आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

अनुज नरवाल रोहतकी की ग़ज़लें : चुनरी बनाकर मुझको सीने से लगा लीजे



ग़ज़लें

- डॉ. अनुज नरवाल रोहतकी


1
मुहब्बत की थी तो निभाई तो होती

कोई प्यार की ज्योति जलाई तो होती


भूले से गर खता हो गई थी हमसे

कभी आकर तुमने बताई तो होती


औरों को वफा की सीख देने वाले

ये सीख खुद तूने अपनाई तो होती


वफा का बेवफाई से क्यूं दिया सिला

कमियाँ क्या थी गिनाईं तो होती


'अनुज' मुझ पे लिख डाली किताब तूने

कोई ग़ज़ल खुद पे बनाई तो होती

--------.



2

आदत हो गई है सबकी, जुबान से फिरना आजकल

हो गया है इक शौक, मुहब्बत करना आजकल


दिल हर रोज जाने कितने चेहरों पे मरता है

हो गया है किस कदर आसान मरना आजकल


जिस्म तक ही महदूद क्यों हो गई हर नज़र

क्यों नहीं चाहता कोई दिल में उतरना आजकल


मशहूर होने के लिए ये कैसा दीवानापन है

करते हैं पसन्द नज़रों से भी गिरना आजकल


आँख बंद करके यकीं कर लेते हो सब पर तुम

है बेवकूफी 'अनुज' ऐसा कुछ करना आजकल

--------.



3

आँखों में बसा लीजे

पलकों पे बिठा लीजे


सुर्खी बनाकर मुझको

होठों पे लगा लीजे


फूल बनाकर मुझको

बालों में सजा लीजे


चुनरी बनाकर मुझको

सीने से लगा लीजे


कँगना बनाकर मुझको

हाथों में सजा लीजे


बिंदिया बनाकर मुझको

माथे पर लगा लीजे


सिंदूर बनाकर मुझको

मांग में सजा लीजे


कुछ भी बना लीजे पर

मुझको अपना बना लीजे।

------
संपर्क:


डॉ. अनुज नरवाल रोहतकी
454/33 नया पड़ाव, खाट मंडी, रोहतक - हरियाणा
-भारत

ई-संपर्क:
dr.anujnarwalrohtaki@gmail.com-

टिप्पणियाँ

  1. बहूत अच्छी रचना है !!
    अच्छा लगा पढकर "

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.