रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

कृष्ण कुमार यादव की दो कविताएं

कविताएं

k k yadav

-कृष्ण कुमार यादव

 

आटा की चक्की

गाँव की एक अनपढ़ महिला

ने मुझसे पूछा

सुना है, अमरीका ने

आटा चक्की को पेटेंट

करा लिया है

बेटा, इससे क्या होता है?

मैंने बताया

देखो अम्मा

अब हमें आटा चक्की

खोलने से पहले

उनकी इजाजत लेनी होगी।

वह भड़क गई

ऐसा कैसे हो सकता है

यह तो हमारे पुरखों की अमानत है।

मैंने सोचा,

गाँव की एक अनपढ़

महिला भी यह सोचती है

पर पता नहीं ऊपर बैठे

पढ़े-लिखों को कब चेत आयेगा।

----

 

ये इंसान

यह कैसा देश है

जहाँ लोग लड़ते हैं मजहब की आड़ में

नफरत के लिए

पर नहीं लड़ता कोई मोहब्बत की खातिर

दूसरों के घरों को जलाकर

आग तापने वाले भी हैं

पर किसी को खुद के जलते

घर को देखने की फुर्सत नहीं

एक वो भी हैं जो खुद को जलाकर

दूसरों को रोशनी देते हैं

पर नफरत है उन्हें उस रोशनी से भी

कहीं इस रोशनी में उनका चेहरा न दिख जाये

फिर भी वे अपने को इंसान कहते हैं

पर उन्हें इंसानियत का पैमाना ही नहीं पता

डरते हैं वे अपने अंदर के इंसान को देखने से

कहीं यह उनको ही न जला दे।

 

------.

जीवन वृत्त

नाम : कृष्ण कुमार यादव

जन्म : 10 अगस्त 1977, तहबरपुर, आजमगढ़ (उ0 प्र0)

शिक्षा : एम0 ए0 (राजनीति शास्त्र), इलाहाबाद विश्वविद्यालय

विधा : कविता, कहानी, लेख, लघुकथा, व्यंग्य, बाल कविताएं इत्यादि

प्रकाशन : देश की लगभग सभी प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का नियमित प्रकाशन। विभिन्न स्तरीय संकलनों और वेब पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन।

प्रसारण : आकाशवाणी लखनऊ से कविताओं का प्रसारण।

कृतियाँ : अभिलाषा (काव्य संग्रह-2005), अभिव्यक्तियों के बहाने (निबन्ध संग्रह-2006), इण्डिया पोस्ट-150 ग्लोरियस इयर्स (अंगे्रजी-2006), अनुभूतियाँ और विमर्श (निबन्ध संग्रह-2007), क्रान्ति यज्ञ : 1857-1947 की गाथा (2007)। बाल कविताओं का एक संकलन और कहानियों का एक संकलन प्रकाशन हेतु प्रेस में।

सम्मान : विभिन्न प्रतिष्ठित साहित्यिक संस्थानों द्वारा सोहनलाल द्विवेदी सम्मान, कविवर मैथिलीशारण गुप्त सम्मान, महाकवि शेक्सपियर अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान, काव्य गौरव, राष्ट्रभाषा आचार्य, साहित्य मनीषी सम्मान, साहित्यगौरव, काव्य मर्मज्ञ, अभिव्यक्ति सम्मान, साहित्य सेवा सम्मान और भारती-रत्न से अलंकृत। बाल साहित्य में योगदान हेतु भारतीय बाल कल्याण संस्थान द्वारा सम्मानित।

विशेष : सुप्रसिद्ध बाल साहित्यकार डॉ0 राष्ट्रबन्धु द्वारा सम्पादित लोकप्रिय पत्रिका बाल साहित्य समीक्षा एवं इलाहाबाद से प्रकाशित कविता आधारित पत्रिका गुफ्तगू द्वारा कृतित्व पर विशोषांक प्रकाशित।

साहित्य सम्पर्क पत्रिका में सम्पादन सहयोग एवं विभिन्न स्मारिकाओं का सम्पादन।

अभिरूचियाँ : सामाजिक व साहित्यिक कार्यों में रचनात्मक भागीदारी, रचनात्मक लेखन व अध्ययन, बौद्धिक चर्चाओं में भाग लेना, डाक टिकटों का संग्रह।

सम्पर्क : कृष्ण कुमार यादव, भारतीय डाक सेवा, वरिष्ठ डाक अधीक्षक, कानपुर मण्डल, कानपुर-208001

ई-मेलः kkyadav.y@rediffmail.com

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget