रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

आफरीन खान की एक नज़्म : वक़्त

नज़्‍म

वक़्‍त

 Image026

वक़्‍त से बढ़कर इस जहाँ में
कुछ भी नहीं होता है,
हर रिश्‍ता, हर मुहब्‍बत,
हर शय वक़्‍त के हाथों की
कठपुतली होती है।


वक़्‍त अच्‍छा होता है तो
हर चीज़ मुकम्‍मल होती है,
सारे रिश्‍ते, अपने पराये
सब साथ होते हैं।


हर सुख में हर दुख में
वो कितने करीब होते हैं,
लगता है जैसे ये नाते
हरदम यूं ही साथ निभाएगें,
हर खुशी में, हर ग़म मे
हमारा हौसला ये बढ़ाएंगे।


और एक रोज़ जब वक़्‍त का
मिजाज़ बदलता है
आसमान की बुलन्‍दियों से वो
जमीन पर ला पटकता है,
सारे दोस्‍त अहबाब बदल जाते हैं,
जो कभी दो ज़िस्‍म एक जान थे
वो यार बदल जाते हैं।


जो मुहब्‍बतों का सौदा करते हैं
दुनियाँ के बाजार मे सिर्फ
घाटा ही उठाते हैं,
इस कीमती माल के बदले
आँसू और आहें ही कमाते हैं।


वक़्‍त के हाथों तन्‍हाई का
इनाम पाकर बीते हुए वक्‍त की
यादों को सम्‍भालते सहेजते हुए
आने वाले वक़्‍त के इन्‍तेज़ार में
ज़िन्‍दगी का बचा हुआ
वक़्‍त गुज़ारते चले जाते हैं।

----

आफरीन खांन
राजनीति विज्ञान विभाग
बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय
वाराणसी-221005
Email- khan_vns@yahoo.com

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

bahut hi badhiya badhiya baat aapne kahi hai dil khush ho gaya bhi our aisa pata bhi chala mai akela nahi hu in chijo ka bhugt bhoginahi hu koee our bhi hai

और एक रोज़ जब वक़्‍त का
मिजाज़ बदलता है
आसमान की बुलन्‍दियों से वो
जमीन पर ला पटकता है,
सारे दोस्‍त अहबाब बदल जाते हैं,
जो कभी दो ज़िस्‍म एक जान थे
वो यार बदल जाते हैं।
बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति, बधाई ।

खूबसूरतनज्म के लिए
आफरीन खांन को मुबारकवाद।
रचनाकार पर प्रकाशित करने के लिए
रवि रतलामी को धन्यवाद।

आसमान की बुलन्‍दियों से वो
जमीन पर ला पटकता है,

बात तो सोलह आने सच कही आपने। बस दुआ करती हूँ कि ऐसा मन और ऐसे रिश्ते बने जो वक़्‍त के इस मिजाज़ से परे हों।

vakt ko dekhne ka shi najriya .
ak achhi najm .

Is rachnase ru-b-ru karane ke liye tahe dilse shukriya...waqt se bhadke kaun hai...!

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://shama-kahanee.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

जो मुहब्‍बतों का सौदा करते हैं
दुनियाँ के बाजार मे सिर्फ
घाटा ही उठाते हैं,
इस कीमती माल के बदले
आँसू और आहें ही कमाते हैं।


ITNE ACCHE LEKHAK KI ITNI ACCHI KRITI SHARE KARNE KE LIYE DHANYAVAA !!

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget