दीप्‍ति परमार की कविताः औरत

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image002

मिट्टी की सहनशीलता लेकर

उपजी है औरत

 

तभी तो रोज-रोज

अपने टूटे सपनों को भी

जोड़ लेती है औरत

 

बार-बार ठोकरें खाकर

फिर से संवरती है औरत

 

सबको जोड़ने में बार-बार

टूटती है औरत

 

मिट्टी में मिलकर भी

अपने आँसुओं से

फिर से

अपने आपको गूँध कर

फिर से

बनती है औरत

---

डॉ. दीप्‍ति बी. परमार

प्रवक्‍ता-हिन्‍दी विभाग

श्रीमती आर. आर. पटेल

महाविद्यालय

राजकोट, गुजरात

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "दीप्‍ति परमार की कविताः औरत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.