रविवार, 30 नवंबर 2008

अनुज नरवाल रोहतकी का आलेख : काश!

  काश! -डॉ. अनुज नरवाल रोहतकी हिन्‍दुस्‍तान की आर्थिक राजधानी कहीं जाने वाली मुंबई को दहशतगर्दों से मुक्‍त करा दिया गया है। यह टिप्...

शनिवार, 29 नवंबर 2008

नन्दलाल भारती की कविताएँ

1-अधिकार उठो वंचित,शोषित मजदूरों, कब तक जीवन का सार गंवाओगे कब तक ढोआगे रिसते जख्‍म का बोझ कब तक व्‍यर्थ आंसू बहाओगे तुम तो अ...

शुक्रवार, 28 नवंबर 2008

सीमा सचदेव : हितोपदेश की कहानियाँ कथा-काव्य शैली में

नमस्कार प्यारे बच्चों , आपके लिए हमने एक अति लघु प्रयास किया है " हितोपदेश " की कुछ कहानियोँ को अत्यन्त सहज -सरल भाषा में कथ...

वीरेन्द्र जैन का आलेख : त्यागी राजऋषि – विश्वनाथ प्रताप सिंह

श्रद्धांजलि विश्वनाथ प्रताप सिंह एक कवि कलाकार राजनीतिज्ञ त्‍यागी राजऋषि -वीरेन्‍द्र जैन विश्वनाथ प्रतापसिंह को भले ही पूरा देश उन...

गुरुवार, 27 नवंबर 2008

सूरज तिवारी मलय की कविता : हसरत

बनना चाहता हूं मैं भी, बारिश की छोटी बूंद ताकि बुझा सकूं सूखी हो रही धरती की प्‍यास बुझा सकूं प्‍यास उन किसानों की जो आज ...

मंगलवार, 25 नवंबर 2008

सीमा गुप्ता की दर्जन भर प्रेम कविताएँ

कविताएँ   - सीमा गुप्ता   "फर्जे-इश्क" बेजुबानी को मिले कुछ अल्फाज भी अगर होते पूछते कटती है क्यूँ आँखों ही आँखों ...

सोमवार, 24 नवंबर 2008

बतख

कहानी अपनी-अपनी उड़ान - कमल सदी के प्रारंभ में यानि कि पंद्रह नवंबर दो हज़ार पाँच के वर्ष भगवान बिरसा मुंडा का जन्‍मदिन मनाते हुए...

कमल की कहानी : अकबर का घर

कहानी अकबर का घर - कमल असमतल, चिकनी सतह पर इधर-उधर फिसलते पारे-सा, अकबर का मन भी किसी एक जगह नहीं टिक पा रहा था। कभी तो उसे लगता ...

विजय कुमार की कविता : गाड़ी

गाड़ी कल खलाओं से एक सदा आई कि , तुम आ रही हो... सुबह उस समय , जब जहांवाले , नींद की आगोश में हो; और सिर्फ़ मोहब्बत जाग रही...

शनिवार, 22 नवंबर 2008

सीताराम गुप्ता का आलेख : असतो मा सद् गमय

‘ असतो मा सद्‌गमय ' में निहित है स्‍वयं को जानने की इच्‍छा ‘‘असतो मा सद्‌गमय'' वेदों से उद्धृत की गई इस पंक्‍ति को हम प्र...

शुक्रवार, 21 नवंबर 2008

कान्तिप्रकाश त्यागी की कविता : अलबम

अलब म पुलिस के सिपाही , टी० वी पर , संगीत का प्रोग्राम देख रहे थे कार्यक्रम देखते समय , डायरी में , कुछ नाम नोट कर ...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------