शिवराज गूजर की लघुकथा : नजरिया

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

(लघु कथा)

100_7125

नजरिया

‘सीट दो की ह तो क्या, थोड़ा-सा खिसककर किसी को बैठा लेंगे तो क्या चला जाएगा? इंसानियत भी कोई चीज होती ह।’

बस में मेरी बगल में खड़े सज्जन सीटों पर बैठे लोगों को कोसते हुए बड़बड़ा रहे थे। अगले स्टॉपेज पर सामने वाली सीट से एक आदमी उठा, तो उन महाशय को भी सीट मिल गई। वे भी मेरी तरह ही दुबले-पतले थे। सीट में थोड़ी जगह दिखाई दे रही थी। इससे मुझे भी थोड़ी उम्मीद जगी।

मैंने उनसे कहा, ‘भाई साहब! थोड़ा खिसक जाओ तो मैं भी अटक जाऊं।’

इतना सुनते ही वे भड़क गए।

बोले, ‘सीट दो की है और हम दो ही बैठे ह। कहां जगह दिख रही ह तुम्हें? अपनी सहूलियत देखते ह सब, दूसरे की परेशानी नहीं समझते। ’

अब मुझे समझ आ गया था कि दो की सीट पर दो ही लोग क्यों बैठे थे।

------

शिवराज गूजर

 

mail….shivraj@gmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "शिवराज गूजर की लघुकथा : नजरिया"

  1. Waah !
    Steek !
    lajawaab !
    Is sankshipt kalewar me poori maansikta chitrit kar dee aapne..Sadhuwaad..

    उत्तर देंहटाएं
  2. वक्त वक्त की बात है. इंसान वक्त के साथ चलता है तो क्या हुआ...

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.