आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन : समीर लाल ‘समीर’ का व्यंग्य - जाने क्यूँ, अखबार देखता हूँ!!

rachanakar-vyangya

(प्रविष्टि क्रमांक - 29)

(महत्वपूर्ण सूचना : प्रतियोगिता की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2009 निकट ही है. अत: अपने व्यंग्य जल्द से जल्द प्रतियोगिता के लिए भेजें. व्यंग्य हेतु नियम व अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://rachanakar.blogspot.com/2009/08/blog-post_18.html देखें)

 

टेलर मास्टर, ये मेरा पुराना फुल पैण्ट है, इसमे से दोनों बच्चों की हाफ पैण्ट निकल जायेगी क्या?

अरे सर, कैसी बात कर रहे हैं?

जल्दीबाजी में फैसला मत लेना, आराम से सोच विचार कर बताओ. पहले भी औरों के टेलर ऐसे निकाल चुके हैं.

हाफ पैण्ट तो निकल आयेंगी मगर हुक, बटन और जिप तो एक ही है.

ओह, वो तो मैने सोचा ही नहीं. उनके टेलर ने न जाने कैसे निकाली होगी?

एक काम करो-छोटे की बिना जिप और बिना हुक वाली नाड़े की बना दो..दोनों खुश हो जायेंगे.

जी, जैसा आदेश. काम शुरु करता हूँ.

अखबार देखा-खबर है कि आन्ध्र प्रदेश से तैलंगाना अलग कर के नया राज्य बनाये जाने का प्रस्ताव है. सुना है कि आंध्र प्रदेश में तेलंगाना राज्य बनाए जाने का विरोध कर रहे विधायकों और सांसदों को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आश्वासन देते हुए कहा कि अभी जल्दबाजी में कोई भी फैसला नहीं लिया जाएगा।

अभी तो बहुत सी फुल पैण्ट हैं, जैसे जैसे पुरानी होती जायेंगी..

रास्ता तो मिल ही गया है.

चलते चलते:

कुछ हादसे हो जाते हैं मेरे साथ..
समझ ही नहीं पाता मैं जज्बात..

-जाने क्यूँ अखबार पढ़ता हूँ मैं...

-समीर लाल ’समीर’

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.