370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...
item-thumbnail

महेंद्र भटनागर का कविता संग्रह : आहत युग

आहत युग -महेंद्र भटनागर (इस कविता संग्रह का ई-बुक यहाँ से डाउनलोड करें) * (१) संग्राम; और जिस स्वप्न को साकार करने के लिए- ...

item-thumbnail

तरूण शर्मा की ग़ज़ल : सुबह का ख्वाब दिखा गया कोई...

ग़ज़ल -तरूण शर्मा मेरी मजार पे एक चिराग जला गया कोई बुझती उम्मीदों को एक आस दिखा गया कोई आज की रात बहुत बेचैन है कटती ही नही सुबह का एक ...

item-thumbnail

विश्व हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में भारत भवन लन्दन द्वारा हिन्दी विद्वानों का सम्मान

यह सभी उपस्थित जनों के लिये एक विशेष अनुभव रहा होगा क्यों कि भारतीय उच्चायोग लंदन, यू.के. में कार्यरत हिन्दी विद्वानों का सम्मान कर रहा था...

item-thumbnail

विद्या देवदास नायर की कविता : आखिरी झलक

कविता आखिरी झलक -विद्या देवदास नायर पहले मैं भी सोचा करता था , जब कोई अपना हमसे दूर चला जाता , तो किसी से ये दर्द क्यों नहीं ...

item-thumbnail

अनिल पाण्डेय का आलेख : आंसू की सार्थकता

आलेख आंसू की सार्थकता -अनिल पाण्डेय आंसू जो कभी कभार बहा करते हैं। बेवजह और अनायास। तब जब हम किसी को विदा करते हैं या किसी के घर से...

item-thumbnail

मेराज अहमद की कहानी : सही

कहानी सही - मेराज अहमद गाँव के लोग काहिल होते हैं।‘‘ बेटे की मां ने उसके पेपर में आये सवाल को दुहराते हुए कहा, ’’बताओ सही कि गलत?‘‘ ...

item-thumbnail

सीमा सचदेव की कहानी : मुखौटा

कहानी मुखौटा -सीमा सचदेव मेट्रिक पास , उम्र लगभग सोलह साल ,बातों में इतनी कुशल कि बड़े-बड़ों मात दे जाए , साँवला रंग , दरमियान कद ,...

item-thumbnail

प्रेम कुमार की कहानी : तिब्बत बाजार

कहानी तिब्बत बाजार -प्रेम कुमार फुब्बू, तुम्हारे अलीगढ़ से जाने के बाद भी एक पत्र लिखा था। उसका क्या हुआ, मालूम नहीं। जब तुम्हारा...

item-thumbnail

दिव्य प्रकाश दुबे का सस्वर, जीवंत कविता पाठ : आज अचानक फिर से वो टकरा गए

हम सभी कभी न कभी डायरी लिखते हैं या कोशिश करते हैं कुछ यादों को ,कुछ पन्नों में समेटने की ये कविता उसी कोशिश का एक हिस्सा भर है (कविता क...

मुख्यपृष्ठ archive

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव