मंगलवार, 27 फ़रवरी 2007

कहानी : कल्लो

- ऋषि शर्मा कल्लो शीर्षक पढ़कर पाठक शायद एक बार को चौंकें। मगर यह निश्चित है कि कहानी का केन्द्रीय पात्र कल्लो ही है। तीनो...

शनिवार, 24 फ़रवरी 2007

आपकी यह हौसला अफजाई बहुत काम आएगी

ग़ज़ल - योगेश समदर्शी आपकी यह हौसला अफजाई बहुत काम आएगी सच कहता हूं यदि आपने यूं ही दिया साथ तो वर्षों से रुकी कलम में फिर से जान आएगी मैं...

शुक्रवार, 23 फ़रवरी 2007

ऑफ़िस नियम

- कान्ति प्रकाश त्यागी एक आफ़िस में कर्मचारी प्रायः नदारद रहते थे , नदारद रहने के कोई ना कॊई बहाने देते थे । जिसको देखो या तो रे...

मंगलवार, 20 फ़रवरी 2007

पुस्तक समीक्षा - तुर्रम (बाल उपन्यास) तथा दिवास्वप्न (शिक्षण कला)

- सुधा अवस्थी तुर्रम (बाल उपन्यास) : लेखक - कमलेश भट्‌ट ‘ कमल ' प्रकाशक : आत्मा राम एण्ड संस नई दिल्ली प्रथम संस्करण:2006 , ...

शनिवार, 17 फ़रवरी 2007

व्यंग्य : किसका घर

- नरेन्द्र कोहली रामलुभाया ने एक स्वप्न देखा कि वह भारत का प्रधानमंत्री या कोई साधारण मंत्री बन गया है. बात स्वप्न की है, इसील...

बुधवार, 14 फ़रवरी 2007

कहानी : मृगमरीचिका

-आशुतोष ज़बरदस्त बारिश और घर की बालकनी पर बैठा मैं. बारिश की बूंदों को गिनते-गिनते नहा पड़ी पार्क के पास एक कुतिया. वह अपने दांतों में नन्हे...

रविवार, 11 फ़रवरी 2007

हास्य कविता : सोने की चिड़िया

-डा० कान्ति प्रकाश त्यागी एक भाई हंसते हुए आये , सुना है अपना देश , एक बार फ़िर सोने की चिड़िया बन गया है. हमने हैरत से पूछ ह...

शनिवार, 10 फ़रवरी 2007

कहानी - फ्राइडे

- अजीत अंजुम आज बॉस का मूड फिर उखड़ा-उखड़ा दिख रहा था. चेहरे पर बारह बज रहे थे. कोई पहली बार देख ले तो यही लगेगा कि अभी-अभी निगमबोध घाट से ...

गुरुवार, 8 फ़रवरी 2007

रामेश्वर काम्बोज की चंद ताज़ा कविताएँ

1-कविता क्या है? भोर में पाखी का कलरव गान फिर नील गगन में पंख खोलकर तैरना लेना ऊँची उड़ान । किसलय की नोक पर फिसलती ओस की बूँद पहाड़ की तलह...

सोमवार, 5 फ़रवरी 2007

कहानी : गुरूदेव

-अविनाश गुरुदेव ने पहले ही दिन कहा था, 'बेटा बतकही के चक्कर में जिस दिन पड़े_ख़बर का मर्म भूल जाओगे.' उन्हें लगता था कि लड़का नया-न...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------