बुधवार, 30 अप्रैल 2008

संजय सेन सागर की कविता : एक घर था मेरा...

एक घर था मेरा। -संजय सेन सागर एक घर था मेरा, अब कई घर है मेरे इसी घर में पाला था ,मैंने अपने तीन लड़कों को । अब वे सभी पालते हैं ,...

मंगलवार, 29 अप्रैल 2008

गौतम राजऋषि की ग़ज़लें : रदीफ़ रख काफ़िया रख

(1) कितने कंधों पे खड़ा हुआ फिर वो इतना है बड़ा हुआ तेरी आँखों में चमके है आसमाँ तारों से जड़ा हुआ मेरी किस्मत का सूरज है मेर...

शेर सिंह की कविता : दबंग झूठ अपना काम कर जाता है...

दबंग झूठ अपना काम कर जाता है ० शेर सिंह एक कमजोर कड़ी सारे ढांचे को ढहा सकती है एक कुटिल बुद्धि दुनिया को हिला सकती है । सदविचा...

कान्ति प्रकाश त्यागी की कविता : चूहे का प्रस्ताव

चूहे का प्रस्ताव -डॉ० कान्ति प्रकाश त्यागी एक चूहा शेरनी के पास आया साष्टांग दंडवत कर शीश झुकाया हे ! मधुर भाषिणी...

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2008

शैलेन्द्र चौहान का व्यंग्य: एक दिन उत्तरआधुनिकता के नाम

एक दिन उत्तरआधुनिकता के नाम - शैलेन्द्र चौहान अक्सर मैं सोचता हूँ, जो लिख रहा हूँ वह क्यों लिख रहा हूँ ? किसके लिए लिख रहा हूँ ? यह...

गुरुवार, 24 अप्रैल 2008

रविकांत का आलेख : दर्दे-इश्क़ से दर्दे-डिस्को तक

दर्दे - इश्क़ से दर्दे - डिस्को तक - रविकांत ['बदले जीवन मूल्य' शीर्षक पर केन्द्रित विचार परिक्रमा के प्रवेशांक(अप्रैल २००८) में पू...

बुधवार, 23 अप्रैल 2008

रचना श्रीवास्तव की कविता अपनों के बीच भी कहाँ सुरक्षित नारी है

अपनों के बीच भी कहाँ सुरक्षित नारी है -रचना श्रीवास्तव --------------------------------------------- कहते हैं कि नारी ताड़न की अधिकारी...

मंगलवार, 22 अप्रैल 2008

ताज़ा हिन्दी ईबुक डाउनलोड कड़ियाँ

ताज़े व सम्पूर्ण ईबुक सूची के लिए यहाँ जाएँ रचनाकार पर समय समय पर पीडीएफ ई-बुक प्रकाशित की जाती हैं. इनकी डाउनलोड कड़ियाँ तथा अन्य ई-बुक क...

सीमा सचदेव का कविता संग्रह : मेरी आवाज

कविता संग्रह मेरी आवाज -सीमा सचदेव ****************************************************** दो-शब्द भाषा भावों की वाहिका हो...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------