शनिवार, 31 जनवरी 2009

नन्दलाल भारती का उपन्यास : चांदी की हँसुली

  जाड़े की रात । हाड़फोड़ शीत लहर। सियारों की चिल्‍लाहट । रह रहकर कुत्‍तों का रोना भय पैदा करने को काफी था । ज्‍यों ज्‍यों रात बढ़ती ज...

नरेन्द्र निर्मल के गीत व कविताएँ

नौकरी मिलेगी नहीं छोकरी मिलेगी कहां उफ हू उफ हूं-3 नौकरी मिलेगी नहीं छोकरी मिलेगी कहां यार न मिलेगी प्यार होगी कहां उफ हूं उफ हूं...

शुक्रवार, 30 जनवरी 2009

राकेश कुमार पाण्डेय की कविताएँ

'माटी की परी' खेतों में माटी ढोती, इक अलहड़ सी बाला ने, घर आ उतार कुदाल, माँ से कुछ ऐसे बोली । पेट क्षुधा के हाथों शोषित...

आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' के कुछ गीत

***** गीत २ कागा आया है जयकार करो, जीवन के हर दिन सौ बार मरो... राजहंस को बगुले सिखा रहे मानसरोवर तज पोखर उतरो... सेव...

सोमेश शेखर चन्द्र की कहानी : सफर

बस रूकती, इसके पहले ही वह उससे कूद, रेलवे स्टेशन के टिकट घर की तरफ लपक लिया था। उसकी ट्रेन के छूटने का समय हो चुका था इसलिए वह काफी जल्दी...

कृष्ण कुमार यादव की कविता : हे! राम

हे राम एक बार फिर गाँधी जी खामोश थे सत्‍य और अहिंसा के प्रणेता की जन्‍मस्‍थली ही सांप्रदायिकता की हिंसा में धू-धू जल रही थी ...

गुरुवार, 29 जनवरी 2009

पुरू मालव का आलेख : प्रेमचंद की अज्ञानता या आलोचक की महामूर्खता

  पाखी के दिसम्बर 2008 अंक में श्री रत्नकुमार साम्भरिया का एक लेख पूस की रात और प्रेमचंद की अज्ञानता प्रकाशित हुआ है। उसी संदर्भ में मेरा ...

बुधवार, 28 जनवरी 2009

गौतम कुमार ‘सागर’ की कुछ कविताएँ

मंगल करने वाली मां, कहलाती है मंगला माँ !! एक निवेदन करुँ मैं तुमसे खड़ा हो कर दरबार में . मुझ पर थोड़ी करना कृपा खड़ा मैं भी क...

नन्दलाल भारती का आलेख : वर्तमान समय में साहित्यकारों की भूमिका

साहित्यकार आस्था विश्वास,सामाजिक न्याय एवं दर्शन को सदियों से हस्तानान्तरित करते एवं समय के संवाद को शब्द का अमृतपान कराकर मानव कल्याण हेत...

गणेश लाल मीणा की रपट : रेत पर उदयपुर में संगोष्ठी

उदयपुर। पारम्परिकता रेत के शिल्प को शिथिल नहीं कर सकी और जरायमपेशा समाज पर लिखे जाने के बावजूद यह अतिरंजना से बचता है। सुपरिचित आलोचक एवं...

मंगलवार, 27 जनवरी 2009

सीमा सचदेव का कविता संग्रह : मेरी आवाज भाग -2

भूमिका:- भाषा भावों की वाहिका होती है | मेरी आवाज़ भाग-२ उन भावों का संग्रह है जो समय-समय पर कहीं अंतरमन में उमड़े और लेखनी का रूप ले लिया |उ...

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------