साक़िब अहमद की कविताएं


कविताएं

-साकिब अहमद

‘राह’

मैं तन्हा था,
बिलकुल तन्हा.
कोई अपना न था,
कोई सपना न था.
न थी कोई मंज़िल,
न था कोई मकसद.
यूं ही राह चले जा रहा था,
तन्हा.
अचानक एक मोड़ आया,
और तुम मिल गये.
तुम भी तन्हा थे.
तुम्हारे चेहरे पे साफ दिखती थी,
एक उदासी, एक तन्हाई.
फिर दो तन्हा दिल,
हो लिए एक साथ.
दुनिया जैसे बदल सी गयी.
सब सतरंगी लगने लगा.
जिन आंखों में कल तक कोई सपना न था,
उन्हीं आंखों में प्यार भरे सपने सजने लगे.
हमने जीवन भर साथ निभाने के,
लिए कुछ वादें, खायी कुछ कसमें.
अब,
एक मंज़िल थी, एक मकसद था.
और थी,
तुम्हारे जु़ल्फ़ों की छांव.
मैं बहुत थका हुआ था.
तुम्हारी जु़ल्फ़ों की छांव तले,
मुझे नींद आ गयी.
फिर जब एक तेज़ हवा के झोंके से,
मेरी नींद टूटी,
मैंने खुद को फिर तन्हा पाया.
मुझे छोड़ कर तुम,
जाने कहां चली गयी.
जाते-जाते कुछ कहा भी नहीं.
अब,
मेरी जिंदगी फिर वीरान हो गयी.
मैं फिर तन्हा हो गया.
तन्हा बहुत तन्हा.
दिल कहता है बार-बार,
मैं भी तुम्हारे पास हो जाऊं.
लेकिन तुम हो दूर बहुत दूर,
तुम तक पहुंचने की राह कहां पाऊं!
----

‘तुम्हारा साथ’

ख़ुदा करे,
ऐसा पुरसुकून लम्हा,
मेरी जिंदगी में भी जल्द आये.
और मैं भी,
तुम्हारी ही तरह सो जाऊं,
पास, तुम्हारे बिलकुल पा हो जाऊं.
वो लम्हात,
कितने सुहाने होंगे.
अगरचे,
मौत के बाद भी महज़ ख़ुला है,
मगर,
उसमें तुम्हारा साथ तो होगा.
----

‘पल भर को तुम आ जाओ’

सुबह से शाम तक,
दूसरों के लिए कुछ करना है.
जिसमें खुद अपना नक्श नहीं,
रंग उस तस्वीर में भरना है.
जिंदगी क्या है-
सोचने लगता है ज़हन,
रूह पर छा जाते हैं,
दर्द के साये, उदासी का धुआं.
जिंदगी यही है तो,
मौत किसको कहते हैं.
एक तन्हाई, एक अन्तर्द्वंद्व,
एक अजीब सी बेचैनी से,
हर वक्त धीरा रहता हूं मैं.
पल भर को तुम आ जाओ,
बंद होती मेरी आंखों में,
मुहब्बत का एक ख़्वाब सजा आओ.
---
संपर्क:

- साक़िब अहमद
सी/1447/5,
इंदिरा नगर, लखनऊ

ई मेल: saquibdilse@gmail.com

टिप्पणियाँ

  1. आपके ब्लाग में लगातार नये नये लोगों की रचनाये पढने को मिलती है. अच्छा लगता है. अच्छा है यह. मेरी शुभ कामनायें.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.