रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

समीर लाल ‘समीर’ की ग़ज़लें

(सुविख्यात चिट्ठाकार समीर लाल ‘समीर’ के काव्य संग्रह – बिखरे मोती की पांच प्रतियाँ रचनाकार के हिन्दी व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन में पुरस्कार स्वरूप प्रदान की जाएंगी. प्रस्तुत है उक्त संग्रह की 3 चुनिंदा ग़ज़लें )

(ग़ज़ल 1)


मौत से दिल्लगी हो गई
जिन्दगी अजनबी हो गई

दोस्तों से तो शिकवा रहा
गैरों से दोस्ती हो गई


उसके हंसने से जादू हुआ
तीरगी रोशनी हो गई

सांस गिरवी है हर इक घड़ी
कैसी ये बेबसी हो गई

रात भर राह तकता रहा
गुम कहाँ चाँदनी हो गई

आपका नाम बस लिख दिया
लीजिये शायरी हो गई

अपने घर का पता खो गया
कैसी दीवानगी हो गई
---


(ग़ज़ल 2)

हवाओं के संग में उड़े जा रहे हैं
उन्हें हम लिवाने जा रहे हैं

जो हमने पुकारा तो इठला के बोले
जरा ठहरिये क्यूं मरे जा रहे हैं

कई दिन से ख़त एक ही सिर्फ उनको
लिखे जा रहे हैं लिखे जा रहे हैं

कहा था उन्होंने अँधेरा बहुत है
उसी दिन से बस हम जले जा रहे हैं

मेरे जख़्म देखे हरे जो उन्होंने
वो सावन की बातें किए जा रहे हैं

---.
(ग़ज़ल 3)

हर शाम जिंदगी को फकत काटता रहा
जामों के बाद जाम हर इक नापता रहा

ऐसा कहाँ कि तुमसे मुझे आशिकी नहीं
इक बेवफा से वहमे वफ़ा पालता रहा

कब दोस्तों से थी मुझे उम्मीद साथ की
अपना ही साथ देने से मैं भागता रहा

बेबात क्या कही तुमने ये बात में
बातों में जो छुपी थी वही मानता रहा

बिखरी नहीं ‘समीर’ की दुनिया सजी हुई
ख्वाबों को आँख में लिए मैं जागता रहा.

---.
काव्य संकलन - बिखरे मोती से साभार.
कवि – समीर लाल समीर
पृष्ठ सं. 104, मूल्य 200 रुपए ($15 USD)
प्रकाशक – शिवना प्रकाशन
पीसी लैब, सम्राट कॉम्प्लैक्स बेसमेंट
बस स्टैंड के सामने, सीहोर मप्र 466001

 

---.

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठा जगत के मशहूर हस्ती समीर जी के बिखरे मोती की हर पंक्ति लाज़वाब है..बहुत बढ़िया लगा..धन्यवाद

कब दोस्तों से थी मुझे उम्मीद साथ की
अपना ही साथ देने से मैं भागता रहा

वाह
ये डोल्लर और रुपैया में इतना भेद काहे

कहा था उन्होंने अँधेरा बहुत है
उसी दिन से बस हम जले जा रहे हैं

मेरे जख़्म देखे हरे जो उन्होंने
वो सावन की बातें किए जा रहे हैं

वाह समीर जी आप की ग़ज़ल ने सच में अँधेरा दूर ही कर दिया भले खुद जल कर ही सही। जहाँ तक हरे रंग की बात है सावन के अंधे को तो हरा ही दीखता है भले वो कैसे हुआ ?क्यों हुआ ?वो नहीं जानना चाहता बहुत अच्छी लगीं सभी गज़लें बधाई ।इतनी अच्छी गज़लें प्रकाशित करने के लिए रवि जी का आभार

लाजवाब ग़ज़लें .......... खूबसूरत शेर ...........

हवाओं के संग में उड़े जा रहे हैं
उन्हें हम लिवाने जा रहे हैं


उन्हें हम लिवाने चले जा रहे हैं..


शायद टंकण में रह गया यहाँ.



-बहुत आभार इस प्रस्तुति का और सभी के स्नेह का.

bahut hi khoobsoorat gazlein.

यूँ तो सारी गज़लें बहुत खूबसूरत हैं पर ये पंक्तियाँ - आपका नाम बस लिख दिया , लीजिये शायरी हो गयी है ...बहुत पसंद आया ...

सुन्दर गज़लें।

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget