रविवार, 28 दिसंबर 2008

नव वर्ष की कविताएँ

100_7148

 

बाल कविता

नव वर्ष

 

कृष्‍ण कुमार यादव

नव वर्ष की बेला आई

खुशियों की सौगातें लाई

नया कर गुजरने का मौका

सद्‌भावों की नौका लाई

नया वर्ष है, नया तराना

झूमो-नाचो, गाओ गाना

इस वर्ष संकल्‍प है अपना

नहीं किसी को है सताना

बदला साल, कैलेण्‍डर बदला

बदला है इस तरह जमाना

भेजो सबको स्‍नेह निमंत्रण

गाओ नव वर्ष का तराना।

------

कृष्‍ण कुमार यादव

भारतीय डाक सेवा

वरिष्‍ठ डाक अधीक्षक

कानपुर मण्‍डल, कानपुर-208001

kkyadav.y@rediffmail.com

==============================

 

चलो गरीबों नव वर्ष पर्व मनायें हम

 

नवल किशोर कुमार

क्षुधाग्‍नि के लपटों में जल जायें हम,

चलो गरीबों नव वर्ष पर्व मनायें हम।

दिन बीते या बीत जाये पूरा साल,

हम निरीहों का हरदम रहता हाल बेहाल,

भले दिवास्‍वप्‍न देखा करें हम महलों का,

हमारी लाश पर बनता महल अमीरों का।

बेजान कंधों पर असंख्‍य जिम्‍मेवारियां उठायें हम,

चलो गरीबों नव वर्ष पर्व मनायें हम।

किसने लूटा किसने छीना हमारा कौर,

अमीरों की दुनिया में कहां बचा हमारा ठौर,

हम मरते हैं भूख से तो मरते रहें,

उनका काम है लूठना जी भर हमें लूटते रहें।

लूटपाट के दौर में सर्वस्‍व खोने का जश्‍न मनायें हम,

चलो गरीबों नव वर्ष पर्व मनायें हम।

मेहनत हमारा हो और फल उन्‍हें मिलता रहे,

उपर वाले तेरी दुनिया यूं ही चलती रहे,

हैं आजाद हिंद के गुलाम हिन्‍दुस्‍तानी हम,

नेताओं की चक्‍की में सदा पीसते रहे हम,

भ्रष्‍ट शासकों के आत्‍माविहीन गण बन जायें हम,

चलो गरीबों नव वर्ष पर्व मनायें हम।

----

 

नवल किशोर कुमार

ब्रहम्‍पुर, फुलवारीशरीफ, पटना-801505

============

 

गीत

दीवारों पर बस कलैंडर बदला बदला है

वीरेन्‍द्र जैन

 

शाम वही थी सुबह वही है नया नया क्‍या है

दीवारों पर बस कलैंडर बदला बदला है

उजड़ी गली , उबलती नाली ,कच्‍चे कच्‍चे घर

कितना हुआ विकास लिखा है सिर्फ पोस्‍टर पर

पोखर नायक के चरित्र सा गंदला गंदला है

दीवारों पर बस कलैंडर बदला बदला है

दुनिया वही,वही दुनिया की है दुनियादारी

सुखदुख वही,वही जीवन की,है मारामारी

लूटपाट,चोरी मक्‍कारी धोखा घपला है

दीवारों पर बस कलैंडर बदला बदला है

शाम खुशी लाया खरीदकर ओढ़ ओढ़ कर जी

किंतु सुबह ने शबनम सी चादर समेट रख दी

सजा प्‍लास्‍टिक के फूलों से हर इक गमला है

दीवारों पर बस कलैंडर बदला बदला है

....................................................

वीरेन्‍द्र जैन

2/1 शालीमार स्‍टर्लिंग रायसेन रोड

अप्‍सरा टाकीज के पास भोपाल म.प्र.

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------