्त्रों को नई तकनीक देने के लिए बुनकर सेवा संघ चांपा में स्थापित की जानी ताकि बुनकरों में कलस्तर तकनीक को विकसित किया जा सके।

5- केंद्रीय योजनाओं की सही जानकारी सर्व सुलभ कराते हुए उसके सफल क्रियान्वयन कर हाथ करघा उद्योग को अधिकाधिक रोजगारमूलक बनाया जाये।

6- हाथ करघा बुनकरों को यार्न की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु सूती हाथ करघा सघन क्षेत्र रायपुर में एन. एच. डी. सी. के सूती यार्न बैंक की स्थापना की जानी चाहिए।

7- छत्तीसगढ़ में निर्यात संभावनाओं को देखते हुए रायपुर में हैंडलूम एक्सपोर्ट प्रमोशन काऊंसिल कार्यालय शीघ्र की जानी चाहिये।

8- कोसा उत्पादों की बिक्री के लिए नियमित बाजार की आवश्यकता को देखते हुए रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़ और दुर्ग आदि शहरों में दिल्ली हाट के तर्ज पर छत्तीसगढ़ हाट की स्थापना की जानी चाहिये।

--------------------.

रचना, आलेख, फोटो एवं प्रस्तुति,

प्रो. अश्विनी केशरवानी

राघव, डागा कालोनी, चांपा (छ.ग.)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 9
  1. चांपा के बरे मी काफी रुचिकर जानकारी दी आपने. साधुवाद स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया जानकारी!! साधुवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामी6:12 pm

    champa ke kosa aur bunkaron ke bare me achchhi jankari ke liye sadhuwad
    anjal kumar

    उत्तर देंहटाएं
  4. you have wrote very nice script of champa's own history i hope u will do better for champa in future

    T/R
    Rajesh Dewangan
    Seoni
    B.Sc.

    उत्तर देंहटाएं
  5. U have very great idea about our champa we thankful to all of u who wrote this nice script about champa & dewangan (society).Ihope u will do better like this in future,if u need to some more information about dewangna's personal life related then pls contact me with freely again thanking u very muuch

    rajesh dewangan
    seoni(champa)

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छा लेख है सर पर बुनकरों के बुरे दिन समझ से परे है। वो मेहताना लेकर काम करते हैं वो भी कैश लेकर महाजन पहले फंड लगाता है फिर बुनकर को बुनाइ के लिए देता है अगर बुनकर बुनाई में कोई गलती करता है तो महाजन का रिस्क, बुनकर के बाद फिनिशिंग में कोई गलती तो महाजन का रिस्क, फिनिशिंग के बाद बायर को ३ से ४ महीने की उधारी का मार, और अगर बायर भाग जाए तो लाखों का नुक़सान।
    तो सारा रिस्क महाजन का और बुनकर बुनकरी कर कैश लेकर दारू मुर्गा में पैसा उड़ाकर दुख पा रहा है तो उसमें महाजन की क्या गलती।
    वैसे जितने भी महाजन है या तो कभी बुनकर थे या अपने सुझबुझ से आगे बढ़े हैं। आज कितने उदाहरण हैं इस बात के।

    मेरे ख्याल से सर आपको थोड़ा और रिसर्च कर अपने लेख सुधारना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छा लेख है सर पर बुनकरों के बुरे दिन समझ से परे है। वो मेहताना लेकर काम करते हैं वो भी कैश लेकर महाजन पहले फंड लगाता है फिर बुनकर को बुनाइ के लिए देता है अगर बुनकर बुनाई में कोई गलती करता है तो महाजन का रिस्क, बुनकर के बाद फिनिशिंग में कोई गलती तो महाजन का रिस्क, फिनिशिंग के बाद बायर को ३ से ४ महीने की उधारी का मार, और अगर बायर भाग जाए तो लाखों का नुक़सान।
    तो सारा रिस्क महाजन का और बुनकर बुनकरी कर कैश लेकर दारू मुर्गा में पैसा उड़ाकर दुख पा रहा है तो उसमें महाजन की क्या गलती।
    वैसे जितने भी महाजन है या तो कभी बुनकर थे या अपने सुझबुझ से आगे बढ़े हैं। आज कितने उदाहरण हैं इस बात के।

    मेरे ख्याल से सर आपको थोड़ा और रिसर्च कर अपने लेख सुधारना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

---प्रायोजक---

---***---

|कथा-कहानी_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|काव्य-जगत_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

---प्रायोजक---

---***---

|लघुकथा_$type=three$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|उपन्यास_$type=complex$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$label=1$count=7$page=1$com=0$va=0$rm=1$src=random

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=complex$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3979,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2948,कहानी,2216,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,520,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,94,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,339,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,62,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,10,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,26,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1197,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1992,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,697,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,772,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: चांपा का कोसा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लेकिन बदहाल है कोसा बुनकर
चांपा का कोसा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लेकिन बदहाल है कोसा बुनकर
http://lh6.google.com/raviratlami/Rzhc6oyXEYI/AAAAAAAACB0/266TMfz-5pc/kosa%20Bunkar_thumb%5B1%5D
http://lh6.google.com/raviratlami/Rzhc6oyXEYI/AAAAAAAACB0/266TMfz-5pc/s72-c/kosa%20Bunkar_thumb%5B1%5D
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2007/11/blog-post_12.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2007/11/blog-post_12.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ