शुक्रवार, 31 अक्तूबर 2008

अनुज खरे का व्यंग्य : एक नेता का पॉलिग्राफिक टेस्ट

व्यंग्य एक नेता का पॉलिग्रॉफ़िक टेस्ट   -- अनुज खरे   आजकल देश में झूठ पकड़ने के पॉलिग्राफिक टेस्ट के बड़े हूल दिए जा रहे हैं। ड...

वीरेन्द्र जैन के दो गीत

गीत १ कोई कबीर अभी जिन्दा है भाट चारणों की बस्ती में कोई कबीर अभी जिन्दा है सब चुप, सबके मुंह पर ताले ऑंखों में स्वारथ के जाले ...

शरद तैलंग की ग़ज़लें

दो ग़ज़लें   ० शरद तैलंग   जो अलमारी में हम अखबार के नीचे छुपाते हैं वही कुछ चंद पैसे मुश्किलों में काम आते हैं।   कभी ऑखों से...

मंगलवार, 28 अक्तूबर 2008

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ की दीवाली कविता : बह उठे ज्योति की धार

बह उठे ज्योति की धार । रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु”’   कच्चे आँगन की पुती दीवारें नन्हें मुन्नों की किलकार । भाव-भीगे सरस हाथ जु...

अश्विनी केशरवानी का विशेष दीवाली आलेख : तुलसी में दियना जलाए हो माय

  तुलसी में दियना जलाए हो माय प्रो . अश्‍विनी केशरवानी दी पावली आज केवल हिन्‍दुओं का ही त्‍योहार ही नहीं है बल्‍कि सभी वर...

सोमवार, 27 अक्तूबर 2008

अरविंद कुमार का दीवाली विशेष आलेख : वर्तमान भारत के द्वंद्व

(कोश, समांतर कोश और द पेंगुइन इंग्लिश-हिंदी/हिंदी-इंग्लिश थिसारस ऐंड डिक्शनरी के रचयिता अरविंद कुमार का यह विशेष आलेख वर्तमान भारत के द्वंद्...

शनिवार, 25 अक्तूबर 2008

अरविंद कुमार का आलेख : शब्द और भाषा

(कोश, समांतर कोश और द पेंगुइन इंग्लिश-हिंदी/हिंदी-इंग्लिश थिसारस ऐंड डिक्शनरी के रचयिता अरविंद कुमार का आत्मकथ्य उन्हीं की जुबानी – “मैं मे...

चतुरानन झा 'मनोज' की निर्गुण प्रार्थना

निर्गुण प्रार्थना नमन करुँ मैं तुच्छ सा सेवक, हे परमेश्वर हे सरकार । चर-अचरों के तुम हो स्वामी, तुम ही सबके पालनहार॥ हे परमेश्वर हे सर...

सीमा सचदेव की दीपावली विषयक बाल रचनाएं

1. धन तेरस नमस्कार बच्चों , अभी त्यौहारों का मौसम चल रहा है दुर्गा पूजा, दशहरा, करवा चौथ, धनतेरस, दीपावली, गोवर्धन पूजा, भैया दू...

शुक्रवार, 24 अक्तूबर 2008

हिमांशु कुमार पाण्डेय का आलेख – करूणोदात्तशील ‘निराला’

  (सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’) करुणोदात्तशील ’निराला‘ -हिमांशु कुमार पाण्डेय   करुणोदात्त शील एक ऐसी सुन्दर डायरी होता है जिसम...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------