मंगलवार, 18 नवंबर 2008

नारायण भाई देसाई की बापू कथा

एकोहम में विष्णु बैरागी ने नारायण भाई देसाई की पांच दिवसीय बापू कथा का सिलसिलेवार वर्णन किया था. उस वक्त उस कार्यक्रम के वीडियो को इंटरनेट के जरिए आप तक पहुंचाने की बात की गई थी. बापू कथा के संपूर्ण कार्यक्रम की 9 डीवीडी का सेट है. बापू-कथा भागवत कथा से  भी ज्यादा प्रभावी, श्रवण और पारायण योग्य है.

प्रस्तुत है उक्त डीवीडी में से बापू कथा के एक  छोटे से प्रसंग का वीडियो. आप देखेंगे कि नारायण भाई किस तरह तल्लीन होकर कथा सुना रहे हैं - जैसे गांधी अभी भी उनके सामने साक्षात और प्रत्यक्ष खड़े हों:



बापू कथा के बारे में एकोहम में निम्न कड़ियों पर जाकर पढ़ सकते हैं:

4 blogger-facebook:

  1. यहाँ अमरीका आकर भी नारायण भाई बापू कथा और उस समय का सत्य सब के सामने ला रहे हैँ --
    आज आपने इसे नेट पर स्थापित कर दिया रवि भाई ..बहुत बहुत आभार ! मैँ भी सुनकर बहुत
    ज्यादा द्रवित हो गई हूँ ..
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद! बापू कथा के आडियो कहीं अपलोड किये गये है क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  3. नारायण भाई को साक्षात सुनने का मौका मिला था, उनकी हिन्दी सहज, सरल और प्रवाहमान थी. शानदार अनुभव था.


    वीडियो के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. रविजी,
    आपने तो निहाल कर दिया । वीडियो को क्लिक किया और जैसे ही नारायण भाई की आवाज सुनाई तो आंखें बरबस ही बरसने लगीं । मुझे लगा-आपने मेरी वंश बेल को आगे बढा दिया ।
    पूरी प्रस्‍तुति देख पाना इस समय सम्‍भव नहीं रह गया है । रात को ही देखूंगा/सुनुंगा और फिर आपसे सम्‍पर्क करूंगा ।
    आभार फिर से ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------