आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

ई-बुक : 1001 सदाबहार चुटकुले

पूर्व में इस ईबुक को स्क्रिब्ड की मुफ्त सेवा पर अपलोड किया गया था, परंतु वह सेवा कुछ समय से सशुल्क हो गई है. अतः इसे फिर से नए स्थल आर्काइव.ऑर्ग पर अपलोड किया गया है. डायरेक्ट डाउनलोड लिंक है - https://archive.org/download/1001HindiJokesEBook/1001-Hindi-Jokes-e-book.pdf टोरेंट से डाउनलोड करने के लिए नीचे कमेंट सेक्शन देखें

टिप्पणियाँ

  1. लिंक देने का शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसे कहीं और अपलोड कर सकते हैं क्या? डाउनलोड करने के पैसे मांग रहा है अब यह साईट.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रशांत, अब यह इतना लोकप्रिय हो गया है कि इसके कई वर्जन टोरेंट पर भी डाउनलोड के लिए उपलब्ध हैं. कुछ कीवर्ड से सर्च करें तो मिल जाएंगे.
    जैसे कि यह -
    http://kat.cr/1001-hindi-jokes-jojo-t10557720.html

    फिर भी, आर्काइव.ऑर्ग पर अपलोड कर लिंक यहाँ लगाता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये लो - आर्काइव.ऑर्ग पर टोरेंट डाउनलोड लिंक -

    https://archive.org/download/1001HindiJokesEBook/1001HindiJokesEBook_archive.torrent

    और डायरेक्ट डाउनलोड लिंक है -
    https://archive.org/download/1001HindiJokesEBook/1001-Hindi-Jokes-e-book.pdf

    एम्बेड कोड मिलते ही यहाँ एम्बेड भी बदल दूंगा.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.