आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

कवि कुलवंत के दो गीत

100_7097

गीत

- कवि कुलवंत सिंह

 

अभिलाषा

बन दीपक मैं ज्योति जगाऊँ

अंधेरों को दूर भगाऊँ,

दे दो दाता मुझको शक्ति

शैतानों को मार गिराऊँ ।

 

बन पराग कण फूल खिलाऊँ

सबके जीवन को महकाऊँ,

दे दो दाता मुझको भक्ति

तेरे नाम का रस बरसाऊँ ।

 

बन मुस्कान हंसी सजाऊँ

सबके अधरों पर बस जाऊँ,

दे दो दाता मुझको करुणा

पाषाण हृदय मैं पिघलाऊँ ।

 

बन कंपन मैं उर धड़काऊँ

जीवन सबका मधुर बनाऊँ,

दे दो दाता मुझको प्रीति

जग में अपनापन बिखराऊँ ।

 

बन चेतन मैं जड़ता मिटाऊँ

मानव मन मैं मृदुल बनाऊँ,

दे दो दाता मुझको दीप्ति

जगमग जगमग जग हर्षाऊँ ।

 

 

आओ दीप जलाएँ

आओ खुशी बिखराएँ छाया जहां गम है ।

आओ दीप जलाएँ गहराया जहाँ तम है ॥

 

एक किरण भी ज्योति की

आशा जगाती मन में;

एक हाथ भी कांधे पर

पुलक जगाती तन में;

आओ तान छेड़ें, खोया जहाँ सरगम है।

आओ दीप जलाएँ गहराया जहाँ तम है ॥

 

एक मुस्कान भी निश्छल

जीवन को देती संबल;

प्रभु पाने की चाहत

निर्बल में भर देती बल;

आओ हंसी बसाएँ, हुई आँखे जहां नम हैं।

आओ दीप जलाएँ गहराया जहाँ तम है ॥

 

स्नेह मिले जो अपनो का

जीवन बन जाता गीत;

प्यार से मीठी बोली

दुश्मन को बना दे मीत;

निर्भय करें जीवन जहाँ मनु गया सहम है।

आओ दीप जलाएँ गहराया जहाँ तम है ॥

 

कवि कुलवंत सिंह

टिप्पणियाँ

  1. dono geet bahut sundar hai,jaise charon aur aasha ke deep jagmagaye ho badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dono geet behad achchey hain..
    बन कंपन मैं उर धड़काऊँ

    जीवन सबका मधुर बनाऊँ,

    दे दो दाता मुझको प्रीति

    जग में अपनापन बिखराऊँ
    bahut hi umda bhaav hain.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.