शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009

रचना दीक्षित की कविता – सूर्य का संताप

surya ka santaap

सूर्य का संताप      
मैंने बचपन से आज तक
हर रोज़
सूरज को सुबह औ  शाम
गंगा नहाते देखा है 
जैसे मानो उसने
भीष्म प्रतिज्ञा कर रखी हो 
कि गंगा में डुबकी लगाये बिना 
गंगा के चरण स्पर्श किये बिना 
न तो मैं धरती में प्रवेश करूँगा 
और न ही धरती से बाहर आऊंगा

इधर कुछ दिनों से देखती हूँ 
सूरज कुछ अनमना सा है 
हिम्मत जुटा पूंछ  ही बैठी मैं 
किन सोंचों में गुम रहते हो 
बड़ा दयनीय सा चेहरा बना कर 
बोला मैं सोचता हूँ 
कि भगवन से प्रार्थना करूं 
कि इस धरती पर पानी बरसे
रात दिन पानी बरसे 
और कुछ नहीं तो केवल  
सुबह शाम तो बरसे

मेरे चेहरे पे मुस्कान आ गयी 
आखिरकार इसे भी इन्सान का दुख समझ आ रहा है
फिर सोचा शायद स्वार्थी हो गया है 
खुद  इतनी लम्बी पारी खेलते -खेलते थक गया है 
कुछ दिन विश्राम करना चाहता है 
मेरे चेहरे की कुटिल मुस्कान
देख कर वो बोला 
तुम जो समझ रहे हो वो बात नहीं है 
दरअसल मैं
इस गन्दी मैली कुचैली  गंगा में 
और स्नान नहीं कर सकता

अवाक् रह गयी थी मैं 
पूछा 
अपनी माँ को गन्दा मैला कुचैला कहते 
जबान न कट गयी तेरी 
जवाब मिला 
अपनी माँ को इस हाल में पहुँचाने वाले 
हर दिन उसका चीर हरण करने वाले 
हर दिन उसकी मर्यादा को 
ठेस पहुँचाने वाले 
तुम इंसानों को ये सब करते 
कभी हाँथ पाँव कटे क्या ?

फिर मैं ही क्यों ?
इसी से चाहता हूँ की
सुबह शाम बरसात हो 
तो कम से कम मैं नहाने से बच जाऊँगा 
सीधा दोपहर में चमकूंगा 
अपना सा मुंह ले कर 
कोसती रही मैं 
अपने आप को इन्सान को 

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------