मंगलवार, 21 अप्रैल 2009

कृष्ण कुमार यादव की विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल) पर 2 कविताएँ

 Image028

प्रकृति की लड़ाई

नहीं लड़े जाते अब लम्‍बे-लम्‍बे युद्ध

लड़ती है प्रकृति अब खुद ही लड़ाई

जनसंख्‍या, पर्यावरण असंतुलन, भ्रष्टाचार

और न जाने क्‍या-क्‍या

लो भुगतो इन सबका कहर

कभी सुनामी लहरें

कभी कैटरीना और रीटा

इन सबके बीच

नष्ट होती सभ्‍यताएँ

शायद प्रलय का संकेत है।

 

 

मिट्‌टी का घर

दीवारों पर चढे़ प्‍लास्‍टर को

कुरेदने लगा हूँ

उसके आँचल में छिपी

मिट्‌टी की तलाश में

जिसके साथ बुने थ्‍ो मैंने सपने

जिन पर लिखी थी

आडी़-तिरछी लाइनों से

भविष्य की ताबीर

जिन पर सर टकरा-टकरा कर

मनवाई थी जिदें

न जाने वो मिट्‌टी

कहाँ खो गयी

अब किसे बनाऊँ अपना हमराज

तभी नजर पड़ती है

मिट्‌टी के लोंदे से घर बना

ख्‍ोलते बच्‍चों पर

कदम बढ़ जाते हैं उधर ही

और खो जाते हैं

सोंधी खुशबू में।

---

2 और कविताएँ -

 

टहनियाँ

बाथरूम की खिड़कियों के सहारे

टहनियों का एक गुच्‍छा

सामने आकर छा गया है

नई-नई कोपलों के साथ

अल्‍हड़ अंगड़ाईयाँ लेते हुये

कुछ ही दिनों में वे

बाथरूम की खिड़कियों को

छुपा लेते हैं अपने में

व्‍ही खिड़कियाँ जिन्‍होंने उन्‍हें राह दिखाई

अन्‍दर आने की

विलीन कर देती है

उन्‍हीं के अस्‍तित्‍व को

ऐसा लगता है जैसे

बड़ी-बड़ी पत्‍तियों के छापों वाला

एक खूबसूरत पर्दा

खिड़की पर लहरा रहा है।

---

आईना

आईना

जिसमें हम देखते हैं

अपनी भौतिकता को

पर भौतिकता ही

सत्‍य नहीं

इस भौतिकता से परे भी

मानव कुछ है

लेकिन वह डरता है

इसे देखने से

काश कोई ऐसा

आईना होता

जिसे सामने रख

मानव अपने

आन्‍तरिक सत्‍य को देख पाता

और शायद तब

अपनी सुन्‍दरता-असुन्‍दरता के पैमाने की

खोज कर पाता।

 

 kkyadav (WinCE)

कृष्ण कुमार यादव

भारतीय डाक सेवा

वरिष्ठ डाक अधीक्षक,

कानपुर मण्‍डल,कानपुर-208001

kkyadav.y@rediffmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------