एस. के. पाण्डेय की बाल कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

बच्चों के लिए : तोता और कौआ 

Image078
                      ( १)
तोता बोला कौआ से
                   कांव-कांव बहुत करता है ।
फिरता  रहता है इधर-उधर
                               राम नहीं तू भजता है ।।
कुछ भी नहीं बिचार तुझे
                               भक्ष्या-भक्ष्य तू खाता है ।
भूमि-भार अरु अन्न संहार
                                तुझपे लागू होता है ।।
                      (२)
कौआ बोला तोता भैया
                            तुमको मैं समझाता हूँ  ।
अन्न कहाँ मिलता मुझको
                              डाली पे मैं रहता हूँ  ।।
भक्ष्या-भक्ष्य न बचे मनुज से
                                भूखे ही मैं सोता हूँ ।
बोली भी हथिया न लें
                  सो कांव-कांव मैं करता हूँ  ।।
                       (३)      
भूमि-भार अरु अन्न संहार
                             वालों के न लाले हैं  ।
बाहर के कम काले भी
                        भीतर के बहु काले हैं ।।
कौआ से भी काली करतूतें
                           बहुतेरे करने वाले हैं ।
मेरी करनी छुपी कहाँ है
                            फिर भी बहुत निराले हैं ।।

--- 
                   डॉ. एस. के. पाण्डेय,
                    समशापुर (उ.प्र.) ।
               -------------------------------                                   

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की बाल कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.