रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

वीरेन्द्र जैन के तीन गीत

broken glass (best large)चित्र Flickr सेगीत

--वीरेन्द्र जैन


अगर कहूंगा सही कहूंगा
------------------------
अगर कहूंगा सही कहूंगा
इसीलिए चुप अभी रहूँगा

सभी को मीठी मिठाई सुनना
है कौन जिसको सचाई सुनना
न मुंह को खोला
ना कोई बोला
वो बात में अनकही कहूँगा
इसीलिए चुप अभी रहूँगा

वो चापलूसी दुमें हिलाती
हमें न भाये ठकुर सुहाती
छुपा के उनने रखे हुये जो
वो सारे खाते बही कहूँगा
इसीलिए चुप अभी रहूँगा

परम्पराएं रहीं हमारी
हरी को भी भृगु ने लात मारी
अचेत में चेतना जगाने
जो जैसे समझे वही कहूँगा
इसीलिए चुप अभी रहूँगा

----------

भविष्य की उम्मीद का गीत
-------------------------
नफरत के फैलाने वालों
आपस में लड़वाने वालों
जिस दिन बुद्धि विवेक ज्ञान की बारिशा आयेगी
तेरी नकली सूरत उस दिन ही धुल जायेगी

भय का भूत रहेगा
जब तक यहाँ अंधेरा है
जहाँ डाक्टर नहीं
वहाँ पीरों ने घेरा है
जिस दिन सब बीमारों को औषधि मिल जायेगी
तेरी ढोंगी सूरत उस दिन ही धुल जायेगी

जब तक हैं अभाव
तब तक ढेरों बहकावे हैं
असली मालिक नहीं दिखे तो
सब के दावे हैं
जिस दिन लिखित पढत सब के आगे आ जायेगी
तेरी झूठी सूरत उस दिन ही धुल जायेगी

------------------.

जन्मभूमि आजाद हो गयी
-------------------
जन्मभूमि आजाद हो गयी, अगर अवध में राम की
फिर क्यों नौजवान के आगे खड़ी समस्या काम की

इनकी नहीं अवस्था बदली
बिल्कुल नहीं व्यवस्था बदली
भटक रहे हैं मारे मारे फुरसत नहीं विराम की
जन्मभूमि आजाद हो गयी, अगर अवध में राम की
फिर क्यों नौजवान के आगे खड़ी समस्या काम की

व्यापारी लूटे दिन दूना
अफसर लगा रहे हैं चूना
नेता पूंजीपति खाते हैं अब भी रोज हराम की
जन्मभूमि आजाद हो गयी अगर अवध में राम की

झूठे मन झूठे आन्दोलन
इनसे सुविधा पाते शोषण
सुबह सुबह ये बातें करते रहें डूबती शाम की
जन्मभूमि आजाद हो गयी अगर अवध में राम की

--
संपर्कः
वीरेन्द्र जैन
21 शालीमार स्टर्लिंग रायसेन रोड
अप्सरा टाकीज के पास भोपाल मप्र
विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget