शनिवार, 19 दिसंबर 2009

घमंडीलाल अग्रवाल की बाल कविता

IMG_0024

आए जाडे भइया

रोब दिखाते

रंग जमाते

आए जाडे भइया।

थर-थर-थर-थर

कांपे काया

कठिन हो गया जीना,

घडी-घडी अब

शुरू हुआ है

गर्म पेय का पीना,

दूर जा गिरी

कट कर देखो

वर्षा की कनकइया।

ऊनी कपडे

धूम मचाएं

स्वेटर निकली तनके,

बडी देर से

आए भू पर

सूरज जी बन ठन के,

किटकिट किटकिट

दांत गिन रहे

गिनती उफ री दइया।

 

- घमंडीलाल अग्रवाल,-

785/8, अशोक विहार,-

गुडगांव- 122॰॰1, (हरि.)

----

प्रस्तुति -

Deendayal sharma. Hanumangarh Jn. rajasthan.

http://www.deendayalsharma.blogspot.com

3 blogger-facebook:

  1. वाह !
    बहुत प्यारी कविता..........

    अभिनन्दन !

    उत्तर देंहटाएं
  2. घमंडीलाल अग्रवाल (राजीव) को एक ज़माने बाद फिर पढ़ा अच्छा लगा. (यदि ये वहीं है !)

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------