दो कविताएँ

-----------

-----------

ज़िन्‍दगी और मौत

आफरीन खान

ज़िन्‍दगी और मौत में फक़त

एक पल का फासला होता है

हर सांस आखिरी हो सकती है

इन्‍सां कुछ भी नहीं कर सकता है

हर बात का वक़्‍त मुकर्रर होता है

हर काम अपने वक़्‍त पर होता है

इंसान क्‍या कुछ नहीं सोचता है

न जाने कितने ख्‍़वाब सजाता है

नादां नहीं जानता कि होता वही है

जो उसकी तक़दीर में लिखा होता है

मौत ऐसा एक तूफान है जो संग

अपने सब कुछ बहा ले जाता है

ज़िन्‍दगी कफ़न में मुँह छुपाती है

हरसू एक सन्‍नाटा पसर जाता है

 

आफरीन खान

राजनीति विज्ञान विभाग

बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय

वाराणसी-221005

Email- khan_vns@yahoo.com

---

 

 

जिज्ञासा

विवेक उपाध्‍याय

जाने क्‍यों रो बैठी दुल्‍हिन!

क्‍यों तोड़ दीं उसने चूड़ियाँ!

मांग पोंछ क्‍यों डाली!

अरे होंठ पर कल ही चढ़ी थी

कहाँ गयी वह लाली!

फूट फूट क्‍यों रोती है

क्‍या हुई किसी से अनबन!

जाने क्‍यों...

अरे अरे दिन चढ़े सो रहा

यह किसका बेटा है!

सब रोते हैं

चीख रहे हैं

फिर भी यह लेटा है।

हुँह

यह कब कर सकता झंडा-वंदन।

जाने क्‍यों...

देखो

इसकी छाती से तो

खून बहा आता है

लेकिन इसको हुआ क्‍या

कुछ समझ नहीं आता है

चलो देखते हैं ।

जग आया अपनापन

जाने क्‍यों...

सुना

आज गुड़िया का पापा आतंकी ने मारा

कान कान से कहते हैं

सुन चुका मुहल्‍ला सारा।

क्‍यों मारा गुड़िया का पापा

समझ न पाया नन्‍हा सा मन।

जाने क्‍यों...

- विवेक उपाध्‍याय

                          vivekjoura@yahoo.in

-----------

-----------

1 टिप्पणी "दो कविताएँ"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.