रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

श्याम गुप्त का एक गीत : कितने इन्द्रधनुष

कारण, कार्य व प्रभाव गीत : गीत की एक नवीन धारा

यह गीत की एक नवीन धारा है, इसमें प्रत्येक काव्य-खन्ड में- विषय विशेष की क्रिया,उसके कारण,व होने वाले प्रभाव का समुचित वर्णन किया जाता है, इसे मैने कारण,कार्य व प्रभाव गीत का नाम दिया है,एक गीत देखिये। शीर्षक है--"कितने इन्द्रधनुष"

पत्थर पर सिर पटक-पटक कर,
धुन्ध धुन्ध जल होजाता है  ।

      जब रवि रश्मि विविध रंगों के,
     ताने-बाने बुन देतीं हैं ।
     किसी जलपरी के आंचल सा,
     इन्द्रधनुष शोभा बिखराता॥ १।
        


पंख लगा उड़ता शीतल जल,
आसमान पर छा जाता है।

     स्वर्ण परी सी रवि की किरणें,
     देह-दीप्ति जब बिखरातीं हैं;
     सप्त वर्ण घूंघट से छन कर,
     इन्द्रधनुष नभ पर छाजाता॥२।


दीपशिखा सम्मुख प्रेयसी का,
कर्णफ़ूल शोभा पाता है।

     दीप रश्मियां झिलमिल-झिलमिल,
     कर्णफ़ूल  संग नर्तन करतीं।
     विविध रंग के रत्नहार सा,
     इन्द्रधनुष आनन महकाता॥३।


कानों में आकर के प्रियतम,
वह सुमधुर स्वर कह जाता है।

     प्रेम-प्रीति ओ विरह अनल सी,
     तन-मन में दीपित हो जाती।
     नयनों मे सुन्दर सपनों का,
     इन्द्रधनुष आकर बस जाता॥४।


मादक नयनों का आकर्षण,
तन-मन बेवश कर जाता है।

     कितने रूप-रंग के पंछी,
     मन बगिया में कुन्जन करते।
     हर्षित हृदय-पटल पर अनुपम-
     मादक इन्द्र- धनुष सज जाता॥५।


भक्ति-प्रीति का नाद अनाहत,
ह्रद-तन्त्री में रच जाता है।

     सकल ज्योति की ज्योतिदीप्ति, वह,
     परमतत्व मन- ज्योति जलाता ।
     आत्म-तत्व में परम-सुरभि का,
     इन्द्र धनुष झंकृत हो जाता ॥६।

-----

                   --------डा. श्याम गुप्त ,के-३४८,आशियाना, लख्ननऊ

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

ek uchchkoti ki rachcna ......bahut hi sundar rachana

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget