गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – रवि कांत अनमोल का व्यंग्य : संता सिँह का नववर्ष संकल्प

(प्रविष्टि क्रमांक - 51) स्कूल के दिनों में मेरा एक मित्र था-संता सिँह 'हट के'। नाम तो उसका संता सिँह ही था, 'हट के...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – अतुल चतुर्वेदी का व्यंग्य : कोयले की दलाली में…

(प्रविष्टि क्रमांक - 50) इस बार मैं फिर कटघरे में हूं , मालिक नाराज है । हमेशा की तरह वादी भी वही है और न्यायधीश भी वही । उसका कहन...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – अतुल चतुर्वेदी का व्यंग्य : एक आयोग और सही….

(प्रविष्टि क्रमांक - 49) हमारा देश आयोग प्रधान देश है । कई आयोगों की रिपोर्टें पड़ी धूल खा रही हैं । यदि उन सब रिपोर्टों को इकट्ठा...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – अपराजिता का व्यंग्य : हंस चला कौवे की चाल

(प्रविष्टि क्रमांक - 48) विष्णुलोक में भगवान विष्णु माता लक्ष्मी के साथ बैठे विश्राम कर रहे थे कि तभी नारायण-नारायण की आवाज सुनाई ...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – रविकांत अनमोल का व्यंग्य : गद्यं कवीनां निकषं वदंति

(प्रविष्टि क्रमांक - 47) “गद्यं कवीनां निकषं वदंति” महाकवि दण्डी की यह उक्ति मुझे विचित्र लगती रही है। ऐसे समय में जबकि पद्य छंदशा...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – योगेन्द्र दत्त का व्यंग्य : तनाव से मुक्ति का तनाव

(प्रविष्टि क्रमांक - 46) सब आंखें बंद किए बैठे थे। ”आप सभी ध्यान लगाएं अपनी सांसों पर। काउंट योर बै्रथ (सांसें गिनें अपनी)। आंख...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – दीनदयाल शर्मा का व्यंग्य : गुरू जी का टाइम पास

(प्रविष्टि क्रमांक - 45) एक सरकारी स्कूल का दृश्य। स्कूल परिसर में दरी पर पांच गुरुजन और तीन मैडमें हैं। दो गुरुजन लेटे-लेटे बातों...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन - कुमारेन्द्र सिंह सेंगर का व्यंग्य : स्वर्ग नर्क के बंटवारे की समस्या

(प्रविष्टि क्रमांक - 44) स्वर्ग-नर्क के बँटवारे की समस्या --------------------------------------------     महाराज कु...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन : सीताराम गुप्त का व्यंग्य - मैं तुम्हें एमओ भिजवाता हूँ तुम मुझे सम्मान-पत्र भिजवाओ

(प्रविष्टि क्रमांक - 43)   पुरस्कृत और सम्मानित होना नेताओं का ही नहीं लेखकों और कवियों का भी जन्मसिद्ध अधिकार है और उनके इसी ज...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – श्याम गुप्त का व्यंग्य : अंधी दुनिया

(प्रविष्टि क्रमांक - 42) क्या कहा ! अंधी दुनिया ! जी हाँ , आपके कर्ण पल्लवों ने ठीक ही सुना। वास्तव में बात यही है , सही है और ...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – देवेन्द्र कुमार पाण्डेय का व्यंग्य : स्कूल चलें हम

(प्रविष्टि क्रमांक - 41) "स्कूल चलें हम" चिड़ा, बार-बार चिड़िया की पीठ पर कूदता, बार-बार फिसल कर गिर जाता। &quo...

बुधवार, 30 दिसंबर 2009

सुरेन्द्र अग्निहोत्री की कविताएँ

लम्पट अरे ये लम्पट! क्यों तू गा रहा है अग्निपथ-अग्निपथ! अपने स्वार्थ के लिए किसी का भी पाता सान्निध्य जिसने दी जड़ों को खाद ...

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन – घुघूती बासूती का व्यंग्य : विट्ठल

(प्रविष्टि क्रमांक - 40) (महत्वपूर्ण सूचना : पुरस्कारों में इजाफ़ा – अब रु. 10,000/- से अधिक के पुरस्कार! प्रतियोगिता की अंतिम त...

सोमवार, 28 दिसंबर 2009

यशवन्‍त कोठारी का आलेख - गुजराती-अंग्रेजी-हिन्‍दी के प्रसिद्ध साहित्‍यकार जयन्‍ती एम. दलाल की 75 वीं जयन्‍ती पर चर्चा

अँग़ेज़ी हिन्‍दी व गुजराती के प्रसिद्ध साहित्‍यकार जयन्‍ती एम. दलाल से परिचय अनायास ही ई-मेल के माध्‍यम से हो गया। इन्‍टरनेट पर उनके उपन्‍...

रविवार, 27 दिसंबर 2009

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन : गिरीश पंकज का व्यंग्य – भ्रष्टाचार के खिलाफ अपुन

(प्रविष्टि क्रमांक - 39) (महत्वपूर्ण सूचना : पुरस्कारों में इजाफ़ा – अब रु. 10,000/- से अधिक के पुरस्कार! प्रतियोगिता की अंतिम त...

शनिवार, 26 दिसंबर 2009

व्यंग्य लेखन पुरस्कार आयोजन : अनीता मिश्रा का व्यंग्य - ठंडी हवा भी खिलाफ ससुरी

(प्रविष्टि क्रमांक - 38) (महत्वपूर्ण सूचना : पुरस्कारों में इजाफ़ा – अब रु. 10,000/- से अधिक के पुरस्कार! प्रतियोगिता की अंतिम...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------