गुरुवार, 15 मई 2008

अनुज नरवाल रोहतकी की नज़्म

Some Pink Bokeh for Bokeh Wednesday!चित्र - Flickr सेनज़्म

डॉ. अनुज नरवाल रोहतकी

जिस्म मरते है, ख़्वाब मरते नहीं
आप क्यूं मेरा यकीन करते नहीं
मां की आंखों में बेटी की शादी का ख़्वाब
बेटा बड़ा आदमी बने, ये पिता जी का ख़्वाब
पोते-पातियों को खिलाना, दादा जी का ख़्वाब
पोते की शादी देखूं, होता है ये दादी का ख़्वाब
आरजू मरती नहीं, ख़्वाब मरते नहीं
आप क्यूं मेरा यकीन करते नहीं
होते है दादी-नानी की कहानी में ख़्वाब
बहुत लाज़मी है ज़िंदगानी में ख़्वाब
छुपे होते हैं हर लफ़्ज़ मानी में ख़्वाब
ये ख़्वाब अपने दिलों, अपनी सांसों की तरह
रेज़ा-रेज़ा होकर बिखरते नहीं
आप क्यूं मेरा यकीन करते नहीं
ख़्वाब, रोशनी और हवा की तरह होते हैं
ख़्वाब, आजाद मिज़ाज़ खुशबू के झोंके हैं
मानिंद-ए-वक्त ये भी कहीं ठहरते नहीं
आप क्यूं मेरा यकीन करते नहीं
ख़्वाब प्रेरणा हैं, ख़्वाब स्त्रोत हैं
हर हकीकत, हकीकत से पहले
समझो एक ख़्वाब ही होती है
सोचो! चांद पर जाने का अगर
हमारे ज़हन में कोई ख़्वाब नहीं होता
तो हम कभी चांद पर उतरते नहीं
आप क्यूं मेरा यकीन करते नहीं
---

संपर्क:
डॉ. अनुज नरवाल रोहतकी
454/33 नया पड़ाव, काठ मंडी, रोहतक - 124001 (हरियाणा) भारत

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------