कुमार शैलेन्द्र की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


कविता

- कुमार शैलेन्द्र

गीतों की गन्ध
कौन हवा उड़ा ले गयी,
बारुदी फसलों से-
खेत लहलहा गए।
अनजाने बादल,
मुंडेरों पर छा गए ।।

मर्यादा लक्ष्मण की
हम सबने तोड़ दी,
सोने के हिरनों से
गांठ नई जोड़ दी,

रावण के मायावी,
दृश्य हमें भा गए ।।

स्मृति की गलियों में,
कड़वाहट आई है,
बर्फीली घाटी की
झील बौखलाई है,

विष के संवादों के
परचम लहरा गए ।।

बुलबुल के गांव धूप
दबे पांव आती है,
बरसों से वर्दी में
ठिठुर दुबक जाती है,

अन्तस के पार तक
चिनार डबडबा गए ।।

टेसू की छाती पर
संगीनें आवारा,
पर्वत के मस्तक पर
लोहित है फव्वारा,

राजकुंवर सपनों में
हिचकोले खा गए ।।

---

कवि की अन्य कविताएं पढ़ें उनके ब्लॉग पर : http://www.krshailendra.blogspot.com/

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "कुमार शैलेन्द्र की कविता"

  1. बुलबुल के गांव धूप
    दबे पांव आती है,
    बरसों से वर्दी में
    ठिठुर दुबक जाती है,

    अन्तस के पार तक
    चिनार डबडबा गए ।।

    बेहतरीन रचना..

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. dil ko choo jane waki kavita hai aapki. really very nice poam.

    उत्तर देंहटाएं
  3. dil ko choo jane wali kavita hai aapki. Really a very nice poam.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.