रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

शिवराज गूजर की लघुकथा : नजरिया

नजरिया

100_8148 (WinCE)

‘‘देखो तो कैसे ठूंस-ठूंस कर भर रखी है सवारियां। कोई मरे तो मरे इनका क्या? इन्हें तो बस सवारियों से मतलब है।’’ आती-जाती बसों की स्थिति पर बगल में खड़े शर्माजी कंडक्टरों और बस मालिकों को कोस रहे थे। इसी दौरान उनकी बस आ गई। उसकी हालत औरों से खराब थी। शर्माजी बस की ओर लफ। मैंने कहा, ‘‘शर्माजी बहुत भीड़ है, पीछे वाली में चले जाना।’’

‘‘पीछे वाली कौन सी खाली आएगी। उसका भी यही हाल होगा। ऐसे इंतजार करता रहा तो जा लिया दफ्तर।’’ बात पूरी होने तक शर्मा जी बस पर लटक चुके थे एक पैर पर।

----

संपर्क:

शिवराज गूजर

१५, हिम्मतनगर, जयपुर

---

चित्र : कलाकृति – साभार वनवासी सम्मेलन, भोपाल

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

बहुत ही अच्‍छी सीख देती कहानी। खाने का बैगन कुछ और होता है बताने का कुछ और।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget