रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

रचना दीक्षित की वर्षा, वेदना, प्रणय व अवसाद की कविताएँ

Image136               

 वर्षा  

 
 वर्षा के इस मौसम में  ,मेरा उर घट क्यों रीता है .
  वर्षा के इस मौसम में तो पौधा-पौधा जीता है
दादुर के इस मौसम में क्यों मन की कोयल  गाती है .
उर के कोने- कोने में क्यों कटु संगीत सुनाती  है.
झींगुर के इस मौसम में,मेरी उर वीणा क्यों बजती है
उर वीणा के क्षत-विक्षत तारों को जोड़ा करती है
 
वर्षा के इस मौसम में  ,मेरा उर घट क्यों रीता है .
वर्षा के इस मौसम में तो पौधा-पौधा जीता है .
माना वर्षा के बाद तो हर पत्ता-पत्ता रोता है ,
अपने प्रियतम के जाने पर शोक मनाया करता है.
क्यों वर्षा के इस मौसम में मेरा उर मानव सोता  है,
वर्षा की ठंडी बूंदों से मन आह़त होता रहता है .         
 
 
 
                                 बादल
 
 
जब आसमान पर बादल छाए
                                 तुम याद हमें भी आयी हो.
काले बादल का जमघट
                                 ज्यों  केशावली    लहराई हो .
बादल में बिजली की चम- चम
                                 ज्यों तुम आज कहीं  मुस्काई हो .
सर सर सर सर चले पवन
                                ज्यों चुनरी तुमने लहराई हो .
पानी में मिट्टी की खुशबू
                                 ज्यों साँस तुम्हारी आयी हो .
खिड़की पर बूंदों की छम-छम
                                ज्यों झांझर तुमने झंकायी हो.
ठंडी  बूंदों की वोह सिहरन
                                 ज्यों पास कहीं  तुम आयी हो.
बारिश में वो इन्द्रधनुष
                                ज्यों ली तुमने अंगडाई हो .
पानी की अविरल जल धारा
                                ज्यों तुम,आलिंगन कर आयी हो
मेरी अश्रु धारा में ,
                                ज्यों तुम आज नहा कर आयी हो .
             
 
 
                      अहसास
 
मेरे बालों में रह रह के, महकता बादल.
मेरे होंठों पे,बसने को,मचलता बादल.
मेरे बाजुओं में आकर के,पिघलता बादल.           
मेरी पाजेब से मिलकर के,फिसलता बादल.
ये बादल नहीं,स्पर्ष है किसी का.
जो तन मन भिगोये,ये प्यार है उसी का.
 
मेरी सांसों में आकर के, सुलगता ये बादल
मेरी आँखों से जब तब छलकता,ये बादल.
मेरी धडकनों में रह-रह के धधकता,ये बादल
जिगरे नासूर से रह-रह के रिसता ये बादल.
ये बादल नहीं अवसाद है,किसी का
जो मन को भिगोये,ये अहसास है उसी का    
---
चित्र – तैलरंग पर रेखा की कलाकृति
विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी वर्षा कविता में दिल का दर्द खूबसूरती से मन को भिगोता है |बादल कविता वर्षा का अहसास कराती है |अच्छी रचना |

सुन्दर रचना।आभार।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget