रविवार, 4 मई 2008

हसन जमाल से यूनुस खान की बातचीत

(चित्र में कमल शर्मा, हसन जमाल और यूनुस खान. चित्र - साभार रेडियोनामा)

शेष पत्रिका के संपादक व प्रसिद्ध रचनाकार श्री हसन जमाल से श्री यूनुस खान ने विविध भारती पर शनिवार 4 मई 2008 को यूथ एक्सप्रेस कार्यक्रम में लंबी बातचीत की. रचनाकार के पाठकों के लिए प्रस्तुत है इस बेहद दिलचस्प बातचीत की रेकार्डिंग.

बातचीत का शुरूआती कुछ मिनट का हिस्सा बिजली बंद हो जाने के कारण रेकॉर्ड नहीं हो पाया, जिसका हमें खेद है. बाकी का अंत तक सिलसिलेवार बातचीत वाकई रोचक है व श्रवणीय है.

बातचीत की एमपी 3 फ़ाइल यहाँ से डाउनलोड कर सुनें

बातचीत को नीचे दिए गए प्लेयर पर सीधे ही ऑनलाइन सुनें. सुनने के लिए प्लेयर के प्ले बटन पर क्लिक करें.


संबंधित :

हसन जमाल का तहलका
हसन जमाल का व्यंग्य
हसन जमाल प्रकरण और चौपट स्वामी का गिद्ध दृष्टि संधान
हसन जमाल के पक्ष में
तूतक तूतक तूतिया... अई जमाल होए

5 blogger-facebook:

  1. यह तो आपने बहुत ज़ोरदार काम किया है. मैंने अभी कुछ ही देर पहले यह परसारण सुना था. यूनुस भाई ने बहुत कुशलता से हसन जी से बात की. वे आम तौर पर खुलते नहीं हैं. खुद हसन जी ने इस बात चीत में अपने संकोची स्वभाव का ज़िक्र किया है. यूनुस भाई को इस शानदार बातचीत के लिए बधाई और रचनाकार का आभार इसे स्थायित्व प्रदान करने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी सबेरे-सबेरे इसे पूरा सुना। हसन् जमाल जी एक सरल और ईमानदार सोच के व्यक्तित्व लगे। अच्छी लगी पूरी बातचीत। युनुस जी का शुक्रिया और रतलामीजी का भी। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुक्रिया रवि भाई आपकी वज़ह से हसन जमाल जी को सुनने का अवसर मिला।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रवि,

    ये लिंक नहीं चल रहा है। कृपया देखें।

    शुक्रिया,
    रविकान्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. @रविकान्त - त्रुटि की ओर ध्यान दिलाने का शुक्रिया. दरअसल यह मुफ़्त के माल - लाइफ़लागर पर अपलोड किया था. लगता है अब उसने अपना बोरिया बिस्तरा समेट लिया है :(

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------