रविवार, 12 जुलाई 2009

फारूक आफरीदी का व्यंग्य : तारे जमीं पर

farooq afradi

'तारे जमीं पर'-जी, मैं बेशक इस फिल्‍म की बात नहीं कर रहा लेकिन फ़िल्मवालों की बात जरूर कर रहा हूं। जन भावनाएं भुनाने में राजनैतिक दलों को जितनी महारत हासिल है उतनी और किसी वर्ग को नहीं है। दरअसल जन भावनाओं से खिलवाड़ करना इनका शगल और शौक है। इस तरह वे अपना शौक पूरा करने के साथ शोक की स्‍थिति से उभर जाते हैं। जाहिर है जहां मनोरंजन करने वाले लोग होते हैं वहां शोक मनाने की जरूरत ही नहीं पड़ती। राजनैतिक दलों ने ही यह कमाल दिखाया है कि जहां सच्‍चे जनप्रतिनिधियों को विराजमान होना चाहिए वहां गाने-बजाने-नाचने वालों को भर्ती कर दिया जाता है।

जनता की सबसे बड़ी पंचायत को मजाक बनाने का श्रेय अगर किसी को जाता है तो इन दलगत राजनीतिज्ञों को ही है। इन दलों द्वारा सितारों की फिल्‍मी लोकप्रियता तो अब तक आवश्‍यक भुना ली गई लेकिन यह बात भुला दी गई कि लाखों लोगों का प्रतिनिधित्‍व करने वाले फिल्‍मी सांसदों का आम-अवाम से कोई सरोकार नहीं होता। संसद फिल्‍मी अखाड़ा तो नहीं बन सकती लेकिन उन लोगों में आम-अवाम के अरमानों का कबाड़ा जरूर कर दिया।

जनता भी बड़ी कांइया किस्‍म की चीज है। सिर पर बिठाती है तो आसमान पर ले जाती है और गिराती है तो पाताल में पहुंचा देती है। अब देखिए ना कि बेचारे 'वीरु' भाई अपने मतदाताओं की सार-संभाल लेने नहीं आये तो उनकी गुमशुदगी की ही रिपोर्ट दर्ज करा दी गई। अरे भई वे नहीं आये तो नहीं आये। उनकी फिल्‍में देखो, उनके डॉयलॉग सुनो। फिर भी मन न भरे तो बसन्‍ती का डांस देखो। जनता तो जनता लेकिन परिसीमन ने भी कई फिल्‍मी हस्‍तियों का सत्‍यानाश कर दिया।

हमें तो भइया बहुत दुःख हो रहा है कि जिन बेचारों की बालीवुड में मार्केट वेल्‍यू खत्‍म हो गई थी उनका संसद में पुनर्वास तो हो रहा था। वीरू, हरक्‍यूलस दादा दारा, बसन्‍ती, बिहारी बाबू, विनोद खन्‍ना, गोविन्‍दा सब धमाधम कर रहे थे और दूसरे अदाकार भी लहरें गिनते हुए क्‍यू में खड़े अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। बेचारों के सपने ही बिखर कर रह गये जब जनता ने पलक पांवड़े बिछाने की बजाय घास ही नहीं डाला। महानायक चिरंजीवी तो बड़ी पंचायत में कदम ही नहीं रख पाये। सुसरी जनता भी ऊंटनी साबित हुई कि पता ही नहीं चला कि वह किस करवट बैठ गई।

भाई हमारा तो यह मानना है कि संसद में बालीवुड, टॉलीवुड, जॉलीवुड, कॉलीवुड या और भी जो वुड-वुड हैं उनका एक कोटा फिक्‍स कर दिया जाना चाहिए। आजकल तो फिक्‍सिंग का जमाना है फिर सितारे ही बेचारे क्‍यों कुंआरे डोले। फिक्‍सिंग करने वाले सितारे भी बड़ी पंचायत में पहुंच सकते तो धकियाए गए सितारे जमीं पर अच्‍छे लगते हैं क्‍या! सितारे संसद से बाहर हो जाएं- यह तो उनके साथ सरासर नाइंसाफी है। देश की जनता को भी इस बारे में थोड़ा बहुत विचार करना चाहिए। यहां ज्ञानवर्द्धन के लिये बता दें कि ब्रिटेन और अमेरिका में कई फिल्‍मी सितारे राष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री जैसे ऊंचे पदों पर पहुंचे है और बड़ा नाम कमाया है। मौका मिले तो हमारे सितारे भी आसमान के तारे तोड़ सकते हैं। अभी तक नहीं तोड़ पाये तो इसके लिए वे नहीं उनकी पार्टियां कसूरवार हैं। इसके लिए बेचारों को दोष देना कहां तक उचित होगा।

-------.

(फारूक आफरीदी)

ई-916, न्‍याय पथ,

गांधी नगर, जयपुर-302015

ईमेल - farooq.afridy@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------