शुक्रवार, 16 मई 2008

प्रेमनारायण गुप्ता की लघुकथा : युग बदल गया



लघुकथा :

युग बदल गया

- प्रेमनारायण गुप्ता


कल एक अजीब घटना घटी और पूरी दुनिया बदल गई। हुआ यूँ कि कल भगवान का वो कम्प्यूटर खराब हो गया जिसमें हमारे गुनाहों का हिसाब रखा जाता था। इस खराबी के कारण सभी मानव मस्तिष्कों तक ये सूचना संप्रेषित हो गई कि अब भगवान हमारे गुनाहों का हिसाब नहीं रख पा रहा है।

देखते ही देखते दुनिया भर के लोग एकदम बदल गए और दुनिया में पाप और अपराध की बाढ़ आ गई। सरकारें चिंतित हुईं और निर्णय लिया गया कि सभी पुराने कैदियों की सजा मापफ कर उन्हें रिहा कर दिया जाए और नए अपराधियों को जेल में डाल दिया जाए क्योंकि अपराधियों को देखते हुए जेलखाने कम पड़ रहे थे।

धीरे-धीरे सब शांत हो गया। दुनिया पहले से खुशहाल हो गई है। सतयुग आ गया है युग बदल गया है।

----
संपर्क:
प्रेम नारायण गुप्ता
ए डी २६ सी, पीतम पुरा,
दिल्ली - ११००३४

4 blogger-facebook:

  1. वाह! बहुत बढ़िया कल्पना की है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. katha adhuri si lag rahi, par nai soch ke liye badhaiyan

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------