गुरुवार, 29 नवंबर 2007

पंडित मालिकराम भोगहा का साहित्यिक अवदान

पुण्यतिथि : 30 नवंबर  पर विशेष पंडित मालिकराम भोगहा का साहित्यिक अवदान प्रो. अश्विनी केशरवानी छत्तीसगढ़ प्रदेश अनेक अर्थों में अपनी विशे...

कविता संग्रह : तारों के गीत

डॉ. महेंद्र भटनागर उत्कृष्ट काव्य-संवेदना समन्वित द्वि-भाषिक कवि : हिन्दी और अंग्रेज़ी। सन् 1941 से काव्य-रचना आरम्भ। 'विशाल भारत&#...

बुधवार, 28 नवंबर 2007

सुशील कुमार की कविताएँ

यह चुप्पियों का शहर है -   सुशील कुमार यह चुप्पियों का शहर है निजाम बदल गयी तंजी में बदल गयीं पर इस शहर की तसवीर नहीं बदली यह, हादसों क...

रविवार, 25 नवंबर 2007

छत्तीसगढ़ और पंडित शुकलाल पांडेय

प्रो. अश्विनी केशरवानी भव्य ललाट, त्रिपुंड चंदन, सघन काली मूँछें और गांधी टोपी लगाये साँवले, ठिगने व्यक्तित्व के धनी पंडित शुकलाल पांडेय...

शनिवार, 24 नवंबर 2007

बाल-साहित्य : हँस-हँस गाने गाएँ हम !

बाल-साहित्य   हँस-हँस गाने गाएँ हम !  कवि - डॉ. महेंद्रभटनागर                                                                          ...

जब भी यह दिल उदास होता है, जाने कौन आस पास होता है...

गुलज़ार के चंद नगमे (1) जब भी यह दिल उदास होता है जाने कौन आस-पास होता है होंठ चुपचाप बोलते हों जब सांस कुछ तेज़-तेज़ चलती हो आंखें जब द...

शुक्रवार, 23 नवंबर 2007

अतुल चतुर्वेदी की कविता : स्थगन

कविता -अतुल चतुर्वेदी स्थगित हो जायेंगे सब सोचे हुए काम एक दिन वयस्त्तायें पट जायेंगी  रात के कुहासे सी बिखरी होगीं साजिशें चारों तरफ़ ऐ...

मंगलवार, 20 नवंबर 2007

युवक- युवती सम्मेलन

कविता     -डॉ० कान्ति प्रकाश त्यागी   कुछ लड़के और लड़कियों के मम्मी और पाप आपस में मिले एक ने दूसरे को , दूसरे ने तीसरे को उचित वर ...

सोमवार, 19 नवंबर 2007

वीडियोकास्ट : सत्यप्रसन्न के दोहे

सत्यप्रसन्न के चंद दोहे रचनाकार पर आपने यहाँ पढ़े. इनका सस्वर पाठ नीचे दिए गए वीडियो में आप देख-सुन सकते हैं.   आप स्वयं अपनी रचनाओं को ...

रविवार, 18 नवंबर 2007

दोस्तों का कर्ज

बाल कहानी दोस्तों का कर्ज -ज़ाकिर अली `रजनीश´ शाम का समय था। असलम उस समय कमरे में अकेला था। वह अभी-अभी खेल के मैदान से लौटा था। उसने कनख...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------